Rashifal राशिफल
Raj Yog राज योग
Yearly Horoscope 2020
Janam Kundali कुंडली
Kundali Matching मिलान
Tarot Reading टैरो
Personalized Predictions भविष्यवाणियाँ
Today Choghadiya चौघडिया
Anushthan अनुष्ठान
Rahu Kaal राहु कालम

2020 मौनी अमावस्या

date  2020
Ashburn, Virginia, United States

मौनी अमावस्या
Panchang for मौनी अमावस्या
Choghadiya Muhurat on मौनी अमावस्या

मौनी अमावस्या एक महाव्रत है और देवताओं का पवित्र संगम हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार बाधित है। यह माघ माह में आती है जो कि एक पुण्य मास है और इसे माघ अमावस्या भी कहा जाता है, जिसे भगवान कृष्ण का युग माना जाता है। यह भी माना जाता है कि इस आशाजनक दिन पर द्वापर युग शुरू हुआ था।

मौनी अमावस्या के माध्यम से ज्ञान और मन का संतुलन प्राप्त करें।

क्या आप मौनी अमावस्या के तथ्यों के बारे में अधिक जानना चाहेंगे? फिर अपनी स्क्रीन पर आगे पढ़ें।

माघ अमावस पर गहरी अंतर्दृष्टि

मौन अमावस्या पर, माघ महीने में पवित्र नदियों जैसे कि गंगा नदी के किनारे या काशी में दशाश्वमेध घाट पर स्नान करने से तथा चुप (मौन) रहने से पुण्य, ज्ञान, धन और सुख की प्राप्ति होती है।

इस दिन भक्तों द्वारा मौन व्रत मनाया जाता है और इस वर्ष यह 24 जनवरी 2020 को आने वाला है। यह दिन आध्यात्मिक साधना को समर्पित है।

यह अमावस भारत के विभिन्न राज्यों में बहुत लोकप्रिय है जो इस देश के विभिन्न हिस्सों में प्रतिष्ठित है। नीचे दी गई तालिका का पालन करें:

भारत के शहर

महत्व

जाने जाते हैं

इलाहबाद (उत्तर प्रदेश)।

पवित्र गंगा में स्नान करना।

अमृत योग या कुम्भ पर्व

आंध्र प्रदेश।

पवित्र नदियों में स्नान करना।

चोलंगी अमावस्या

दूसरे प्रांत।

धार्मिक नदियों में एक पवित्र डुबकी लगाना।

दर्श अमावस्या

मौनी अमावस्या अनुष्ठान

1. माघ अमावस का महत्व

सूर्य और चंद्रमा मकर राशि में पाए जाते हैं और मौनी अमावस्या के दिन, सूर्य एक महीने के लिए मकर राशि में रहता है और चंद्रमा लगभग दो दिनों के लिए। यह खगोलीय स्थिति किसी व्यक्ति की मुख्य नाड़ियों को संतुलित करती है। इसमें महत्वपूर्ण बल होता है जो नाड़ियों को प्राणायाम और ध्यान के साथ मौन के माध्यम से स्थिर कर देता है| यह अधिनियम कुंडली शक्ति को उत्तेजित करता है और आध्यात्मिक साधना को विकसित करता है।

2. मौन व्रत

महाशिवरात्रि आने से पहले पूरे साल में मौनी अमावस आखिरी अमावस्या होती है। मौन की प्रतिज्ञा ज्ञान के जागरण को इंगित करती है और मौन विचारों या मन तथा आवेगपूर्ण कार्यों को नियंत्रित करता है। भगवद गीता (6.5) के अनुसार, किसी व्यक्ति का मन अड़ियल, अशांत, मजबूत और बेचैन होता है और इसीलिए मौनी अमावस्या पर मौन रहना आवश्यक है ताकि उस जीव्हा को नियंत्रित किया जा सके जो कि अशांत मन द्वारा उकसाई जाती है|

3. किन वस्तुओं का दान करना चाहिए?

मौनी अमावस्या अनुष्ठान के अनुसार, तिल, काले कपड़े, तेल, कंबल, जूते, गर्म कपड़े आदि चीजें दान की जा सकती हैं। जिन लोगों का चंद्रमा (कुंडली के अनुसार) कम है, वे चावल, बताशा, दूध, खीर आदि का योगदान कर सकते हैं।

4. राशि परिवर्तन

शनि (शनि देव) अपना घर बदलते हैं और विभिन्न राशियों को प्रभावित करते हैं। यह उनकी राशि मकर में प्रवेश करते हैं और शनि ढैया का मिथुन और तुला राशि पर प्रभाव पड़ता है।

5. दिन कैसे बिताया जाता है?

मौनी अमावस 24 जनवरी, 2020, विशेष के अनुसार घटित होगी।

विवरण

तारीख & दिवस

प्रारम्भ समय

अंत समय

सूर्योदय

24 जनवरी 2020,  शुक्रवार

7:13  प्रातः

 

सूर्यास्त

24 जनवरी 2020,  शुक्रवार

 

6:04  संध्या

अमावस्या तिथि

24 जनवरी 2020,  शुक्रवार

2:16 प्रातः

 

अमावस्या तिथि

25 जनवरी 2020, शनिवार

 

3:11 प्रातः

सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि मौन व्रत के अगले दिन या शाम को तीथि के अनुसार समापन होने तक पूरे दिन एक भी शब्द नहीं बोलना है| इस दिन, भक्त एकांत स्थान चुनते हैं, पवित्र नदी में स्नान करते हैं और ध्यान में बैठते हैं। अनुयायी पवित्र शास्त्र पढ़ेंगे, प्रभु के नाम का जप करेंगे और मंत्र पढ़ेंगे।

मौनी अमावस्या पर करें और क्या न करें

करें

क्या न करें

सुबह से शाम तक एक भी शब्द न बोलें।

शमशान में न घूमें।

पवित्र तीर्थ स्थलों - काशी, प्रयाग, रामेश्वरम, कन्याकुमारी, इलाहाबाद की यात्रा करें और नदी में डुबकी लगाएं।

गरीब या असहाय लोगों का अपमान न करें और अपशब्द न कहें।

व्रत रखें

इस विशेष दिन शारीरिक संभोग में संलग्न न हों।

गरीब और जरूरतमंदों को दान करें और उनकी मदद करें।

मांसाहार से बचें और सात्विक भोजन का सेवन करें।

आगामी माघ अमावस्या के वर्षों और तिथियों पर अतिरिक्त जानकारी

वर्ष

तारीख एवं दिवस

2021

11 फ़रवरी, गुरूवार

2022

1 फ़रवरी, मंगलवार

2023

21 जनवरी, शनिवार

2024

9 फ़रवरी, शुक्रवार

2025

29 जनवरी, बुधवार

निष्कर्ष:

मौनी अमावस्या के तथ्य कहते हैं कि हमेशा चंचल मन के साथ पूर्ण चुप्पी भी रहे और तीव्र विचारों को नियंत्रित करें जो जीभ के माध्यम से व्यक्त किए जाते हैं। कुल मिलाकर यह मन और शरीर की प्रक्रिया को साफ और संतुलित करती है।

hindi
english