छिन्नमस्ता जयंती

date  2019
Ashburn, Virginia, United States X

छिन्नमस्ता जयंती
Panchang for छिन्नमस्ता जयंती
Choghadiya Muhurat on छिन्नमस्ता जयंती

छिन्नमस्ता जयंती- अनुष्ठान और महत्व

देवी छिन्नमस्ता कौन हैं?

देवी छिन्नमस्ता को महत्वपूर्ण दश (दस) महाविद्या (बुद्धि की देवी) के रूप में माना जाता है। यह माना जाता है कि देवी छिन्नमस्ता ने अपने सहयोगियों की भूख को संतुष्ट करने के लिए खुद के सिर को काट दिया था। देवी को देश के कई हिस्सों में प्रचंड चंडिका या छिन्नमस्तिका के रूप में भी जाना जाता है।

माँ छिन्नमस्ता जयंती कब है?

हिंदू कैलेंडर के अनुसार, माँ छिन्नमस्ता जयंती का अवसर शुक्ल पक्ष के दौरान वैशाख के महीने में 14 वें दिन (चतुर्दशी तिथि) को मनाया जाता है। ग्रेगोरियन कैलेंडर के अनुसार, यह दिन मई या अप्रैल के महीने में मनाया जाता है।

छिन्नमस्ता जयंती का क्या महत्व है?

  • हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, छिन्नमस्ता माता देवी काली का एक अद्वितीय अवतार हैं क्योंकि उन्हें जीवन हरने वाली के साथ साथ जीवन दाता भी माना जाता है।
  • ऐसा माना जाता है कि जो भक्त देवी छिन्नमस्ता की पूजा करते हैं, उनको उनकी सभी कठिनाइयों से छुटकारा मिलता है।
  • देवी छिन्नमस्ता की पूजा करने से भक्तों की आध्यात्मिक के साथ-साथ सामाजिक ऊर्जा में भी वृद्धि होती है।
  • यह भी माना जाता है कि देवी की पूजा करने से, भक्त संतान, कर्ज और यौन समस्याओं से संबंधित विभिन्न मसलों से खुद को बचा सकते हैं।
  • व्यक्ति अपनी सभी इच्छाओं को पूरा करने और दुश्मनों पर विजय पाने के लिए और आर्थिक समृद्धि के लिए भी देवता की पूजा करते हैं।

छिन्नमस्ता जयंती के अनुष्ठान क्या हैं?

  • भक्त सबसे पहले सुबह जल्दी स्नान करते हैं और फिर साफ़ सुथरे कपड़े पहनते हैं।
  • छिन्नमस्ता जयंती के दिन भक्त एक कठोर उपवास करते हैं।
  • छिन्नमस्ता जयंती के दिन देवी छिन्नमस्ता की पूजा करने के लिए, भक्तगण देवता की मूरत या मूर्ति को वेदी पर स्थापित करते हैं।
  • इसके बाद, वे अनुष्ठानों के साथ शुरुआत करने के लिए अगरबत्तियां और एक दीया जलाते हैं।
  • आमतौर पर, सभी छिन्नमस्ता मंदिरों में पास में भगवान शिव की मूर्ति भी होती है। इसलिए भक्त अभिषेकम करके भी पूजा करते हैं और देवता की आराधना करते हैं।
  • भक्त पवित्र भोजन (प्रसाद) तैयार करते हैं और फूल, नारियल और माला के साथ देवता को अर्पित करते हैं।
  • देवी छिन्नमस्ता की आरती की जाती है और देवता को जगाने के लिए पवित्र मंत्रों का जाप किया जाता है।
  • आमंत्रितों और परिवार के सदस्यों के बीच प्रसाद वितरित किया जाता है।
  • देवता के दिव्य आशीर्वाद को पाने के लिए भक्त छिन्नमस्ता जयंती के दिन दान और पुण्य के कई कार्य करते हैं।

छिन्नमस्ता जयंती कैसे मनाई जाती है?

  • छिन्नमस्ता जयंती के शुभ दिन, भक्त देवी छिन्नमस्तिका की पूजा और आराधना करते हैं।
  • छोटी लड़कियों की भी पूजा की जाती हैं तथा पवित्र भोजन उन्हें अर्पित किया जाता है क्योंकि उन्हें देवी का अवतार माना जाता है।
  • मंदिरों में और पूजा स्थल पर, कीर्तन और जागरण आयोजित किए जाते हैं।
  • भक्तगण अति उत्साह और समर्पण के साथ छिन्नमस्ता पूजा करते हैं।

छिन्नमस्ता जयंती की किवदंती (कहानी) क्या है?

शास्त्रों के अनुसार, यह माना जाता है कि एक बार देवी पार्वती अपने 2 सहयोगियों द्वारा मंदाकिनी नदी में स्नान कर रही थीं। लेकिन इस स्नान के दौरान, देवी पार्वती ने समय की वास्तविक गिनती खो दी और इस तरह बहुत प्रतीक्षा के बाद, उनके सहयोगियों को भी भूख लगने लगी। बहुत सारे अनुस्मारक देने के बाद भी, वे देवता का ध्यान आकर्षित करने में असमर्थ रहे।

जब अंत में देवी पार्वती (भवानी) को समय का एहसास हुआ, और अपराधबोध में उन्होंने खुद का गला काट लिया। तीन अलग-अलग खून की धाराएं निकल कर आयीं। दो रक्त की धाराओं से उनके सहयोगियों ने अपनी भूख को संतुष्ट किया और तीसरी रक्त की धारा ने देवी को भस्म कर दिया। उस दिन के बाद से, उन्हें छिन्नमस्ता देवी के रूप में पूजा गया।

hindi
english