मंगल दोष

मंगल दोष गणना हिंदी में

कुजा दोष या चेवई दोषम 

अपना जन्म विवरण दर्ज करें
[ + उन्नत विकल्प / कस्टम स्थान ]

अग्रिम व्यवस्था

DstCorrection

मंगल दोष कैलक्यूलेटर

शनि, मंगल, राहु, केतु और सूर्य को वैदिक ज्योतिष में क्रूर ग्रह के रूप में माना जाता है। किसी व्यक्ति की जन्म कुंडली को प्रभावित करने में, मंगल ग्रह को सभी ग्रहों में से सबसे क्रूर ग्रह माना जाता है। मंगल ग्रह विवाहित जीवन में सबसे अधिक हानिकारक ग्रह है यदि यह प्रतिकूल रूप में आता है।

क्या आप एक मंगलिक हैं?

कुंडली में जब मंगल पहले, द्वितीय, चैथे, सातवें, आठवें या बारहवें घर में स्थित होता है, तो यह मंगल दोष का कारण बनता है। मंगल दोष को चंद्रमा चार्ट और शुक्र चार्ट में लग्न चार्ट के साथ देखा जाना चाहिए। यदि तीनों चार्टों में से कोई भी मंगल ग्रह से पीड़ित नहीं है, तो एक व्यक्ति को ‘गैर-मांगलिक’ माना जाता है। मंगल दोष के लोकप्रिय नाम ‘कुजा दोष’ और ‘भौमा दोष’ हैं। मंगल दोष वाला व्यक्ति ‘मांगलिक’ कहलाता है।

मंगल दोष का मूल्यांकन करते समय उत्तर भारतीय ज्योतिषी दूसरे घर पर विचार नहीं करते हैं। जबकि, जन्म कुंडली में मंगल दोष का मूल्यांकन करते समय दक्षिण भारतीय ज्योतिषी प्रथम घर पर विचार नहीं करते हैं।

हालांकि, मंगल दोष का मूल्यांकन करते समय, एक सांमजस्य है कि दोनों घरों पर विचार किया जाना चाहिए। मंगल दोष का मूल्यांकन करते समय, mPanchang पहले और साथ ही दूसरे घर पर विचार करना पसंद करता है।

मंगल और अन्य ग्रहों के विभिन्न संयोजनों के कारण, कई कुंडलीयों में मंगल दोष पाया जाता है लेकिन उनमें से ज्यादातर मंगल दोष को, मंगल और जन्म के चार्ट में अन्य ग्रहों की स्थिति को देखते हुए निरस्त माना जाता हैं।

यदि मंगल दोष पाया जाता है, तो सभी संयोजन जो दोष को खत्म कर देते हैं, को ध्यान में रखा जाता है। mPanchang कैलक्यूलेटर द्वारा सभी सामान्य और व्यापक नियमों का इस्तेमाल किया गया है।

देखें कि क्या आपमें मंगल दोष है या नहीं, अभी!

Share

share

hindi
english
flower