2020 गोवर्धन पूजा

date  2020
Ashburn, Virginia, United States

गोवर्धन पूजा
Panchang for गोवर्धन पूजा
Choghadiya Muhurat on गोवर्धन पूजा

गोवर्धन पूजा क्या है?

दीपावली सबसे बड़ा और सबसे खुशी से मनाये जाने वाला हिंदू त्योहार है; यह एक 5 दिवसीय उत्सव है जिसमे हर दिन का अपना एक अलग महत्व होता है। गोवर्धन पूजा या अन्नकूट पूजा, जैसा कि इसे लोकप्रिय रूप से जाना जाता है, दीवाली के एक दिन बाद होता है और भारत के प्रमुख हिस्सों में ज़बरदस्त जोश के साथ मनाया जाता है। जबकि 5 दिवसीय उत्सव के पहले तीन दिन धन, समृद्धि और कल्याण के लिए प्रार्थना करने के बारे में होते हैं, चौथा दिन या गोवर्धन पूजा हमारे देवताओं को उनके आशीर्वाद और लाभ के लिए धन्यवाद देने के बारे में है।

गोवर्धन पूजा कब है?

हिंदू कैलेंडर के अनुसार, गोवर्धन पूजा कार्तिक महीने में शुक्ल पक्ष की 'एकम' या पहले चंद्र दिन पर आती है और हिंदू उत्सवों का एक प्रमुख हिस्सा मानी जाती है।

गोवर्धन पूजा क्यों मनाई जाती है?

गोवर्धन पूजा भगवान इंद्र पर भगवान कृष्ण की जीत की सराहना करती है जहां भगवान कृष्ण ने गोवर्धन पर्वत की मदद से भगवान इंद्र के क्रोध से गोकुल के लोगों को बचाया।

जैसा कि पौराणिक कथाओं में कहा गया है, वृंदावन के लोगों ने बारिश के मौसम में एक बड़ी फसल के लिए भगवान इंद्र की पूजा की। भगवान कृष्ण ने अपने गांव में हर किसी को प्रकृति को संरक्षित करने के महत्व को सिखाया और गाँव में भारी मात्रा में बारिश कराने के लिए भगवान इंद्र के विरुद्ध युद्ध किया और शक्तिशाली गोवर्धन पर्वत के नीचे सभी को आश्रय दिया। इसलिए, गोवर्धन पूजा का महत्व भी भक्तों के इस विश्वास पर निर्भर करता है कि कैसे उनके देवता गण उन्हें विपरीत और विषम परिस्थितियों में बचाएंगे।

गुजरात में, इस दिन को गुजराती नव वर्ष के उत्सव के रूप में जाना जाता है जबकि महाराष्ट्र में गोवर्धन पूजा को 'बाली पड़वा' या 'बाली प्रतिपदा' के रूप में मनाया जाता है। किंवदंतियों से पता चलता है कि भगवान विष्णु के अवतार वामन ने बाली को परास्त किया था और उन्हें 'पाताल लोक’ की तरफ धकेल दिया था, इसलिए ऐसा माना जाता है कि राजा बाली इस दिन पृथ्वी पर जाते हैं। इस त्यौहार को देश के कई हिस्सों में 'विश्वकर्मा दिवस' के रूप में भी मनाया जाता है जहां लोग अपने उपकरणों और औजारों की पूजा करते हैं।

गोवर्धन पूजा विधान कैसे करें?

गोवर्धन पूजा कई अनुष्ठानों और परंपराओं से जुडी हुई है ।

  • पूजा के प्रारम्भ में भक्त गण गोबर के ढेर से एक पर्वत के आकार का टीला बनाते हैं जो की गोवर्धन पर्वत का प्रतिनिधित्व करता है और उसे फूलों और कुमकुम के साथ सजाते हैं।
  • इसके बाद भक्त गण पहाड़ के चारों ओर 'परिक्रमा' (राउंड) लगाते हैं और गोवर्धन पर्वत की पूजा करते हैं ताकि वे अपने परिवार की सुरक्षा और खुशहाली के लिए प्रार्थना कर सकें।
  • गोवर्धन पूजा विधि लोगों को अपनी गायों या बैलों को भी स्नान कराने और कुमकुम एवं मालाओं के साथ उनकी पूजा करना बताता है।
  • अन्नकूट पूजा गोवर्धन पूजा का एक अभिन्न हिस्सा भी है जहां भगवान कृष्ण को छप्पन भोग की प्रस्तुति की जाती है, इसके बाद गोवर्धन आरती की जाती है| इन सबके बाद 'अन्नकूट प्रसाद' परिवार और दोस्तों के साथ साझा किया जाता है।

गोवर्धन पूजा कैसे मनाई जाती है?

गोवर्धन पूजा मथुरा और गोकुल में अत्यंत भक्ति के साथ मनाई जाती है। 'गोवर्धन पर्वत', बृज में तीर्थ स्थल का दौरा हजारों भक्तों द्वारा किया जाता है जहां वे पर्वत के चारों ओर एक ग्यारह मील मार्ग की 'परिक्रमा' और वहां स्थित कई मंदिरों में फूलों की प्रस्तुति करने के बाद पहाड़ को भोजन प्रस्तुत करते हैं।

अन्नकूट, जैसा कि इसके नाम से पता चलता है, भोजन का पहाड़ होता है। इसकी तैयारी गोवर्धन उत्सव का एक अभिन्न अंग है।

पूरे देश में भगवान कृष्ण के मंदिर सजाए जाते हैं और यह त्यौहार भजन गायन, नृत्य और मिठाई के वितरण के साथ मनाया जाता है और गोवर्धन की बधाइयां परिवार और प्रियजनों को दी जाती है।

गोवर्धन पूजा समारोहों का एक और महत्वपूर्ण पहलू 'थाल' और 'कीर्तन' होते हैं । इन भक्ति वाले भजनों को भगवान कृष्ण के सभी मंदिरों में पुजारी और भक्तों द्वारा गाया और सुनाया जाता है।

hindi
english