2020 छठ पूजा

date  2020
Ashburn, Virginia, United States

छठ पूजा
Panchang for छठ पूजा
Choghadiya Muhurat on छठ पूजा

छठ पूजा

छठ पूजा सबसे शुभ पूजा में से एक है जो भगवान सूर्य (सूर्य) को प्रसन्न करने के लिए की जाती है। छठ पूजा चार दिनों के लिए आयोजित की जाती है, जिसके दौरान भगवान सूर्य की पूजा अत्यंत ईमानदारी और निष्ठा के साथ की जाती है। इस पूजा के दौरान, अधिकांश भक्त छठ पूजा व्रत का पालन करते हैं, जो मूल रूप से महिलाओं द्वारा किया जाता है। छठ पूजा व्रत का पालन परिवार की भलाई के लिए भगवान सूर्य से आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए किया जाता है। छठ पूजा परंपरा मुख्य रूप से बिहार, झारखंड राज्य में देखी जाती है, तथा यू.पी. और नेपाल के कुछ हिस्सों में भी।

छठ पूजा साल में दो बार की जाती है, यानी एक बार गर्मियों में और एक बार सर्दियों के दौरान। जिस दिन यह त्योहार मनाया जाता है, उस दिन के कारण इसे ‘छठ पूजा’ का नाम दिया गया है। ‘छठ’ का अर्थ है ‘छठा दिन’ और हिंदू कैलेंडर के अनुसार, यह पहली बार चैत्र महीने के दौरान होली के त्योहार के बाद छठे दिन मनाया जाता है। इस छठ पूजा को चैती छठ और सूर्य पूजा के नाम से भी जाना जाता है।

दूसरी छठ पूजा कार्तिक महीने के छठे दिन होती है, जो दिवाली के बाद आती है। इस छठ पूजा को कार्तिक छठ भी कहा जाता है। कार्तिक छठ पूजा, भक्तों द्वारा भव्य उत्सव के साथ मनाई जाती है। कार्तिक छठ का त्योहार अत्यंत उत्साह और भक्ति के साथ मनाया जाता है।

छठ पूजा को विभिन्न राज्यों में अलग-अलग नामों से जाना जाता है। इन राज्यों में विभिन्न भाषाओं के कारण नाम में अंतर दिखाई देता है। छठ पर्व, डाला छठ, सूर्य षष्ठी, छठ महापर्व, डाला पूजा और सूर्य पूजा छठ पूजा के कई नामों में से कुछ हैं। नाम राज्यों के अनुसार अलग-अलग हो सकते हैं, लेकिन इस उत्सव का मकसद और भावनाएं पूरे देश में समान हैं।

भारतीय अवकाश कैलेंडर भी देखें

छठ पूजा का आयोजन भगवान सूर्य को सम्मान देने के लिए किया जाता है, जहां सूर्य देवता को श्रद्धा व्यक्त की जाती है। ऐसा कहा जाता है कि छठ पर्व हिंदू धर्म के सबसे कठिन पर्वों में से एक है। यह त्योहार चार दिनों तक मनाया जाता है और भक्त उत्सव के दौरान छठ पूजा का व्रत रखते हैं। अधिकतर भक्त दो दिनों की अवधि के लिए निर्जला व्रत (बिना जल और अन्न ग्रहण किए उपवास) करते हैं।

छठ पूजा का महत्व

छठ पूजा का महत्व भक्तों के उत्साह के साथ दृढ़ संकल्पित होता है। यह हमें पृथ्वी पर जीवन देने के लिए भगवान सूर्य का आभार व्यक्त करने के लिए मनाया जाता है। सूर्य षष्ठी का एक अन्य लोकप्रिय नाम छठ पूजा है। ऐसा माना जाता है कि सूर्य पूजा (सूर्य की पूजा करके) करने से व्यक्ति अपने मन और आत्मा से क्रोध, अहंकार, ईर्ष्या और नकारात्मक भावनाओं को कम कर सकता है।

छठ पूजा के लिए चौघड़िया देखें

सूर्य का बढ़ना और स्थापित होना, जीवन चक्र को सही स्वरूप में लाने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। सूर्य से सामान्य सूर्य के प्रकाश को उत्तेजित करने के अलावा, यह हमें सौर ऊर्जा भी प्रदान करता है जो हमारे अस्तित्व के लिए, हमारे लिए बहुत महत्वपूर्ण है। यह माना जाता है कि सूर्य सफेद रक्त कोशिकाओं की गतिविधि में सुधार करता है। सूर्य को विटामिन डी का सबसे बड़ा स्रोत माना जाता है जो हड्डियों में मजबूती हासिल करने में एक व्यक्ति की सहायता करता है।

