Rashifal राशिफल
Raj Yog राज योग
Yearly Horoscope 2021
Janam Kundali कुंडली
Kundali Matching मिलान
Tarot Reading टैरो
Personalized Predictions भविष्यवाणियाँ
Today Choghadiya चौघडिया
Anushthan अनुष्ठान
Rahu Kaal राहु कालम

दक्षिणमुखी घर का वास्तु, South Facing House Vastu Tips in Hindi

south facing house vastu tips in Hindi

Updated Date : मंगलवार, 01 जून, 2021 13:19 अपराह्न

एक समृद्ध और शांतिपूर्ण दक्षिण मुखी घर बनाने के लिए वास्तु टिप्स

दक्षिणमुखी घर का वास्तु - दक्षिणमुखी घर के लिए वास्तु प्लान

दक्षिणमुखी घरों को अक्सर अनदेखा किया जाता है और घर खरीदते समय इसे अशुभ माना जाता है, ऐसा माना जाता है कि मृत्यु और न्याय के देवता भगवान यम दक्षिण में रहते हैं और इसलिए इस दिशा को घर खरीदने और बनाने के लिए उपयुक्त नहीं माना जाता। लेकिन तब क्या होगा यदि आप पहले ही दक्षिणमुखी घर खरीद चुके हैं या घर खरीदने के लिए केवल दक्षिणमुखी घर का ही विकल्प शेष है। क्या आपको इसे नजरअंदाज करना चाहिए या इसे खरीदने का विचार छोड़ देना चाहिए?

बिल्कुल नहीं! वास्तु शास्त्र के अनुसार, कोई भी दिशा पूरी तरह से अच्छी या बुरी नहीं होती है। दक्षिणमुखी घरों के वास्तु के अनुसार, आप किसी भी दक्षिणमुखी घर में सकारात्मक ऊर्जा का संचार कर सकते हैं और सौभाग्य और खुशीयां प्राप्त कर सकते हैं। अतः अगर आपने कोई दक्षिणमुखी घर पसंद कर लिया है तो परेशान ना हों, धैर्य रखें। घर के लिए वास्तु शास्त्र - यहां पर दक्षिणमुखी घर वास्तु मार्गदर्शन के माध्यम से आप नियम, लेआउट, स्थानिक ज्यामिति और विभिन्न वास्तु टिप्स जान सकते हैं जो आपके और आपके परिवार के लिए दक्षिणमुखी घर को शुभ और सकारात्मक बनाने में आपकी मदद कर सकते हैं।

दक्षिण मुखी घर के लिए वास्तु

दक्षिणमुखी घर खरीदना या बनाना चाहते हैं? वास्तु शास्त्र के अनुसार, दक्षिणमुखी घर सभी लोगों के लिए उपयुक्त नहीं होते हैं। इसलिए, किसी व्यक्ति को हमेशा दक्षिणमुखी घर या दक्षिणमुखी फ्लैट के निर्माण से पहले उसमें रहने वाले के उद्देश्य और व्यवसाय को समझना चाहिए। दक्षिण मुखी घर के वास्तु के अनुसार प्रशासनिक नौकरी वाले लोग जैसे आईएएस, पुलिस, जज आदि को घर खरीदते या निर्माण करते समय इस दिशा को प्राथमिकता देनी चाहिए। चूंकि दक्षिण दिशा अग्नि से संबंधित है, सुरक्षा और उत्साह का तत्व है, यह दिशा रक्षा, संसदीय और सशस्त्र बलों में काम करने वाले लोगों के लिए बहुत अनुकूल होती है। दक्षिणमुखी घर मनोरंजन और कलात्मक व्यवसाय के लोगों के लिए भी बहुत फलदायी साबित होता है। रसोई के लिए 7 वास्तु टिप्स

दक्षिण मुखी घर वास्तु योजना

दक्षिणमुखी वास्तु घर को डिजाइन करते समय, सभी वास्तु टिप्स और नियमों को जानना चाहिए जो एक सकारात्मक और समृद्ध घर बनाने में मदद कर सकते हैं। प्रवेश द्वार से लेकर रसोई घर से लेकर शयन कक्ष तक, घर के बाहर से बाथरूम तक, प्रत्येक दक्षिणमुखी घर वास्तु टिप घर में सकारात्मक ऊर्जा का संचार करने के लिए महत्वपूर्ण है। धन प्राप्ति के लिए वास्तु टिप्स

