Rashifal राशिफल
Raj Yog राज योग
Yearly Horoscope 2021
Janam Kundali कुंडली
Kundali Matching मिलान
Tarot Reading टैरो
Personalized Predictions भविष्यवाणियाँ
Today Choghadiya चौघडिया
Anushthan अनुष्ठान
Rahu Kaal राहु कालम

Office Vastu in Hindi | ऑफिस के लिए वास्तु टिप्स

office vastu in hindi

Updated Date : गुरुवार, 06 मई, 2021 09:05 पूर्वाह्न

ऑफिस में बैठने की स्थिति के लिए वास्तु टिप्स

ऑफिस वास्तु शास्त्र कोई नई बात नहीं है। यह प्राचीन विज्ञान का हिस्सा है जो एक सकारात्मक कार्यक्षेत्र के लिए एक मार्गदर्शक के रूप में कार्य करता है। कार्यालय के प्रवेश द्वार से रिसेप्शन तक, पैंट्री/कैंटीन, वॉशरूम, सीढ़ी और कार्यालय में बैठने की पोजिशन, यह सब कुछ वास्तु शास्त्र में शामिल है जिससे काम का अच्छा माहौल बनता है।

देखें व्यवसाय में सफलता पाने के लिए पूजा

हालांकि ऑफिस वास्तु घर के वास्तु शास्त्र की तरह लोकप्रिय नहीं है, यह समझने और इसे लागू करने के लिए एक महत्वपूर्ण पहलू के रूप में आता है। विशेषकर जब आर्थिक अनिश्चितता चरम पर होती है, तो ऑफिस वास्तु शास्त्र आर्थिक उतार-चढ़ाव और अप्रत्याशित नुकसानों को नेविगेट करने के लिए अच्छी तरह से सहायक होता है।

ज्योतिषी से बात करें - प्यार, स्वास्थ्य, धन, करियर से संबंधित समस्याओं के समाधान के लिए।

ऑफिस वास्तु शास्त्र क्या है?

‘वास्तु शास्त्र’ शब्द का अर्थ है ‘वास्तुकला का विज्ञान’। यह एक पारंपरिक भारतीय प्रणाली है जिसका उद्देश्य मातृ प्रकृति के साथ वास्तुकला को एकीकृत करना है। ऑफिस वास्तु शास्त्र वास्तु शास्त्र के सिद्धांतों का पालन करता है और सामंजस्यपूर्ण कार्यस्थल बनाने पर केंद्रित है। यह उन कार्यालयों के लिए वास्तु टिप्स के बारे में बताता है जो यूनिवर्सल तत्वों (पृथ्वी, अग्नि, जल, आकाश और वायु) को संतुलित कर सकते हैं और कार्यस्थल पर अधिकतम सकारात्मक ऊर्जा को आकर्षित कर सकते हैं।

एक पारंपरिक ऑफिस वास्तु चार्ट बनावट या निर्माण पर ध्यान केंद्रित नहीं करता है। यह ऑफिस का माहौल सकारात्मक बनाने पर जोर देता है और एक ऑफिस वास्तु योजना तैयार करता है जिसमें डिजाइन, लेआउट, जगह की व्यवस्था और बेसिक चीजें शामिल है।

वास्तु विशेषज्ञों के अनुसार, यदि आप अपने कार्यस्थल पर समपूर्ण भलाई और भरपूर धन की इच्छा रखते हैं, तो आपको कभी भी ऑफिस वास्तु प्लान के पहलुओं की अनदेखी नहीं करनी चाहिए। आपको वास्तु विशेषज्ञों से परामर्श करना चाहिए और व्यापार के लिए और ऑफिस के लिए वास्तु टिप्स लेने चाहिए।

किसी प्रतिष्ठित ज्योतिषी से अपने ऑफिस के लिए सर्वश्रेष्ठ वास्तु टिप्स जानें।

इस पोस्ट में, हमने उन ऑफिसों के लिए वास्तु टिप्स बताई हैं जिनका पालन ऑफिस खरीदने या निर्माण करने से पहले किया जाना चाहिए। ये ऑफिस वास्तु टिप्स आपको एक दृष्टिकोण प्राप्त करने में मदद कर सकते हैं कि आप अपने व्यवसाय को कैसे बेहतर बना सकते हैं और वास्तु के अनुसार कैसे अपना भाग्य चमका सकते हैं। एक बार यह पढ़ें!

