Rashifal राशिफल
Raj Yog राज योग
Yearly Horoscope 2021
Janam Kundali कुंडली
Kundali Matching मिलान
Tarot Reading टैरो
Personalized Predictions भविष्यवाणियाँ
Today Choghadiya चौघडिया
Anushthan अनुष्ठान
Rahu Kaal राहु कालम

सत्यनारायण व्रत कथा - तैयारी, प्रक्रिया और सभी पांच अध्याय

Satyanarayan Vrat Katha in Hindi

Updated Date : सोमवार, 25 मई, 2020 09:33 पूर्वाह्न

सत्यनारायण व्रत कथा ‘सर्वोच्च सत्यवादी होने’ की पूजा की प्रक्रिया है। अप्रत्यक्ष रूप से इस दिन भगवान विष्णु की पूजा की जाती है और सत्यनारायण व्रत एक प्रतिज्ञा है या संक्षेप में, जिसे मनुष्य अक्सर पूरा करते हैं। सत्यनारायण व्रत कथा मनुष्य को स्वास्थ्य, धन और समृद्धि का आशीर्वाद देती है। सामाजिक कार्यों पर भी कुछ लोग सत्यनारायण व्रत कथा या सत्यनारायण कथा रखना पसंद करते हैं।

सत्यनारायण व्रत

सत्यनारायण व्रत का उल्लेख पहली बार पुराण में किया गया था। स्कंद पुराण में सुता पुराणिक द्वारा रेवा कांड का उल्लेख है और इसे नैमिषारण्य में ऋषियों तक पहुंचाया गया था। प्रत्येक व्यक्ति द्वारा हर बार सत्यनारायण व्रत कथा का पाठ अनिवार्य रूप से हर पूजा के दौरान किया जाता है। सत्यनारायण व्रत भारत के लगभग सभी हिस्सों और राज्यों गुजरात, असम, बंगाल, महाराष्ट्र, तेलंगाना, बिहार, कर्नाटक, आंध्र प्रदेश, ओडिशा और मणिपुर में काफी लोकप्रिय है।

लोग सत्यनारायण व्रत का पालन कब करते हैं?

सत्यनारायण भगवान कथा का पाठ मुख्यतः पूर्णिमा, एकादशी, कार्तिक पूर्णिमा, वैशाख पूर्णिमा, सूर्य ग्रहण या संक्रांति के दौरान किया जाता है। आमतौर पर आषाढ़ चंद्र माह सत्यनारायण व्रत कथा के पाठ के लिए एक अपवाद है। इसलिए, मुख्य रूप से सत्यनारायण पूजा की तिथियां इन व्यक्तिगत अवसरों और अन्य त्योहारों में बहुत अधिक होंगी।

विशेष दिन, यहां तक ​​कि शादी के दिनों, जन्मदिनों, जीवन में हमारी छोटी-छोटी सफलताओं के दौरान, गृहप्रवेश के दौरान, और ऐसे ही कई और छोटे-छोटे अवसर सत्यनारायण पूजा कथा के पाठ का कारण होते हैं।

आप किसी भी दिन सत्यनारायण भगवान की कथा कर सकते हैं, और यह एक पूजा नहीं है जो आप केवल सामान्य अवसरों पर कर सकते हैं, बल्कि किसी भी अवसर पर कर सकते हैं, चाहे वह आपके जीवन में बहुत कम महत्व रखते हैं। विशेष रूप से यह पूर्णिमा पर शुभ है और शाम को पूजा करने के लिए अधिक उपयुक्त है। अतः, आप इस पूजा को शाम को करने का विकल्प भी चुन सकते हैं।

सत्यनारायण व्रत के पालन का विवरण

सत्यनारायण व्रत कथा एक अत्यंत सरल पूजा है। यह किसी के भी द्वारा की जा सकती है। यहां तक ​​कि आप भी इसे कर सकते हैं, और आमतौर पर घर पर सत्यनारायण पूजा करने के लिए पुजारी की आवश्यक नहीं होती है। मूल रूप से, ऋषि नारद मुनि द्वारा यह बताया गया था। पृथ्वी का भ्रमण करते समय, नारद मुनि ने बताया कि पृथ्वी की सतह के चारों ओर मुख्य रूप से कुपोषण के कारण लोग पीड़ित थे।

