Rashifal राशिफल
Raj Yog राज योग
Yearly Horoscope 2021
Janam Kundali कुंडली
Kundali Matching मिलान
Tarot Reading टैरो
Personalized Predictions भविष्यवाणियाँ
Today Choghadiya चौघडिया
Anushthan अनुष्ठान
Rahu Kaal राहु कालम

Sleeping Direction Vastu - Bedroom Vastu Tips in Hindi

Sleeping Direction Bedroom Vastu Tips in Hindi

Updated Date : गुरुवार, 03 जून, 2021 09:27 पूर्वाह्न

बेडरूम वास्तु - वास्तु के अनुसार सोने की दिशा

वास्तु के अनुसार सोने की दिशा, बेडरूम वास्तु, वास्तु के अनुसार बिस्तर की स्थिति, वास्तु के अनुसार सोने की पोजिशन, सोने की पोजिशन के अनुसार वास्तु, सोने की दिशा का वास्तु, शयन कक्ष के लिए वास्तु टिप्स

अच्छी, आरामदायक और समय पर नींद लेना उचित होता है। स्वस्थ और फिट रहने के लिए यह सबसे महत्वपूर्ण चीजों में से एक है जो आपको अपने दैनिक जीवन में चाहिए। चिकित्सा विज्ञान के अनुसार, नींद की कमी से अस्वस्थ दिमाग, मन की उदासीनता और एकाग्रता की कमी हो सकती है। इससे आपकी प्रतिरक्षात्मक शक्ति कम हो सकती है और आपको विभिन्न शारीरिक बीमारियों का शिकार बना सकती है। अतः हमेशा वास्तु के अनुसार सोने की दिशा पर विचार करने की सलाह दी जाती है।

जाने अपने घर में लिए महत्वपूर्ण वास्तु जानकारी

वास्तु के अनुसार सोने और बिस्तर की स्थिति आपको नींद की समस्याओं को दूर करने और अपने बेडरूम या सोने के कमरे में सकारात्मकता लाने में मदद कर सकती है। इस पोस्ट में, आप सोने की सबसे अच्छी स्थिति वास्तु दिशानिर्देश, बेडरूम के लिए वास्तु टिप्स और बेडरूम वास्तु से संबंधित सभी सवालों के जवाब पा सकते हैं जैसे कि हमें किस दिशा में सोना चाहिए? बेडरूम के लिए वास्तु कैसा होना चाहिए? सोने के लिए कौन सी स्थिति सबसे अच्छी है?

वास्तु के अनुसार सोने की सर्वश्रेष्ठ दिशा

दक्षिण दिशा- वास्तु शास्त्र के अनुसार सोने के लिए यह सबसे अच्छी दिशा है। दक्षिण दिशा मृत्यु और न्याय के देवता भगवान यम से संबंधित है। उन्हें धर्मराज के रूप में जाना जाता है और कहा जाता है कि वे धन, सुख और दीर्घायु प्रदान करते हैं। स्लीपिंग पोजीशन वास्तु दिशानिर्देशों के अनुसार, यदि आप दक्षिण दिशा में सिर करके सोते हैं, तो आप अपने जीवन में धन, सुख और समृद्धि प्राप्त करते हैं। इस दिशा में सोना बहुत अच्छा और संतोषजनक होता है। इसके अलावा, दक्षिण अग्नि की दिशा है जो सोते समय शरीर की अशुद्धियों को खत्म करने और आवश्यक पोषक तत्वों के अवशोषण को सुनिश्चित करती है।

 समृद्धि के लिए करे ये उपाय जाने घर की रसोई का वास्तु। 

पूर्व दिशा- सोने की पोजिशन के वास्तु दिशा-निर्देशों के अनुसार यह दिशा बहुत अच्छी मानी जाती है। सोते समय अपना सिर पूर्व दिशा में रखने से एकाग्रता, स्मृति, आध्यात्मिक शक्तियों और मानसिक कल्याण में वृद्धि होती है। छात्रों, शिक्षकों, शोधकर्ताओं और प्रोफेसरों के लिए सोते समय पूर्व दिशा में सिर रखना बेहतर होता है। यह दिशा मानसिक क्षमताओं को बढ़ावा देती है और लोभी शक्ति में सुधार करती है। यह याददाश्त को भी बढ़ाती है और किसी व्यक्ति ने जो भी सीखा है उसे बनाए रखने में मदद करती है। इसके अलावा, स्लीपिंग पोजिशन चुनना जिसमें आपके पैर पूर्व दिशा में हों, आपके जीवन में धन और प्रतिष्ठा लाने में मदद करती है।

