Rashifal राशिफल
Raj Yog राज योग
Yearly Horoscope 2021
Janam Kundali कुंडली
Kundali Matching मिलान
Tarot Reading टैरो
Personalized Predictions भविष्यवाणियाँ
Today Choghadiya चौघडिया
Anushthan अनुष्ठान
Rahu Kaal राहु कालम

Marriage Yog

Ashubh vivah yog in kundli

Updated Date : सोमवार, 22 फरवरी, 2021 09:09 पूर्वाह्न

 Ashubh Marriage Yog in Kundli - निषिद्ध विवाह योग

विवाह एक महत्वपूर्ण और शुभ संयोग है। यह दो आत्माओं का मिलन है जो साथ-साथ जीवन जीने के लिए एक साथ आते हैं। वे एक खुशीयों भरे और आनंदित जीवन का सपना देखते हैं जहां वे एक साथ आगे बढ़ सकते हैं, संतान पा सकते हैं और प्रेम और रोमांस का आनंद ले सकते हैं। हालांकि, कई बार कुंडली में ग्रहों के योगों से दंपतियों के जीवन पर गहरा असर पड़ता है जो उनके जीवन को बर्बाद कर देता है।

वैदिक ज्योतिष में योग महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यह एक विशिष्ट पहलू है जो किसी व्यक्ति के जीवन को शक्तिशाली तरीके से प्रभावित करता है। योग अनिवार्य रूप से जन्म कुंडली में विशेष ग्रहों का संयोजन हैं जो विशिष्ट परिणामों को जन्म देते हैं। यह तब बनता है जब कोई ग्रह या ज्योतिषीय घर या संकेत प्लेसमेंट या संयोजन या कुछ पहलूओं द्वारा किसी दूसरे के साथ जुड़ा होता है। योग का प्रभाव जीवन के क्षेत्र के आधार पर नकारात्मक या सकारात्मक हो सकता है जो संबंधित ग्रह या ज्योतिषीय घर संकेत देते हैं।

वैदिक ज्योतिष में, 27 महत्वपूर्ण योग हैं जो किसी व्यक्ति के जीवन में शुभ और अशुभ परिणाम दे सकते हैं। इनमें से 8 योग ऐसे हैं, जिन्हें विवाह के लिए अशुभ योग माना जाता है।

कुंडली में अशुभ विवाह योगों की उपस्थिति टकरावों, छोटे-छोटे मामलों पर तर्क-वितर्क, अप्रसन्नता, अलगाव या तलाक, लंबी दूरी के संबंध, बीमार होने, वित्तीय नुकसान, शादी में देरी, वित्तीय स्थिरता की कमी, पारिवारिक परेशानियों, अकेलेपन, कामुकता की निराशा आदि लाती है। अतः, एक शांतिपूर्ण और सामंजस्यपूर्ण विवाह के लिए, ज्योतिषी जोड़ों के बीच प्रेम और विवाह की संगतता की जांच करने के लिए कुंडली मिलान और राशि संगतता को जानने का सुझाव देते हैं।

विवाह के लिए अशुभ योग

वैदिक ज्योतिष के अनुसार, कुंडली में सातवें घर को शादी का घर माना जाता है। इस घर में किसी भी तरह के अशुभ विवाह योग के परिणामस्वरूप विवाह में देरी या विवाह के बाद की परेशानियां होती हैं। निम्नलिखित मुख्य अशुभ योग हैं जो एक जोड़े के विवाह में अव्यवस्था और अप्रसन्नता पैदा कर सकते हैंः