बैठने की व्यवस्था के लिए वास्तु टिप्स

कार्यालय में बैठने की स्थिति को बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है क्योंकि यह कर्मचारियों की मानसिक स्थिति और ऑफिस में उनकी उत्पादकता को सीधे प्रभावित करता है। ऑफिस वास्तु शास्त्र के अनुसार, ऑफिस में सभी के लिए ऑफिस वास्तु शास्त्र दिशानिर्देश हैं, जिनमें मैनेजर, मालिक और अन्य कर्मचारी शामिल हैं।

धन-संपत्ति पाने के लिए मददगार वास्तु टिप्स।

ऑफिस में मैनेजर और मालिकों के बैठने के लिए वास्तु टिप्स

  • व्यापारियों के लिए सबसे अच्छी ऑफिस वास्तु दिशा उत्तर, पूर्व और उत्तर-पूर्व दिशा है। इन दिशाओं में तरक्की होती है और नए अवसरों और नई शुरुआत के द्वार खुलते हैं।
  • वास्तु शास्त्र के सिद्धांतों के अनुसार, टीम लीडर्स को हमेशा उत्तर-पूर्व दिशा की तरफ देखते हुए बैठना चाहिए। हालांकि, मैनेजर्स के केबिन का निर्माण पश्चिम दिशा में किया जाना चाहिए।
  • पूर्व और उत्तर दिशा व्यापार मालिकों के लिए सबसे बेहतर ऑफिस वास्तु दिशा है। उन्हें अपने आप में सकारात्मक ऊर्जा का आह्वान करने के लिए इन ऑफिस वास्तु दिशाओं की ओर देखते हुए बैठना चाहिए।
  • इसके अलावा, ऑफिस वास्तु शास्त्र के अनुसार, ऑफिस वास्तु चार्ट में बैठने की स्थिति के अनुसार पीछे की ओर दीवार होनी चाहिए।
  • मैनेजर और डायरेक्टर के बैठने के स्थान के लिए सबसे अच्छा ऑफिस वास्तु टिप्स दक्षिण, दक्षिण-पश्चिम और पश्चिम दिशा है। ऐसा कहा जाता है कि इन दिशाओं से आने वाली ऊर्जा निर्णय लेने की कुशलता में सुधार करती है और बेहतर व्यावसायिक विकल्प बनाने में मदद करती है।

ऑफिस में कर्मचारियों के बैठने के लिए वास्तु टिप्स

  • उत्तर और पूर्व दिशा को उत्पादकता और कार्यक्षमता बढ़ाने के लिए सबसे उपयुक्त ऑफिस वास्तु दिशा के रूप में जाना जाता है। अतः, ऑफिस वास्तु के अनुसार कर्मचारियों की बैठने की स्थिति उत्तर या पूर्व की ओर देखते हुए होनी चाहिए।
  • रोशनी की किरण कभी भी कर्मचारियों के सिर के ऊपर नहीं होनी चाहिए क्योंकि यह उनके काम को नकारात्मक रूप से प्रभावित कर सकती है और काम से अस्थायी रूप से विचलित कर सकती है।

ऑफिस वास्तु शास्त्र प्लान

ऑफिस एंट्रेंस के लिए वास्तु टिप्स

  • ऑफिस वास्तु शास्त्र के अनुसार ऑफिस में एंट्रेंस के लिए सबसे अच्छी दिशा पूर्व या उत्तर दिशा है। ऑफिस का प्रवेश द्वार उत्तर-पूर्व या उत्तर-पश्चिम दिशा में बना सकते हैं।
  • ऑफिस वास्तु शास्त्र के अनुसार, ये दिशाएँ बहुत शुभ होती हैं। यह आपके व्यवसाय में सकारात्मकता, सफलता और वित्तीय लाभ लाती हैं।
  • इसके अलावा, उत्तर दिशा को धन और समृद्धि के देवता कुबेर की दिशा माना जाता है। अतः, आपको अपना ऑफिस वास्तु प्लान इस तरह से बनाना चाहिए कि आपके कार्यालय का प्रवेश द्वार उत्तर दिशा में हो।
  • ऑफिस के प्रवेश में अंदर जाने वाले रास्ते पर कोई भी बाधक वस्तु न रखें। यह माना जाता है कि प्रवेश द्वार पर कोई भी बाधा भाग्य में बाधक होती है और आपको वित्तीय लाभ पाने में परेशानी होती है।
  • ऑफिस वास्तु शास्त्र के अनुसार, ऑफिस के प्रवेश द्वार को एक आंतरिक दीवार में खोलना प्रतिबंधित है। माना जाता है कि यह सकारात्मक ऊर्जा को आने से रोकती है और नकारात्मकता और बुरी शक्तियों के विकसित होने का कारण बनती हैं।

