कोजगरा पूजा

date  2019
Ashburn, Virginia, United States X

कोजगरा पूजा
Panchang for कोजगरा पूजा
Choghadiya Muhurat on कोजगरा पूजा

कोजागरा पूजा - अनुष्ठान और महत्व

कोजागरा पूजा का दिन हिंदू धर्म के सबसे शुभ दिनों में से एक माना जाता है। यह अश्विन महीने में पूर्णिमा के दिन देवी लक्ष्मी की पूजा करने के बारे में है। यह दिन असम, पश्चिम बंगाल और उड़ीसा राज्यों में अत्यधिक खुशी और उल्लास के साथ मनाया जाता है। अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार, यह अक्टूबर या सितंबर के महीने में मनाया जाता है।

यह उत्सव ‘बंगाल लक्ष्मी पूजा’ या ‘कोजागरी पूर्णिमा’ के रूप में भी लोकप्रिय है। देवी लक्ष्मी धन, खुशी और समृद्धि की देवी हैं और ऐसा माना जाता है कि अश्विन पूर्णिमा के दिन देवी लक्ष्मी की पूजा  करने से भक्तों को प्रचुर मात्रा में धन और समृद्धि का आशीर्वाद मिलता है।

कोजागरा पूजा की पूर्व संध्या को देश के कुछ क्षेत्रों में ‘शरद पूर्णिमा’ भी कहा जाता है। बिहार और बुंदेलखंड के कुछ हिस्सों में इस त्यौहार को भव्य स्तर पर मनाया जाता है। पूजा अनुष्ठानों को करने का सबसे शुभ समय मध्यरात्रि या निशित काल होता है। पूजा का प्रमुख और महत्वपूर्ण पहलू रात में जगराता करना होता है यानी भक्तों को मध्यरात्रि जागरण करने की आवश्यकता होती है। शब्द कोजागरा उस व्यक्ति को दर्शाता है जो रात में जगता रहता है। भक्त जो मध्यरात्रि जागरण करते हैं और फिर लक्ष्मी पूजन करते हैं उन्हें देवी लक्ष्मी का दिव्य आशीर्वाद प्राप्त होता है।

कोजागरा पूजा के अनुष्ठान क्या हैं?

कोजागरा पूजा के उत्सव में कई अनुष्ठान और रीति-रिवाज शामिल हैं।

  • कोजागरा पूजा के समय, भक्त पूजा करते हैं और देवी लक्ष्मी की प्रार्थना करते हैं। देवी की मूर्ति को पंडाल या घरों में रखा या स्थापित किया जाता है। कोजागरा पूजा करने के रीति-रिवाज प्रत्येक स्थान और धर्म में भिन्न होते हैं।
  • एक पुजारी के मार्गदर्शन में, भक्त लक्ष्मी पूजा का पालन करते हैं।
  • नर्केल भाजा, तालर फोल, नारू, खिचड़ी और मिठाई देवी लक्ष्मी को भेंट की जाती है ताकि भक्त उनका दिव्य आशीर्वाद प्राप्त कर सकें।
  • इस विशेष दिन, महिलाएं अपने घरों के सामने अल्पाण बनाती हैं, यह देवी लक्ष्मी के चरणों का प्रतिनिधित्व करती है।
  • ऐसा माना जाता है कि, इस दिन,देवी लक्ष्मी सभी घरों में जाती हैं और अच्छे भाग्य और अत्यधिक समृद्धि के लिए अपना दिव्य आशीर्वाद प्रदान करती हैं।
  • भक्त रात को जागरण करते हैं और देवी मां को खुश करने के लिए मंत्र, कीर्तन और भजनों का जप हैं।
  • देवी का स्वागत करने के लिए, भक्त अपने घरों को मिट्टी के दीपक और रोशनी से उजागर करते हैं।
  • भक्त इस दिन उपवास भी करते हैं और पूरे दिन भोजन और पेयजल का इस्तेमाल नहीं करते हैं। सभी अनुष्ठानों को पूरा करने, नारियल के पानी की पेशकश करने और देवी लक्ष्मी को साबुत चावल अर्पित करने के बाद, भक्त अपना उपवास तोड़ सकते हैं।

कोजागरा पूजा का महत्व क्या है?

देवी लक्ष्मी को खुश करने के लिए कोजागरा पूजा की जाती है। हिंदू मान्यताओं के अनुसार, अश्विन महीने में आने वाली पूर्णिमा को ‘जागरण की रात’ के रूप में जाना जाता है और ऐसा माना जाता है कि भक्तों को आशीर्वाद देने के लिए माँ लक्ष्मी पृथ्वी पर आती हैं। भक्त जो अत्यंत भक्ति के साथ पूजा अनुष्ठानों का पालन करते हैं उन्हें देवी से समृद्धि, धन और दिव्य आशीर्वाद मिलता है। उत्तर भारत के राज्यों में, कोजागरा का उत्सव फसल के त्यौहार के साथ भी मेल खाता है।

देखें: आज का दैनिक राशिफल

hindi
english