पश्चिम दिशा- पश्चिम दिशा में सिर करके सोना भी शुभ होता है। हालांकि यह दिशा दक्षिण और पूर्व दिशा की तरह लाभकारी नहीं है। ऐसा कहा जाता है कि जो लोग सोते समय पश्चिम में सिर रखते हैं उन्हें नाम, प्रसिद्धि, प्रतिष्ठा और प्रचुरता प्राप्त होती है। माना जाता है कि यह दिशा आपके जीवन में नए अवसर लेकर आती है और नकारात्मकता को दूर करती है। नौकरी पेशा लोगों और व्यवसायियों के लिए पश्चिम दिशा सोने के लिए सबसे अच्छी दिशा है। इसके अलावा, पश्चिम में सिर करके सोने से बुरे सपने और डरावने विचार आ सकते हैं। इसलिए वास्तु विशेषज्ञ इस दिशा को तटस्थ मानते हैं। वास्तु के अनुसार सोने की पोजिशन के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए वास्तु विशेषज्ञ से बात करनी चाहिए।

उत्तर दिशा- सोने के लिए उत्तर दिशा उचित नहीं होती है। वास्तु शास्त्र के अनुसार केवल शव का सिर उत्तर दिशा में रखा जाता है, इसलिए इस दिशा में सिर कर सोने से बचना चाहिए। साथ ही यह भी माना जाता है कि इस दिशा में सोने से कोई गंभीर बीमारी और नींद की कमी हो सकती है। इससे हृदय और मस्तिष्क में तनाव पैदा हो सकता है क्योंकि पृथ्वी का चुंबकीय क्षेत्र रक्त में लोहे को प्रभावित करता है और तंत्रिका संबंधी विकारों को ट्रिगर करता है। जो लोग स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों से उबरने की कोशिश कर रहे हैं या अस्वस्थ हैं उन्हें कभी भी उत्तर दिशा में नहीं सोना चाहिए। ऐसा माना जाता है कि ऐसा करने से उनके ठीक होने में बाधा आ सकती है और ठीक होने में अत्यधिक देरी हो सकती है।

वास्तु के अनुसार बिस्तर की सबसे सही पोजिशन

  • बेडरूम वास्तु के अनुसार, आपके बिस्तर के सिरे के लिए पूर्व और दक्षिण सबसे अच्छी दिशा हैं। अपने बिस्तर को कमरे के कोने में कभी भी नहीं रखना चाहिए। ऐसा माना जाता है कि इससे सकारात्मक ऊर्जा कमरे में प्रवाहित होने में बाधित होती है। वास्तु के अनुसार बिस्तर की स्थिति दीवार के मध्य भाग में होनी चाहिए। बिस्तर के चारों ओर घूमने के लिए हमेशा पर्याप्त जगह होनी चाहिए।
  • मास्टर बेडरूम वास्तुः बेडरूम वास्तु के अनुसार, मास्टर बेडरूम अच्छी नींद और परिवार की भलाई में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। अतः वास्तु दिशानिर्देशों के अनुसार बिस्तर की स्थिति दक्षिण या पश्चिम दिशा में होनी चाहिए। बिस्तर को इस तरह रखा जाना चाहिए कि सोते समय आपके पैर उत्तर या पूर्व दिशा की ओर रहें।
  • गेस्ट बेडरूम वास्तुः वास्तु के अनुसार गेस्ट रूम में बिस्तर की स्थिति पश्चिम दिशा की ओर होनी चाहिए। बेडरूम वास्तु के अनुसार पलंग धातु की जगह लकड़ी से बना होना चाहिए। धातु से बना बिस्तर नकारात्मक स्पंदन पैदा करता है।
  • अपने बिस्तर को हमेशा बेडरूम की दक्षिण या पश्चिम की दीवार के सामने रखें। वास्तु शास्त्र के अनुसार बिस्तर की स्थिति के अनुसार, दीवार और बिस्तर के बीच चार इंच की दूरी छोड़ना बेडरूम में सकारात्मक ऊर्जा के बेहतर प्रवाह के लिए अच्छा होता है।

बेडरूम के लिए वास्तु टिप्स

स्वस्थ और समृद्ध जीवन जीने के लिए कुछ बेडरूम वास्तु दिशानिर्देशों की सलाह दी जाती है। यहां बेडरूम के लिए वास्तु टिप्स दिए गए हैं जिनका आपको पालन करना चाहिए।