  1. जब मंगल और शुक्र एक ही ज्योतिषीय घर में कमजोर होते हैं, तब जातक विवाहित जीवन में समस्याओं और परेशानियों का अनुभव करते हैं। यह अशुभ योग वैवाहिक अनुकूलता को कमजोर करता है और पति-पत्नी के रिश्ते को अस्थिर बनाता है।
  2. शुक्र की महादशा के दौरान कमजोर ग्रहों की स्थिति पति-पत्नी के बीच आपसी समझ की कमी का कारण हो सकती है। केन्द्र घर में मंगल, केतु और उच्च शुक्र की उपस्थिति विवाह के लिए बेमेल जोड़ी बना सकती है।
  3. यदि कोई ग्रह अपने स्वयं के चिह्न में स्थित है या उच्च का है, तो आपको विवाह के लिए सही साथी खोजने में कठिनाइयां और देरी हो सकती है। सप्तम घर में शनि और राहु जैसे हानिकारक ग्रहों का स्थित होना एक अशुभ योग बनाता है जो दूसरे विवाह की संभावना को बढ़ाता है।
  4. जब सातवें घर का भगवान कुंडली में छठे या आठवें घर में विराजमान हो, तो जोड़े अपने विवाहित जीवन में गंभीर चुनौतियों का सामना करते हैं। पति-पत्नी के बीच मतभेद होते हैं जिससे कभी-कभी अलगाव या तलाक की संभावनाऐं हो जाती है।
  5. सप्तम घर में एक से अधिक हानिकारक ग्रह या एक ही पक्ष का होना या अस्त होना विवाहित जीवन में कष्टकारी अनुभवों का कारण बनता है। इस तरह के जातक कठिन परिस्थितियों से गुजरते हैं और एक दुखों भरा जीवन जीते हैं।
  6. यदि सातवें घर के स्वामी किसी भी अन्य घर स्थित अन्य ग्रहों के साथ ग्रहों का संयोजन बनाते हैं, तो जातक को अपने पारिवारिक जीवन में शांति और खुशी नहीं मिलती है। बारहवें घर में हानिकारक ग्रहों की स्थिति या सातवें घर में हानिकारक पहलुओं के कारण भी परिवार में रिश्तों पर बुरा प्रभाव होता है।
  7. जन्म कुंडली में शुक्र से आठवें या छठे घर में हानिकारक ग्रहों की उपस्थिति दंपति के जीवन को दयनीय बना देती है। यदि सातवें घर का स्वामी अपने ही घर में अस्त होता है, तो भी विवाहित लोग जीवन को सुखी और शांतिपूर्ण बनाए रखने में बाधाओं का अनुभव करते हैं।
  8. कुंडली के चतुर्थ घर में राहु के साथ शनि और मंगल के संयोजन से विवाहित जीवन कष्टमय हो जाता है। इस तरह के व्यक्ति विवाहित जीवन में लंबे समय तक शांति और खुशी का आनंद नहीं ले पाते हैं।
  9. यदि मंगल ग्रह के साथ शुक्र, हानिकारक ग्रहों से पीड़ित है, तो जातक के विवाह के अलावा अन्य संबंध भी हो सकते हैं। वे वासना की भावनाओं से भरे हो सकते हैं।
  10. यदि बुध विवाह से जुड़े घरों में शनि से संबंधित है, तो ऐसे व्यक्ति नपुंसक हो सकते हैं। महिलाओं की कुंडली में इस तरह के अशुभ योग उनकी प्रजनन क्षमता को प्रभावित कर सकते हैं जो आगे चलकर विवाहित जीवन में समस्याओं और दुखों का कारण बन सकते हैं।
  11. यदि कुंडली में शुक्र सातवें या बारहवें घर में सूर्य के साथ स्थित है तो जातकों में यौन संबंधों के प्रति उत्साह में कमी हो सकती है।
  12. दूसरे या आठवें घर में हानिकारक ग्रहों या किसी भी अशुभ लग्न योग की उपस्थिति पति और पत्नी की दीर्घायु को प्रभावित करती है।
  13. राहु या केतु की धुरी 1/7 या 2/8 घरों में होने से दांपत्य जीवन में परेशानी आती है। आठवें घर में मंगल की उपस्थिति साथी की मृत्यु या बीमारी का कारण बन सकती है।
  14. कुंडली के सातवें घर के आसपास पापकर्तरी योग विवाहित जीवन को प्रभावित कर सकता है और परेशानी और झगड़ों का कारण बन सकता है।
  15. नवमांश लग्न और इसके स्वामी, यदि हानिकारक ग्रहों से पीड़ित हैं, तो विवाहित जीवन दुखों और परेशानी भरा हो सकता है। विवाहित जीवन की सफलता इस ज्योतिष योग पर अत्यधिक निर्भर करती है।
  16. उपछाया घरों में दूसरे, सातवें या बारहवें घर के स्वामी की उपस्थिति एक से अधिक विवाह की ओर ले जातर है। धन योग की उपस्थिति भी जातक के जीवन में एक से अधिक विवाहों का कारण बनती है।

अपनी कुंडली में विवाह योगों के बारे में जानना चाहते हैं? अपना बर्थ चार्ट बनाएं और विशेषज्ञ ज्योतिषियों की मदद से पूर्णतः स्पष्ट विश्लेषण प्राप्त करें। अपने विवाहित जीवन में सुख और शांति लाने के लिए कुंडली दोष जैसे मांगलिक दोष के लिए ज्योतिष उपाय भी प्राप्त करें।


Leave a Comment

hindi
english