छठ पूजा के चार महत्वपूर्ण दिन

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि छठ पूजा एक चार दिवसीय पर्व है जिसमें हर दिन का अपना महत्व है। आइये इन चार दिनों के बारे में कुछ तथ्य विस्तार से जानते हैंः

पहला दिन - नहाए खाए

छठ पूजा के शुरुआती दिन को नाम दिया गया है ‘नहाए खाए’ या डाला छठ व्रत। ‘नहाए’ शब्द का अर्थ है स्नान करना और ‘खाए’ का अर्थ है भोजन करना। श्रद्धालुओं को पवित्र गंगा या यमुना नदी में स्नान करना चाहिए और इनके पवित्र जल को इन नदियों से घर पर लाया जाता है। सुबह स्नान के बाद भक्त आम की लकड़ी के साथ ताजा मिट्टी व ईंट के बने चूल्हे पर भोजन तैयार करते हैं। इस तैयारी को लौकी भट के नाम से जाना जाता है। यह खाना भगवान सूर्य को प्रसाद के रूप में पेश किया जाता है।

दूसरा दिन - खरना

‘खरना’ छठ पूजा के दूसरे दिन का नाम है। गुड़ (जग्गरी) की खीर, कड्डू-भात, और थेकुआ-गुझिया इस दिन तैयार किए जाते हैं। इस दिन, भक्त एक दिन के उपवास का पालन करते हैं। शाम को सूर्य पूजा करने के साथ व्रत का समापन किया जाता है। सूर्य पूजा के बाद, रसिया-खीर, पूरियां, भगवान सूर्य को अर्पित किए गए फल सभी के बीच वितरित किए जाते हैं। शाम को भोजन करने के बाद, भक्त अगले 36 घंटों तक बिना पानी के उपवास रखते हैं जो तीसरे दिन समाप्त होता है।

तीसरा दिन - संध्या अर्घ्य

‘संध्या अर्घ्य’ छठ पूजा का तीसरा दिन है। इस दिन, भक्त निर्जला व्रत करते हैं यानी वे चैथे दिन की सुबह तक पानी का सेवन नहीं करते हैं। भक्त सूर्य को जल और दूध अर्पित करते हैं और यह प्रसाद महत्वपूर्ण और पवित्र माना जाता है। संध्या अनुष्ठान करने के लिए भक्तों द्वारा इस दिन के लिए विशेष तैयारी की जाती है।

चौथा दिन - पारण

उषा अर्घ्य या पारण दिवस छठ पूजा के चौथे दिन को दिया गया सबसे लोकप्रिय नाम है। भक्त उगते सूर्य को दूध या जल चढ़ाकर चौथे दिन की सुबह 36 घंटे लंबे निर्जला व्रत का समापन करते हैं। इसे बिहनिया के नाम से जाना जाता है। इस अनुष्ठान को करने के बाद, चीनी और अदरक खाकर व्रत तोड़ा जाता है। यह अनुष्ठान छठ पूजा के चार दिन लंबे महापर्व का अंतिम चरण है।

छठ पूजा नियम और विनियम

छठ पूजा के दौरान पूजा अनुष्ठानों का एक विशेष तरीका होता है। आइए हम कुछ तथ्यों के बारे में जानेंः

  • छठ पूजा व्रत के दौरान भक्तों को साफ-सफाई और स्वच्छता का उचित ध्यान रखना चाहिए।
  • छठ पूजा के अनुष्ठान केवल एक विवाहित महिला द्वारा निष्पादित किए जा सकते हैं।
  • घर के पुरुषों और महिलाओं द्वारा रात को फर्श पर सोना भी एक रिवाज है।
  • पूजा प्रसाद का उपयोग करने से पहले बर्तनों को अच्छी तरह से साफ किया जाना चाहिए।
  • उचित स्वच्छता बनाए रखने के लिए, छठ पूजा के दौरान घर के अंदर एक अस्थायी रसोईघर लगाया जाता है।
  • त्योहार के दौरान घर पर थेकुआ (क्षेत्रीय मिठाई) तैयार की जाती है।
  • विवाहित महिलाओं द्वारा विशेष अनुष्ठानों का पालन किया जाता है जैसे कि वे स्वयं द्वारा पकाया गया भोजन नहीं खा सकती हैं और सिले हुए कपड़े भी नहीं पहन सकती हैं।


छठ पूजा के दौरान इन अनुष्ठानों का अच्छी तरह से पालन किया जाना चाहिए। mPanchang आपको त्योहारों और व्रत पर विस्तृत जानकारी प्रदान करता है। हम आपको खुशियों से भरी छठ पूजा की शुभकामनाएं देते हैं।

mPanchang पर कुंडली मिलान की जानकारी पाऐं।

hindi
english