  1. दक्षिण मुखी घर के प्रवेश द्वार के लिए वास्तु टिप्स

दक्षिणमुखी घर के वास्तु के अनुसार, दक्षिणमुखी घर का मुख्य द्वार या दरवाजा दक्षिणमुखी दीवार पर होना चाहिए। घर में सकारात्मक ऊर्जा के प्रवाह के लिए प्रवेश द्वार मध्य में या दीवार के थोड़ा सा बाईं ओर होना चाहिए। दक्षिणमुखी घर का प्रवेश द्वार कभी भी दक्षिणमुखी दीवार की दाईं दिशा में नहीं लगाना चाहिए।

  1. दक्षिण मुखी घर की चारदीवारी के लिए वास्तु टिप्स

दक्षिणमुखी घर के वास्तु के अनुसार, ऊंची दीवारें घर को दोपहर की सीधी धूप से बचाती हैं जबकि मोटी दीवारें दोपहर के समय अत्यधिक गर्मी को रोकती हैं। अतः, यदि आप दक्षिणमुखी घर का निर्माण कर रहे हैं, तो सुनिश्चित करें कि घर की पश्चिम और दक्षिण की चारदीवारी पूर्व और उत्तर दिशा की दीवारों की तुलना में अधिक मोटी और ऊँची हो। इसी प्रकार दक्षिण दिशा में दीवारों की मोटाई उत्तर दिशा की दीवारों से अधिक होनी चाहिए।

  1. दक्षिण मुखी घर के जल भंडारण और गंदा जल बाहर निकालने के लिए वास्तु टिप्स

दक्षिण मुखी घर में भूमिगत पानी की टंकी का निर्माण कभी भी दक्षिण या दक्षिण-पश्चिमी कोने में नहीं होना चाहिए। दक्षिणमुखी घरों में प्रवेश द्वार के पास बोरवेल या भूमिगत जल का निर्माण कभी नहीं करना चाहिए। दक्षिणमुखी घर में सेप्टिक टैंक का सही स्थान दक्षिण-पश्चिम दिशा का दक्षिण है।

इस बात पर भी ध्यान दिया जाना चाहिए कि जल के बाहर जाने का प्रवाह पूर्व या उत्तर दिशा में होना चाहिए। दक्षिणमुखी घरों के लिए वास्तु के अनुसार, इस दिशा में अपशिष्ट जल को बाहर निकालने से घर के मालिक की सुरक्षा और कल्याण सुनिश्चित होता है।

  1. दक्षिण मुखी घर के मुख्य द्वार के लिए वास्तु टिप्स

दक्षिणमुखी घर का वास्तु एक बड़े मुख्य द्वार के निर्माण का सुझाव देता है। यह अंदर की तरफ खुलना चाहिए। वास्तु नियमों के अनुसार, घर का मुख्य द्वार नकारात्मकता को दूर करता है और सकारात्मक ऊर्जा को घर में आमंत्रित करता है। यह घर के मालिक के जीवन में समृद्धि और शांति लाता है।

  1. दक्षिण मुखी घर के बेडरूम के लिए वास्तु टिप्स

दक्षिणमुखी घर में मास्टर बेडरूम का निर्माण दक्षिण-पश्चिम दिशा में करना चाहिए। दक्षिणमुखी घर के लिए वास्तु के अनुसार, यदि घर में कई मंजिलें हैं, तो मास्टर बेडरूम सबसे ऊंची मंजिलों पर होना चाहिए।

बच्चों का बेडरूम, गेस्ट बेडरूम जैसे अन्य बेडरूम उत्तर-पश्चिम दिशा में होने चाहिए। बच्चों के बेडरूम को दक्षिणमुखी घर में दक्षिण और पश्चिमी दिशा में भी बनाया जा सकता है।

  1. दक्षिण मुखी घर में रसोई के लिए वास्तु टिप्स

दक्षिणमुखी घरों के लिए रसोई को घर का एक महत्वपूर्ण हिस्सा मानता है। इसके अनुसार, रसोई में अग्नि देवता का निवास होता है जो घर के सदस्यों के सद्भाव और कल्याण को नियंत्रित करता है। इसलिए हमेशा दक्षिणमुखी घर का किचन दक्षिण-पूर्व दिशा में बनाना चाहिए। इसमें सूर्य के प्रकाश के लिए अधिकतम वेंटीलेशन होना चाहिए।