अतः, वह भगवान विष्णु के पास गए और पृथ्वी की पूरी स्थिति का वर्णन किया। भगवान विष्णु ने भगवान नारद को उन विशेष तरीकों के बारे में बताया, जिनके द्वारा सत्यनारायण व्रत का पालन करने से लोगों को कुपोषण से मरने से बचा सके।

भगवान विष्णु का प्रमुख निर्देश सत्यनारायण व्रत कथा के दौरान बहुत से लोगों- दोस्तों, रिश्तेदारों और पड़ोसियों को आमंत्रित करना था। उन सभी को फल खिलाया जाना था और यह अकेले लोगों की कमियों को दूर कर सकता था।

सत्यनारायण कथा की तैयारी

रीति-रिवाजों और परंपराओं के अनुसार, सत्यनारायण स्वामी कथा के दिन, 48 घंटों के लिए सांसारिक सुखों का त्याग करना चाहिए। पिछले दिन और पूजा के दिन अपने सभी दोस्तों और परिवार को बुलाएं, सुनिश्चित करें कि आपने स्नान के दौरान सिर धोया हो और परिवार के सभी सदस्यों को इसमें भाग लेना चाहिए। इसमें विवाहित जोड़े, अविवाहित दोस्त और रिश्तेदार भाग ले सकते हैं और यह भी सुनिश्चित करें कि आप साफ कपड़े पहनें।

व्रत का पालन करें। स्नान करने और नए कपड़े पहनने के बाद, वेदी के चारों ओर सब कुछ व्यवस्थित करें। पूजा को पूरा करने में लगभग 3 घंटे लगते हैं। आम के पत्तों को मुख्य दरवाजे पर सजाऐं। कुछ लोग गाय के गोबर से वेदी क्षेत्र को साफ करते हैं या आप फर्श को भी साफ कर सकते हैं।

सत्यनारायण पूजा की वस्तुओं को वेदी के पास रखना होता है और मूर्ति को पूर्व-पश्चिम दिशा में वेदी पर रखा जाता है और भक्त पूर्वी दिशा की ओर मुंह करके प्रार्थना करते हैं। कुछ लोग चावल के आटे या अन्य रंगो के साथ फूलों का डिजाइन बनाते हैं। इसके बाद, एक नया सफेद कपड़ा वेदी के ऊपर रखा जाता है और इसके उपर कच्चे चावल बिछाए जाते हैं।

एक छोटा बर्तन वेदी के ऊपर रखा जाता है। यह या तो चांदी, तांबे या पीतल से बना हो सकता है और यह मिट्टी का भी हो सकता है, इसका उपयोग सत्यनारायण कथा समाग्री के लिए किया जा सकता है। इस छोटे बर्तन में एक सुपारी, एक रुपये का सिक्का, कुछ गेहूं या ज्वार रखना होता है। इसके बाद, गंगाजल या साधारण साफ पानी इस बर्तन में भरें। एक कपड़े में नारियल को लपेटकर इस बर्तन के ऊपर रखें। इस बर्तन के उपर नारियल और पानी के बीच 5 आम के पत्तों या 5 अशोक के पत्तों को रख सकते हैं। सुनिश्चित करें कि आप बर्तन के चारों ओर एक लाल धागा लपेटें। स्वास्तिक बनाने के लिए सिंदूर और तेल के मिश्रण का उपयोग करें और इसे चंदन के पेस्ट से सजाएं। इस प्रक्रिया के बाद कलश स्थापना का समापन होता है।

वेदी पर भगवान सत्यनारायण का चित्र रखें। आपको यह उन सभी दुकानों में मिल सकता है, जहां हिंदू धार्मिक वस्तुऐं मिलती हैं।इसके बाद, भगवान सत्यनारायण के सामने कुछ फूल, धूप, फलों का प्रसाद, साफ और अप्रयुक्त थाली में रखें।

सत्यनारायण प्रसाद

आप भगवान को चावल, दाल और सब्जी भेंट कर सकते हैं। सुनिश्चित करें कि भगवान को मांसाहारी आहार अर्पित नहीं करें और सत्यनारायण कथा के दौरान अपने भोजन में भी लहसुन और प्याज के इस्तेमाल से बचें।