  • अपने बिस्तर के सामने शीशे का प्रयोग न करें। बेडरूम वास्तु के अनुसार सोते समय आपका प्रतिबिंब अशुभ साबित हो सकता है।
  • बेडरूम में कंप्यूटर, इलेक्ट्रॉनिक उपकरण, मोबाइल फोन और टीवी नहीं रखना चाहिए। यदि इन चीजों को रखा जाता है तो उन्हें उचित दूरी पर होना चाहिए ताकि वे आपकी नींद को प्रभावित न करें।
  • विवाहित लोगों को उत्तर-पूर्व दिशा में सोने से बचना चाहिए क्योंकि इससे संतान प्राप्ति में बाधा आती है। वास्तु के अनुसार दक्षिण-पूर्व दिशा में सोना भी वर्जित है।
  • बेडरूम में अव्यवस्थित, टूटी-फूटी चीजें या अनुपयोगी चीजें न रखें। बेडरूम वास्तु के अनुसार, बेडरूम में अव्यवस्था सकारात्मक ऊर्जा के प्रवाह को रोकती है और घर में अशांति पैदा करती है।
  • बेडरूम को हमेशा हल्के रंगों जैसे ऑफ-व्हाइट, पिंक या क्रीम कलर से पेंट करना चाहिए। बेडरूम वास्तु शास्त्र के अनुसार बेडरूम में गहरे रंगों का उपयोग नहीं करना चाहिए।
  • बेडरूम में मृत पूर्वजों, मंदिर, टूटी-फूटी चीजों, लोहे का बना बेड, ऊपरी बीम और बिस्तर के ऊपर गोलाकार आकृति नहीं लगानी चाहिए।

अच्छी नींद के लिए वास्तु टिप्स

  • सोते समय कभी भी सिर के पास वाली खिड़की को खुला न रखें।
  • सकारात्मक ऊर्जा के प्रवाह के लिए सप्ताह में एक बार नमक के पानी से बेडरूम के फर्श को साफ करें।
  • अगर आप शादीशुदा हैं या विवाहित हैं तो हमेशा डबल बेड पर सिंगल गद्दे का इस्तेमाल करें।
  • बेडरूम वास्तु के अनुसार, अपने बेडरूम में अलमीरा को पश्चिम या दक्षिण की दीवार के सामने रखें।
  • बेडरूम में कभी भी गहरे रंग के फर्नीचर का इस्तेमाल न करें।
  • अनिद्रा से बचने के लिए दक्षिण-पूर्व दिशा में पानी से भरा बर्तन नहीं रखना चाहिए।
  • दरवाजे की ओर सिर करके न सोएं। वास्तु दिशानिर्देश के अनुसार सोने की यह पोजिशन, बुरे सपने और नकारात्मक विचार लाती है।

वास्तु के अनुसार बेडरूम के लिए सर्वश्रेष्ठ दिशा

घर में बेडरूम बनाने के लिए सबसे सही दिशा दक्षिण-पश्चिम दिशा है। बेडरूम वास्तु टिप्स के अनुसार, यह दिशा घर में समृद्धि और अच्छे स्वास्थ्य को आकर्षित करने के लिए अच्छी होती है। उत्तर-पूर्व या दक्षिण-पूर्व जैसी दिशाओं से बचना चाहिए। वास्तु शास्त्र विशेषज्ञों का कहना है कि दक्षिण-पूर्व दिशा विवाहित लोगों के बीच कलह का कारण बनती है जबकि उत्तर-पूर्व दिशा घर के मालिक के स्वास्थय को प्रभावित करती है। बच्चों के बेडरूम के लिए सबसे अच्छी दिशा घर का पूर्व या उत्तर-पश्चिम हिस्सा होता है। उत्तर दिशा को परिवार के प्रत्येक सदस्य के बेडरूम के लिए सटीक दिशा माना जाता है।

वास्तु शास्त्र वास्तुकला का विज्ञान है जो घर में सकारात्मकता लाता है। वास्तु के अनुसार जीवन में अच्छा स्वास्थ्य, अच्छी मानसिकता और शांति प्राप्त करने के लिए बेडरूम वास्तु टिप्स और सोने की दिशा का पालन करें। आप वास्तु और ज्योतिष परामर्श ऑनलाइन भी प्राप्त कर सकते हैं और वास्तु विशेषज्ञों की मदद से कार्यालय और घर के लिए और अधिक वास्तु टिप्स जान सकते हैं।


Leave a Comment

hindi
english