monthly_panchang

नवरात्रि रंग 2018

Year:
date  

नवरात्रि रंग 2018

नवरात्रि का त्यौहार नौ दिन का होता है, हर एक दिन माता दुर्गा के अवतार को समर्पित होता है। यह एक हिंदू त्योहार है जिसे भारत के प्रत्येक हिस्से में बहुत उत्साह से मनाया जाता है। नवरात्रि उत्सव का एक दिलचस्प पहलू रंग हैं जो प्रत्येक दिन से जुड़े होते हैं। नवरात्रि त्योहार के दौरान महिलाओं के बीच एक परंपरा है, कि प्रत्येक दिन नवरात्रि रंग के अनुसार वस्त्र पहने जाते हैं। नवरात्रि पूजा से लेकर गरबा नृत्य करने तक, महिलाएं (विशेष रूप से महाराष्ट्र और गुजरात) नवरात्री रंग के वस्त्र पहनना पसंद करती हैं।
हर साल, नवरात्रि के रंग सप्ताह के दिन के अनुसार बदलते हैं, जब यह त्योहार शुरू होता है। पहला रंग सप्ताह के दिन के अनुसार होता है, बाकी सभी आठ रंग उसी पिछले चक्र का अनुसरण करते हैं। वर्ष 2018 के सभी 9 दिनों के नवरात्रि रंग यहां सूचीबद्ध है।

नवरात्रि समारोह के सभी रंग और सभी नौ दिनों एक विशेष महत्व रखते हैं।

घटस्थापना / प्रतिपदा - दिन 1 (रायल ब्लू)

पहले दिन, भक्त शैलपुत्री माता अर्थात् पहाड़ों की बेटी की पूजा करते हैं (शैल का अर्थ पहाड़ और पुत्री का बेटी है)। माता दुर्गा की पहली अभिव्यक्ति, वह अपने संपूर्ण रूप में माँ प्रकृति है। इनकी सती, पार्वती, भवानी या हेमावती के रूप में भी पूजा की जाती है।

द्वितीय - दिन 2 (पीला)

नवरात्री के दूसरे दिन, भक्तों द्वारा माता ब्रह्मचारिणी की पूजा की जाती है। वह माता दुर्गा का दूसरा अवतार है।

तृतीया - दिन 3 (हरा)

माता दुर्गा का तीसरा रूप चन्द्रघंटा है, तीसरे दिन माता चन्द्रघंटा की पूजा की जाती है। यह साहस और बहादुरी का प्रतीक है और यह अपने भक्तों को किसी भी प्रकार के संकट, पाप या बाधा से बचाती हैं।

चतुर्थी - दिन 4 (ग्रे)

नवरात्रि के चैथे दिन भक्तों द्वारा माता कुशमांडा की पूजा की जाती है। ऐसा माना जाता है कि इन्होनें अपनी मुस्कान के साथ दुनिया को बनाया है। यह अपने भक्तों को अच्छे स्वास्थ्य, विशाल शक्ति और धन प्राप्ति का आशीर्वाद देती है।

पंचमी - 5वां दिन (नारंगी)

नवरात्रि का पांचवां दिन माता स्कंदमाता का दिन है। इन दिन भक्तों द्वारा पूरे उत्साह से माता स्कंदमाता की पूजा की जाती है। इस दिन, कई लोग माता ललिता गौरी के लिए उपवास भी करते हैं।

षश्टी - 6 दिन (सफेद)

छठे दिन, भक्तों द्वारा माता कात्यायनी की पूजा की जाती है। यह शक्ति का छठा रूप है और योद्धा देवीयों में से एक है। माता कात्यायनी माता दुर्गा के सबसे प्रचण्ड अवतारों में से एक है।

सप्तमी - 7वां दिन (लाल)

सातवें दिन की नवरात्रि पूजा माता कालरात्रि को समर्पित है। यह माता दुर्गा का सबसे प्रचण्ड अभिव्यक्ति और बुराई व राक्षसों का विनाश करने वाला रूप है।

अष्टमी - 8वां दिन (आसमानी नीला)

इस दिन, माता दुर्गा के आठवें रूप माता महागौरी, की भक्तों द्वारा पूजा की जाती है। यह माना जाता है कि उनके पास हर प्रार्थना और अपने उपासक की प्रत्येक इच्छा पूरी करने की शक्ति है। यदि कोई इस दिन महागौरी की पूजा करता है, तो उनकी सभी समस्याएं और दुख समाप्त हो जाते हैं।

नवमी - 9वां दिन (गुलाबी)

इस दिन, भक्तों द्वारा माता सिद्धिदात्री की पूजा होती है। इनकी माता दुर्गा के नौवें रूप में पूजा और आराधना की जाती है।

प्रत्येक दिन एक अलग नवरात्रि रंग के साथ भी जुड़ा हुआ है जो समारोह में गहरा महत्व रखता है। नवरात्रि के प्रत्येक दिन यहां विस्तार से देखें क्लिक करें.

hindi
english
flower