मुख्य प्रसाद को शीरा कहा जाता है और सूजी को घी और चीनी में पकाया जाता है और इसे इलायची, काजू, किशमिश और पके हुए केले के साथ सजाया जाता है।

बिहार में, घी और चीनी में गेहूं का आटा भूनते हैं और उसमें फल मिलाते हैं। यह सूखा प्रसाद होता है, जबकि बंगाल में, गेहूं के आटे को समान मात्रा में पानी, घी और चीनी के साथ मिलाते हैं और फिर उसमें चिरोंजी, और अन्य सूखे मेवे डालते हैं। महाराष्ट्र में इसे मराठी शीरा कहा जाता है, गुजरात में इसे गुजराती शीरा कहा जाता है, बंगाल में इसे बंगाली सिन्नी कहा जाता है और पंजाबी में इसे पंजिरी कहा जाता है।

इसमें पंचामृत नाम की भी कोई चीज होती है जिसमें समान मात्रा में कच्चा दूध, दही, घी, शहद और चीनी होती है।

सत्यनारायण पूजा के लिए आवश्यक वस्तुएं

सत्यनारायण व्रत के अवसर पर जिस सत्यनारायण कथा सामग्री की आवश्यकता होती है उनमें शामिल हैंः

हल्दी पाउडर, लाल सिंदूर, नौ जड़ी बूटियों का मिश्रण, अगरबत्ती, कपूर, चंदन का पेस्ट, भगवान सत्यनारायण की तस्वीर, यदि संभव हो तो एक छोटी मूर्ति, गेहूं या ज्वार, 100 पान के पत्ते, 50 सुपारी, 40 सिक्के, 50 बादाम या सूखी खजूर जैसा आप चाहते हैं, 8 नारियल। आपके पास फूल और तुलसी के पत्तों से बनी एक माला भी होनी चाहिए।

आपको दो बर्तनों की आवश्यकता होगी, एक कलश बनाने के लिए और दूसरा अन्य अनुष्ठानों के लिए, दो सपाट प्लेटें, एक घंटी, एक बड़ी वेदी, एक पीला या लाल कपड़ा, एक घी का दीपक, रूई की बत्ती और पंचामृत जिसमें दूध, दही, शहद, चीनी और घी शामिल हो।

शंख बजाऐंः कुछ तुलसी मंजरी और एक हजार तुलसी के पत्ते, एक केले का पेड़ या पत्तियां रखने की कोशिश करें। दो बड़े चम्मच सफेद तिल जो भगवान सत्यनारायण को पसंद हैं और गुलाब जो भगवान सत्यनारायण का पसंदीदा फूल है, यह सत्यनारायण कथा सामग्री के लिए अच्छा होगा।

सत्यनारायण पूजा करने की प्रक्रिया

आप स्वयं घर पर सत्यनारायण पूजा कर सकते हैं या आप एक पुजारी को भी बुला सकते हैं जो आपके लिए पूजा कर सकता है। खुद को शुद्ध करके शुरुआत करें। किसी भी तरीके से पवित्र होने के बाद, भगवान गणेशजी की प्रार्थना करके शुरू करें। गणेशजी वह भगवान हैं जो पूजा के दौरान आने वाली बाधाओं को दूर करते हैं और यह भी सुनिश्चित करते हैं कि अगर पूजा करते समय कुछ त्रुटियां हैं, तो उन पर ध्यान दें।

भगवान गणेश को प्रसाद चढ़ाएं। केला, मोदक (बेसन और चीनी से बना लड्डू), कद्दूकस किया हुआ नारियल, और पूजा करते समय उन पर फूलों की वर्षा करें।

इसके बाद, आपको कलश (भगवान वरुण का प्रतीक) से प्रार्थना करनी चाहिए।

सत्यनारायण व्रत कथा का एक बहुत ही महत्वपूर्ण हिस्सा यह है कि सभी नौ ग्रहों और उनके साथी की आठ दिक्पालकों के साथ प्रार्थना की जाती है। अतः, एक साथ (9+ (9x2) +8+5) संस्थाओं की पूजा की जाती है, इस पूजा के दौरान कुल 40 संस्थाओं से प्रार्थना की जाती है।

