ग्रह और ज्योतिष

ग्रह हमारे जीवन, हमारे व्यवहार, विचारों और कार्यों को कैसे प्रभावित करते हैं? वे हमारे जीवन और भाग्य को कैसे नियंत्रित करते हैं, जो सूर्य के चारों ओर घूमते और परिक्रमा करते हैं, और हम से हजारों मील दूर हैं।

हमारा शरीर और मन ग्रहों के चक्रों के अनुसार कार्य करता है, और हम ब्रह्मांड के चक्रों को प्रतिक्रिया देते हैं। ज्योतिष इसका उपयोग संभावित भविष्यवाणियों और हमारे जीवन में समस्याओं के समाधान के लिए एक आधार के रूप में करता है।

ब्रह्मांड में सब कुछ एक दूसरे से जुड़ा हुआ है, और विभिन्न सितारे और ग्रह किसी भी बिंदु पर हमारे जीवन को प्रभावित करते हैं।

सात ज्योतिषीय ग्रह- सूर्य, चंद्रमा, मंगल, बुध, बृहस्पति, शुक्र और शनि को भौतिक रूप से विद्यमान माना जाता है, जबकि राहु और केतु दो गैर-विद्यमान ग्रह हैं। कुंडली/जन्म कुंडली में, प्रत्येक ग्रह की एक सटीक स्थिति और कार्य होता है, क्योंकि वे एक विशेष ऊर्जा का प्रतिनिधित्व करते हैं।

हमारी कुंडली में राशि चक्र और घरों के साथ संयुक्त, ये ग्रह हमारे जीवन में एक विशेष गुण जोड़ते हैं।

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, विभिन्न ग्रह आपके जीवन के विभिन्न पहलुओं को नियंत्रित करते हैं-

ग्रह प्रभाव

सूर्य

प्रभावी व्यक्तित्व

चंद्रमा (चंद्र)

भावनात्मक व्यक्तित्व

मंगल

ऊर्जा और जुनून

बुध

मन और संचार

बृहस्पति (गुरु)

बुद्धि, विकास और भाग्य

शुक्र

प्यार और आकर्षण

शनि

चुनौतियां और भय

राहु

भाग्य और धार्मिक विश्वास

केतु

कर्म संतुलन और आध्यात्मिकता

किसी विशेष जन्म चार्ट में उनकी स्थिति के आधार पर, इन ग्रहों का विभिन्न लोगों पर लाभकारी या हानिकारक प्रभाव हो सकता है। हमारे जीवन पर उनके प्रभावों की पहचान करने के लिए बहुत विस्तृत गणना की आवश्यकता होती है।

विभिन्न ज्योतिषीय बदलाव, जहां ग्रह अपनी स्थिति बदलते हैं, वे हमारे जीवन में समय-समय पर हमारी किस्मत और खुशीयों को प्रभावित करते हैं।

ज्योतिष आयोजन

ग्रहण और ग्रहों के प्रतिगमन के दौरान उनके पूर्ण अस्तित्व का हमारे जीवन पर व्यापक प्रभाव पड़ता है। यह माना जाता है कि जब वे प्रतिगामी होते हैं तो ग्रहों की भूमिकाएं उलट जाती हैं। इसलिए, आने वाले समय में होने वाली विभिन्न ज्योतिषीय घटनाओं के बारे में जागरूक होना बहुत महत्वपूर्ण होता है, कि वे हमारी कुंडली को कैसे प्रभावित करेंगे।

दुनिया भर के ज्योतिषी, न केवल आपके जन्म के समय ग्रहों की स्थिति पर विचार करते हैं, बल्कि भविष्य की भविष्यवाणियां करते हुए प्रतिगामी ग्रहों और पंचांग जैसी ज्योतिषीय घटनाओं की सूची भी बनाते हैं।

आइए, यह समझने की कोशिश करें कि विभिन्न ग्रह प्रतिगामी कैसे होते हैं और ज्योतिषीय भविष्यवाणियों में पंचांग का उपयोग और महत्व क्या है।

Read More

hindi
english