ऑफिस रिसेप्शन एरिया के लिए वास्तु टिप्स

  • ऑफिस में रिसेप्शन एरिया को हमेशा उत्तर-पूर्व या पूर्व दिशा में सेट करना चाहिए।
  • ऑफिस वास्तु शास्त्र के अनुसार, रिसेप्शनिस्ट के बैठने की स्थिति इस तरह से होनी चाहिए कि वे उत्तर या पूर्व दिशा की ओर देखे।
  • रिसेप्शन एरिया में कंपनी प्रोफाइल या लोगो को दक्षिणी दिशा की दीवार पर लगाया जाना चाहिए। ऑफिस वास्तु शास्त्र विशेषज्ञों के अनुसार, ऑफिस के सामने के दरवाजे पर रिसेप्शन टेबल को तिरछे रूप से रखना शुभ होता है।
  • ऑफिस को फूलों के साथ सजाना पवित्र माना जाता है। आप रिसेप्शन एरिया में फ्रेंच लैवेंडर फूल या हरे जेड फूल रख सकते हैं। ऑफिस में आने वाले लोगों के साथ एक सकारात्मकता और अच्छे संबंध बनाने के लिए प्रवेश द्वार पर चार पत्ती तिपतिया पौधा रखना भी शुभ माना जाता है।

ऑफिस पेंट्री/कैंटीन के लिए वास्तु टिप्स

  • पेंट्री या कैंटीन खाने का स्थान है। ऑफिस वास्तु शास्त्र के अनुसार यह एक महत्वपूर्ण स्थान है क्योंकि यह ऑफिस के कर्मचारियों की ऊर्जा और उत्पादकता को प्रभावित करता है। अतः, ऑफिस पेंट्री को हमेशा ऑफिस वास्तु शास्त्र के अनुसार बताई गई दिशा में ही बनाया जाना चाहिए।
  • ऑफिस में पेंट्री के लिए सबसे अच्छी दिशा दक्षिण-पूर्व है।
  • उत्तर दिशा में कभी भी पेंट्री/कैंटीन का निर्माण नहीं करना चाहिए।
  • पेंटी की दीवारों के लिए नीले रंग के शेड सही हैं क्योंकि यह मन को शांत करता है और शारीरिक ऊर्जा को फिर से जीवंत करता है।
  • पेंट्री की दीवारों पर कभी भी लाल या गुलाबी रंग या उसका कोई भी शेड इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।
  • ऑफिस की उत्पादकता के लिए पेंट्री में हरे पौधे रखना फायदेमंद माना जाता है।
  • ऑफिस की सीढ़ीयों के लिए वास्तु टिप्स
  • ऑफिस की सीढ़ी हमेशा दक्षिण या दक्षिण-पश्चिम दिशा में होनी चाहिए।
  • ऑफिस की सीढ़ी कभी भी ऑफिस के मध्य भाग में नहीं होनी चाहिए। ऑफिस वास्तु चार्ट के अनुसार, बीच में सीढ़ी व्यवसाय में लगातार वित्तीय नुकसान का कारण बन सकती है।
  • सीढ़ी पर हल्के रंगों का इस्तेमाल किया जाना चाहिए।
  • अपने कार्यालय की सीढ़ियों के लिए कभी भी काले या लाल रंग का इस्तेमाल न करें।
  • प्रत्येक सीढ़ी के कोने पर पौधे रखना ऑफिस में सकारात्मक ऊर्जा को आकर्षित करने में फायदेमंद हो सकता है।

घर पर ऑफिस के लिए वास्तु टिप्स

  • घर पर ऑफिस होना एक नया ट्रेंड है जो घर से काम करने की नई अवधारणा से आया है। इसमें लोग अपने ऑफिस को अपने घर के किसी कोने या कमरे में स्थापित करते हैं।
  • घर पर ऑफिस वास्तु के अनुसार, आपको हमेशा इसे अपने घर के दक्षिण-पश्चिम या पश्चिम दिशा में स्थापित करना चाहिए। ऐसा माना जाता है कि ये दोनों ऑफिस वास्तु दिशाएं व्यवसाय या कार्य में स्थिरता और वृद्धि लाती हैं।
  • क्रीम, हल्का पीला, हल्का हरा या हल्का गोल्डन आपके घर पर ऑफिस को पेंट करने के लिए पसंदीदा रंग होना चाहिए।
  • घर पर कार्यालय स्थापित करते समय काले, नीले और इन रंगों के अन्य शेड्स से बचना चाहिए क्योंकि यह नकारात्मकता, खराब स्वास्थ्य और भावनात्मक अस्थिरता लाता है।

व्यवसाय या ऑफिस या घर में सफलता पाने की तलाश कर रहे हैं? हमारे टॉप वास्तु शास्त्र विशेषज्ञों और ज्योतिषियों से ऑनलाइन परामर्श करें और अपने व्यवसाय, ऑफिस और घर के लिए बहुमूल्य जानकारी प्राप्त करें। इसके अलावा, परीक्षण किए गए वैदिक उपायों के माध्यम से वास्तु दोष दूर करने के लिए विशेषज्ञ वास्तु टिप्स प्राप्त करें।


Leave a Comment

hindi
english