प्रत्येक वैदिक भगवान का प्रतिनिधित्व एक अद्वितीय धातु से किया जाता है, क्योंकि आजकल सिक्के कई धातुओं से बनते हैं इसलिए प्रत्येक अतिथि भगवान का प्रतिनिधित्व एक निश्चित सिक्के से किया जाता है। प्रत्येक सिक्के को पान के पत्तों और सुपारी पर रखा जाता है, अक्षत (चावल और थोड़ी-थोड़ी चीजें) और प्रत्येक पत्ते पर प्रसाद के रूप में सूखी खजूर रखी जाती है।

इसके बाद, आपको पंचामृत का उपयोग करके भगवान की मूर्ति को स्नान कराना चाहिए और फिर उस पर गंगाजल डालना चाहिए। मूर्ति को सही क्रम में रखने के बाद, आपको श्री सत्यनारायण के 108 नामों का पाठ करना चाहिए। यदि आपके पास एक तस्वीर है, तो आप इसे गंगाजल का उपयोग करके साफ कर सकते हैं और इसके ऊपर सिंदूर और चंदन का लेप लगा सकते हैं। अब आप मूर्ति को प्रसाद और फूल अर्पित करें।

सत्यनारायण व्रत कथा

भगवान सत्यनारायण की व्रत कथा उन सभी को सुननी चाहिए जो सत्यनारायण व्रत कथा में भाग लेते हैं। कहानी के पांच भाग हैं और इसमें यह निम्न शामिल हैंः

  1. सत्यनारायण पूजा व्रत की उत्पत्ति
  2. सत्यनारायण पूजा व्रत करने के लाभ
  3. यदि सत्यनारायण कथा का सही तरीके से प्रदर्शन नहीं किया जाता है तो हानि हो सकती है।
  4. भगवान की परोपकारिता और प्रसाद का महत्व
  5. अनुष्ठान का मजाक उड़ाने के परिणाम।

सत्यनारायण व्रत कथा के बाद, आपको सत्यनारायण आरती करनी चाहिए। आप कपूर और धूप जलाऐं और नारियल को उपयोग करके उसे लाख के साथ जलाएं। इसे मूर्ति के आस-पास प्रकाश में रखें और पूजा समाप्त होने के बाद, सभी तरह के प्रसाद को मिलाकर लोगों को खिलाएं।

अतिथि देवताओं की संख्या भिन्न हो सकती है, अतः, सुपारी और पान के पत्तों की संख्या भी एक राज्य से दूसरे राज्य में भिन्न हो सकती है।

सत्यनारायण व्रत कथा के पांच अध्याय हैं-

आइए जानें कि प्रत्येक अध्याय में क्या है।

  1. पहला अध्यायः यह सत्यनारायण व्रत कथा की कहानी को वर्णित करता है। ऋषि एक यज्ञ कर रहे थे जो एक हजार वर्षों तक चलने वाला था। यह यज्ञ मानव सभ्यता को लाभान्वित करने के लिए था।

  2. द्वितीय अध्यायः सत्यनारायण पूजा कथा के लाभ इस अध्याय में वर्णित हैं। एक गरीब ब्राह्मण भगवान के पास पहुंचा और भगवान ने उसे स्वयं पूजा करने की सलाह दी। सत्यनारायण पूजा कथा करने के बाद, ब्राह्मण सभी बाधाओं को दूर कर सकता था और अपने जीवन का भरपूर आनंद लेने में सक्षम था। एक लकड़हारा जो ब्राह्मण को पूजा करते देखता था, वह भी धन्य हो गया और आशीर्वाद के महत्व को समझते हुए जब लकड़हारे ने पूजा की, तो उसे भी बहुत लाभ हुआ।

  3. तीसरा अध्यायः जब कोई व्यापारी सत्यनारायण पूजा कहानी के अनुसार सत्यनारायण पूजा करने की प्रतिज्ञा करता है, और उसके बच्चे के जन्म के बाद, उस बच्चे के विवाह तक टाल देता है और बच्चे के विवाहित होने के बाद उसे भूल जाता है तो भगवान उसे दंडित करते हैं। व्यापारी पर झूठा आरोप लग सकता है और उसे मुकदमा झेलना पड़ सकता है, और वह केवल तभी बच सकता है जब व्यापारी की पत्नी उस प्रतिज्ञा को पूरा करती है जो उसने वर्षों पहले की थी। पत्नी द्वारा सफलतापूर्वक व्रत पूरा करने के बाद ही पति अपनी समस्याओं से मुक्त हुआ और जेल से रिहा हुआ।