वास्तु टिप्स के अनुसार दक्षिणमुखी घर में हमेशा पूर्व की ओर मुंह करके ही खाना बनाना चाहिए। यदि रसोई घर की स्थिति उत्तर-पश्चिम दिशा में हो तो खाना पकाने का कार्य पश्चिम दिशा में करना चाहिए। किचन का दरवाजा उत्तर, पूर्व या उत्तर-पूर्व दिशा की ओर होना चाहिए।

  1. दक्षिण मुखी घर में पूजा रूम के लिए वास्तु टिप्स

पूजा घर, किसी भी घर में एक बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका रखता है। यह भगवान की पूजा करने और समृद्धि, शांति और खुशी की तलाश करने का स्थान होता है। अतः, व्यक्ति को दक्षिण मुखी घर का पूजा रूम हमेशा उत्तर-पूर्व दिशा में बनाना चाहिए। दक्षिणमुखी घर के वास्तु नियमों के अनुसार सकारात्मकता, शुभता और ऐश्वर्य पाने के लिए यह सबसे अच्छी दिशा है।

दक्षिणमुखी घर के लिए वास्तु टिप्सः क्या करें और क्या न करें

दक्षिण दिशा को छोड़कर, आप एक स्वतंत्र दक्षिणमुखी घर में कहीं भी कार पार्किंग या गैरेज का निर्माण कर सकते हैं।

वास्तु के अनुसार दक्षिणमुखी घर के लिए बगीचा दक्षिण या दक्षिण-पूर्व दिशा की ओर होना चाहिए।

दक्षिण दिशा वाली घर की दीवारों का रंग सावधानी से चुना जाना चाहिए, खासकर सामने की दीवारों का रंग। दक्षिणमुखी घर वास्तु शास्त्र दिशानिर्देशों के अनुसार, किसी को भी अपने दक्षिण मुखी घर की दीवारों पर नीला, काला और ग्रे रंग नहीं करना चाहिए।

दक्षिणमुखी घर के लिए सबसे अच्छे हल्के रंग नारंगी, भूरा या लाल का इस्तेमाल करना चाहिए। दक्षिणमुखी घर की अंदरूनी दीवारों के रंगों का चुनाव भी किसी विशेषज्ञ से सलाह लेकर ही करना चाहिए। अपने दक्षिणमुखी घर को पेंट करने से पहले हमेशा वास्तु विशेषज्ञ से बात करें।

  • दक्षिणमुखी प्लॉट की ढलान दक्षिण से उत्तर की ओर होनी चाहिए।
  • भूमिगत जल का स्रोत कभी भी दक्षिणमुखी घर के सामने वाले हिस्से में नहीं होना चाहिए।
  • दक्षिणमुखी घर के दक्षिण-पश्चिम कोने में कोई कट नहीं होना चाहिए।
  • दक्षिणमुखी घर की दक्षिण दिशा में खुला स्थान नहीं रखना चाहिए।
  • दक्षिणमुखी घर की सीढ़ी दक्षिण, पश्चिम या दक्षिण-पश्चिम दिशा में होनी चाहिए। यह एक सकारात्मक वातावरण को प्रोत्साहित करती है और घर में संतुष्टि प्रदान करती है।
  • दक्षिणमुखी घर के वास्तु के अनुसार, दक्षिण मुखी घर में घर का उत्तर-पूर्व कोना नकारात्मकता को आकर्षित करता है। इसलिए सीढ़ी का निर्माण कभी भी घर के ईशान कोण में नहीं करना चाहिए।
  • दक्षिणमुखी घर खरीदते समय हमेशा घर के दक्षिण-पश्चिम की ओर रोड क्रॉसिंग या टी-पॉइंट वाले घर से बचना चाहिए।

वास्तु शास्त्र सकारात्मक और प्राकृतिक ऊर्जा उन्मुख घरों के निर्माण का प्राचीन विज्ञान है। वास्तु शास्त्र के सिद्धांतों का पालन करके, आप एक ऐसा घर बना सकते हैं जो शांति, खुशी, अच्छे स्वास्थ्य और भाग्य से भरा हो। यदि आप वास्तु के नियमों के बारे में नहीं जानते हैं या दक्षिणमुखी घर में सकारात्मक ऊर्जा पाने के लिए मार्गदर्शन की आवश्यकता है, तो किसी विशेषज्ञ ज्योतिषी से सलाह लें। एक विशेषज्ञ ज्योतिष सलाहकार आपको अपने घर के बारे में सभी मिथकों और आशंकाओं को दूर करने के लिए सही मार्गदर्शन प्राप्त करने में मदद कर सकता है।


Leave a Comment

hindi
english