2020 गुरु गोबिंद सिंह जयंती

date  2020
Ashburn, Virginia, United States

गुरु गोबिंद सिंह जयंती
Panchang for गुरु गोबिंद सिंह जयंती
Choghadiya Muhurat on गुरु गोबिंद सिंह जयंती

गुरु गोबिंद सिंह जयंती - महत्व और उत्सव

गुरु गोबिंद सिंह जयंती को पूरी दुनिया में सिखों के बीच एक बहुत महत्वपूर्ण त्योहार माना जाता है। यह दसवें सिख गुरु, गुरु गोविंद सिंह की जयंती मनाने का दिन होता है।

गुरु गोबिंद सिंह जयंती कब है?

गुरु गोबिंद सिंह जी का जन्म 22 दिसंबर 1666 को पटना, बिहार, भारत में हुआ था। यह दिन ग्रेगोरियन कैलेंडर के अनुसार या तो दिसंबर या जनवरी में आता है। गुरु गोबिंद सिंह जयंती का उत्सव नानकशाही कैलेंडर के अनुसार मनाया जाता है ।

कौन थे गुरु गोबिंद सिंह?

गुरु गोबिंद सिंह सिखों के दसवें और अंतिम जीवित गुरुओं में से सबसे पवित्र, प्रभावशाली और विद्वान गुरु थे। एक गुरु होने के अलावा, वह एक योद्धा भी थे, जिन्होंने दूसरों से युद्ध कर के सिख धर्म की रक्षा की। वे एक दिव्य दार्शनिक और आध्यात्मिक नेता भी थे। गुरु गोबिंद सिंह ने विश्वास को विकसित किया और सिख धर्म के पूर्व स्वरूप खालसा को बनाने में उनकी बड़ी भागीदारी थी। 9 वर्ष की आयु में, वे अपने पिता गुरु तेग बहादुर के उत्तराधिकारी बने, जिन्होंने धार्मिक स्वतंत्रता की रक्षा करते हुए शहादत प्राप्त की। वे सिख गुरुओं के पवित्र वंश से सम्बन्ध रखते थे और वे सिखों के अंतिम नेता थे क्योंकि गुरु गोबिंद सिंह के सभी चार बेटों को शहादत मिलने के बाद कोई उत्तराधिकारी नहीं बचा था।

हम गुरु गोबिंद सिंह जयंती क्यों मनाते हैं?

अपने जीवनकाल के दौरान, गुरु गोबिंद सिंह ने न्याय के लिए संघर्ष किया और दृढ़ता से मुगलों के खिलाफ खड़े रहे। वर्ष 1699 में, उन्होंने निचली जातियों के कुल 5 लोगों को लिया और फिर उनका नामकरण किया और घोषणा की कि ये सभी पाँच पुरुष उनके प्रिय हैं। उन्होंने उन लोगों को साहस, ज्ञान और ईश्वर की असीम भक्ति के साथ संपन्न किया। उन्होंने उन लोगों को उस सर्वशक्तिमान की निडरता और समर्पण की शक्ति सिखाई जो सभी उत्पीड़ित व्यक्तियों की रक्षा करता है। उन्होंने खालसा की स्थापना की जो एक प्रसिद्ध सैन्य बल था जिसमें संत-सैनिक शामिल थे।

खालसा ने गुरु गोबिंद सिंह की देखरेख, प्रेरणा और मार्गदर्शन के तहत एक आध्यात्मिक अनुशासन के साथ-साथ एक नैतिक संहिता का कड़ाई से पालन किया। उनके द्वारा विकसित साहस के कारण, लोगों ने निडर होकर मुगल शासकों के उत्पीड़न के विरुद्ध युद्ध किया। एक सैन्य नेता और आध्यात्मिक व्यक्ति होने के साथ-साथ, गुरु गोविंद सिंह जी एक विद्वान कवि और लेखक भी थे, जिन्होंने विशाल साहित्यिक और विद्वतापूर्ण कार्य किया था। वर्ष 1708 में अपनी मृत्यु से पहले, उन्होंने गुरु ग्रंथ साहिब को स्थायी सिख गुरु के रूप में घोषित किया जो सिख धर्म में एक पवित्र ग्रंथ है।

जाने सीखो का पर्व लोहड़ी

गुरु गोविंद सिंह जयंती का उत्सव

गुरु गोबिंद सिंह जयंती का अवसर भव्य रूप से मनाया जाता है जिसमें पटाखे फोड़ना, दीपक जलाना और दीया जलाना और पवित्र गुरुद्वारों का दौरा करना शामिल है। गुरु गोबिंद सिंह जयंती की पूर्व संध्या पर विशेष प्रार्थना और जुलूस आयोजित किए जाते हैं और इसे भारत के कई क्षेत्रों में प्रकाश उत्सव या प्रकाश पर्व के रूप में भी जाना जाता है। धर्म, जाति, और पंथ के बावजूद, गुरुद्वारों में सभी आगंतुकों के लिए भोजन की एक बड़ी मात्रा तैयार की जाती है और इसे लंगर के रूप में वितरित किया जाता है। गुरु ग्रंथ साहिब का पाठ करना सबसे महत्वपूर्ण अनुष्ठानों में से एक है जो इस आध्यात्मिक त्योहार के दिन किया जाता है।

जयंती से दो दिन पहले सभी उत्सव तीन दिनों तक चलते हैं, पुजारी (ग्रन्थि) पवित्र गुरु ग्रंथ साहिब का पाठ करना प्रारम्भ करता है । इस अनुष्ठान को अखंड पाठ के रूप में जाना जाता है और यह सभी गुरूद्वारों में मनाया जाता है। जुलूस वास्तविक समारोहों से एक दिन पहले होता है और इसके बाद नर्तकियों और संगीतकारों और पंज प्यारों द्वारा नेतृत्व किया जाता है। भक्त जुलूस के समय भक्ति गीत गाते हैं और लोगों को शरबत, शीतल पेय और मिठाई भी बांटते हैं। गुरु की पूजा और स्तुति करने के लिए इस विशेष पूर्व संध्या पर कविताएँ और ऐतिहासिक व्याख्यान भी सुनाए जाते हैं। सुबह जल्दी उठने के दौरान आसा दी वार (सुबह के भजन) का पाठ किया जाता है और उसके बाद गुरु ग्रंथ साहिब का पाठ किया जाता है।

गुरु गोविंद सिंह जयंती की शुभकामनाएं

गुरु गोविंद सिंह जी आपको और आपके परिवार को उनके दिव्य आशीर्वाद की शुभकामनाएं दें|

और आपको खुशी, शांति, और अनंत काल तक के लिए खुशी का आशीर्वाद दें|

गुरु हमें सबको बेहतर मानव बनने के लिए प्रेरित करें|

आप सबको गुरुपूरब की ढेर सारी शुभकामनाएं !

hindi
english