  4. चौथा अध्यायः चौथे अध्याय में प्रसाद के महत्व और प्रभु के प्रेमपूर्ण स्वरूप को बताया गया है। इसमें आमतौर पर पिछले अध्याय की कहानी लगातार जारी है। जबकि बेटी और पत्नी एक ऐसे अवसर पर स्वामी से प्रार्थना कर रहे थे, जिसे सुनकर पिता वहां पहुंचे, जो अंततः प्रार्थना की उपयोगिता को भी समझ गए थे, फिर भी प्रसाद को स्वीकार किए बिना चले गए। इस कृत्य से दुखी होकर भगवान उस जहाज को श्राप देते हैं जो डूबता जाता है और तभी ऊपर आता है जब पत्नी और बेटी प्रसाद खाते हैं।

  5. अंतिम अध्यायः अंतिम अध्याय सत्यनारायण पूजा कथा के महत्व के बारे में बताता है। कुछ सन्यासी पूजा कर रहे थे और राजा ने उनका प्रसाद फेंक दिया और इस तरह भगवान को राजा पर क्रोध आ गया। अंततः राजा अपना राज्य, अपनी पूरी संपत्ति और अपने परिवार को भी खो देता है। जब राजा प्रसाद ग्रहण करता है तो धीरे-धीरे सभी चीजें उसके पास वापस लौटने लगती हैं।

सत्यनारायण व्रत कथा कुछ घरों में एक आम बात है। कुछ घर ऐसे हैं जहां हर पूर्णिमा पर सत्यनारायण पूजा कथा की जाती है। यह पूजा शुरूआत में एक प्रथा के रूप में शुरू हुई, जहां कुछ अमीर लोगों द्वारा सत्यनारायण पूजा की जाती थी और वे सभी गरीब और जरूरतमंद लोगों को एक शानदार भोजन के लिए बुलाते थे।

सत्यनारायण पूजा कथा एक ऐसा माध्यम था जिसके द्वारा गरीबों को पौष्टिक भोजन परोसा जाता था जिससे उन्हें ताकत बनाए रखने में मदद मिलती थी। आमतौर पर सत्यनारायण पूजा की कहानी के अनुसार सत्यनारायण पूजा प्रसाद में गेहूं का आटा, दूध और घी को बराबर मात्रा में मिलाया जाता है। चिरोंजी के बीज सहित सूखे मेवे और ताजे फलों को इसमें पर्याप्त चीनी के साथ मिलाकर भूखे लोगों को परोसा जाता है। इस भोजन का बहुत अधिक महत्व है और आहार की कमी के कारण रोगों से पीड़ित लोग, इससे राहत पा सकते हैं और साथ ही एक स्वस्थ व जीवित रहते हैं, भले ही वे महीने में 2-3 बार इस भोजन का सेवन कर सकें।

इस प्रकार, अब आधुनिक भारत के उदय के साथ, ऐसे व्यक्ति को ढूंढना मुश्किल होता है, जो मासिक आधार पर गरीबों को खिलाने में रुचि रखते हों। हालांकि, कुछ घरों में सत्यनारायण व्रत कथा आज भी परिवार की भलाई को सुनिश्चित करने के लिए की जाती है, और सभी पांच अध्यायों को पूरा किया जाता है। कुछ लोग पूजा के पूरा होने के बाद पुजारी से अपने हाथों पर रक्षा सूत्र बांधने का भी अनुरोध करते हैं।

हालांकि सत्यनारायण व्रत कथा का मूल्य तेजी से घट रहा है, फिर भी कुछ लोग अभी भी यह सुनिश्चित करने की कोशिश कर रहे हैं कि वे पुराने रीति-रिवाजों और परंपराओं को बनाए रखें। अतः, आप कुछ घर ऐसे देख सकते हैं जहाँ सत्यनारायण व्रत कथा के प्रति श्रद्धा अभी भी संरक्षित है।


Leave a Comment

hindi
english