नक्षत्र का अर्थ क्या है?

नक्षत्र ज्योतिष शब्द विशेष रूप से वैदिक ज्योतिष में चंद्र भाग का प्रतिनिधित्व करता है। भारतीय ज्योतिष के अनुसार, राशि चक्र में कुल 360 डिग्री का समावेश हैं। इसमें विशेष रूप से 27 नक्षत्र-मंडल या नक्षत्र हैं। इस प्रकार, प्रत्येक नक्षत्र 13 डिग्री और 20 मिनट का होता है। इसके बाद प्रत्येक नक्षत्र को चरण या पाद में समान रूप से विभाजित किया जाता है, प्रत्येक नक्षत्र में 4 पाद होते हैं। ये सभी 27 नक्षत्र मिलकर राशि चक्र के 360 डिग्री के एक चक्र को पूरा करते हैं।

भारतीय ज्योतिष के अनुसार, प्रत्येक नक्षत्र 27 घरों में से हर एक को दर्शाता है। सभी 27 नक्षत्रों के चारों ओर चक्कर लगाने में चंद्रमा को कुल 27 दिन लगते हैं। सूर्य ज्योतिषीय संकेतों का स्वामी है और चंद्रमा नक्षत्रों का स्वामी है।

27 नक्षत्रों के नाम क्या हैं?




नक्षत्रों का महत्व क्या है?

प्रभावी ज्योतिषीय विश्लेषण और सटीक भविष्यवाणियों के लिए वैदिक ज्योतिष में नक्षत्रों का अत्यधिक महत्व है। जन्म नक्षत्र ऐसा नक्षत्र है जो किसी व्यक्ति के जन्म के दौरान अस्तित्व में आता है। जन्म नक्षत्र किसी व्यक्ति की विशेषताओं, लक्षणों, विचार स्वरूप में एक अंतर्दृष्टि प्रदान करता है और दशा अवधि की गणना में मदद करता है।

नक्षत्रों की कहानी क्या है?

हिंदू पौराणिक कथाओं में, राजा दक्षण नाम के एक राजा थे और चंद्रमा ने राजा की सभी 27 बेटियों से शादी की थी। वे सभी 27 नक्षत्र थे। हालांकि, चंद्रमा को केवल रोहिणी नाम की एक रानी के साथ समय बिताना बहुत पसंद था, जिसे चंद्रमा का उत्कर्ष बिंदु भी माना जाता है। अन्य सभी 26 पत्नियों (नक्षत्रों) ने राजा दक्षण से शिकायत की। राजा ने चंद्रमा से बार-बार अनुरोध किया, लेकिन, चंद्रमा ने अपना स्वभाव नहीं बदला। इससे राजा क्रूद्ध हो गया और उसने अंततः चंद्रमा को शाप दे दिया, जिससे उसका आकार छोटा हो गया।

शाप के परिणामस्वरूप, चंद्रमा आकार में छोटा होने लगा। परिणाम अच्छे नहीं थे, अतः सभी देवताओं ने हस्तक्षेप किया और राजा दक्षण को अपना शाप वापस लेने के लिए कहा। सभी देवताओं ने राजा को यह आश्वासन भी दिया कि चंद्रमा समान रूप से अपनी सभी पत्नियों के साथ समान समय बिताएगा। लेकिन चूंकि शाप को पूरी तरह से वापस नहीं लिया जा सकता था, इसलिए इसके एक उपाय के रूप में, राजा दक्षण ने कहा कि चंद्रमा केवल आधे महीने के लिए अपनी शक्ति बनाये रखने में सक्षम होगा, अतः यह प्रमुख कारण है कि चंद्रमा सभी राशि चक्रों की परिक्रमा को समाप्त करके एक महीने में सभी 27 नक्षत्रों को पार करता है, जो आकार में वृद्धि और कमी के कारण पूर्णिमा और अमावस्या का कारण होता है।

hindi
english