• Powered by

  • Anytime Astro Consult Online Astrologers Anytime

Rashifal राशिफल
Raj Yog राज योग
Yearly Horoscope 2024
Janam Kundali कुंडली
Kundali Matching मिलान
Tarot Reading टैरो
Personalized Predictions भविष्यवाणियाँ
Today Choghadiya चौघडिया
Rahu Kaal राहु कालम

2024 तुलसी विवाह

date  2024
Ashburn, Virginia, United States

तुलसी विवाह
Panchang for तुलसी विवाह
Choghadiya Muhurat on तुलसी विवाह

 जन्म कुंडली

मूल्य: $ 49 $ 14.99

 ज्योतिषी से जानें

मूल्य:  $ 7.99 $4.99

तुलसी विवाह त्यौहार- रीति-रिवाज, महत्व और कथा 

तुलसी विवाह पवित्र तुलसी (बासिल) के पौधे और भगवान विष्णु या उनके अवतार भगवान श्रीकृष्ण की पवित्र शादी है। पंचांग और हिंदू कैलेंडर के अनुसार, यह औपचारिक उत्सव कार्तिक महीने के (शुक्ल पक्ष) में मनाया जाता है।

तुलसी विवाह का उत्सव ग्यारहवें चंद्र दिवस यानी प्रबोधिनी एकादशी से शुरू होता है और पूर्णिमा की रात या कार्तिक पूर्णिमा तक चलता है। हालांकि, भारत के कई हिस्सों में यह त्यौहार केवल ग्यारहवें या बारहवें चंद्र दिन मनाया जाता है। भारतीय कैलेंडर के अनुसार, यह त्यौहार अक्टूबर या नवंबर में आता है।

तुलसी विवाह का महत्व क्या है?

तुलसी विवाह को हिंदू कैलेंडर में सबसे शुभ दिन माना जाता है। यह दिन भारत में हिंदू शादीयों के मौसम की शुरुआत का प्रतीक है।

तुलसी विवाह व्रत और पूजा विवाहित महिलाओं द्वारा वैवाहिक आनंद और उनके पति और बच्चों के कल्याण के लिए धार्मिक रूप से किया जाता है, जबकि अविवाहित महिलाएं अच्छा पति पाने के लिए इस व्रत का पालन करती हैं।

तुलसी के पवित्र पौधे को देवी लक्ष्मी का अवतार माना जाता है और यह पवित्र पौधा हर हिंदू परिवार में रखा जाता है।

तुलसी शालीग्राम विवाह की कथा (कहानी)

लोकप्रिय कथाओं के अनुसार, देवी तुलसी का जन्म एक महिला, वृंदा के रूप में हुआ था, जिसका विवाह जलंधर नाम के एक दुष्ट राजा से हुआ। वह भगवान विष्णु की भक्त थी और निरंतर अपने पति के स्वास्थ्य और लंबी आयु की प्रार्थना करती थी। नतीजतन, जलंधर अजेय बन गया। भगवान शिव ने भगवान विष्णु से जलंधर की शक्ति को कमजोर करने का अनुरोध किया। तो भगवान विष्णु ने दुष्ट राजा जलंधर का रूप लिया और वृंदा को धोखा दिया। जिसके परिणामस्वरूप जलंधर शक्तिहीन हो गया और भगवान शिव ने उसे मार डाला। सच्चाई का पता चलने पर वृंदा ने भगवान विष्णु को शाप दिया और खुद समुद्र में डूब गई। भगवान विष्णु और अन्य देवताओं ने अपनी आत्मा को इस पौधे में रखा जो बाद में तुलसी के नाम से जाना जाने लगा। इसके बाद, भगवान विष्णु ने प्रबोधिनी एकादशी के दिन शालीग्राम (काला पत्थर) के रूप में अगला जन्म लिया और तुलसी से शादी की। यही कारण है कि इस दिन इस तरह के उत्साह के साथ तुलसी विवाह का त्यौहार मनाया जाता है।

तुलसी विवाह - रीति-रिवाज और समारोह

भगवान विष्णु के साथ तुलसी विवाह के रीति-रिवाज किसी हिंदू शादी समारोह की परंपराओं और रीति-रिवाजों जैसे दिखते हैं। यह मंदिरों के साथ-साथ घरों में भी किया जा सकता है। इस दिन, तुलसी विवाह व्रत रखा जाता है जिसे शाम को समारोह शुरू होने के बाद ही तोड़ा जा सकता है। किसी भी हिंदू विवाह की तरह, फूलों और रंगोली के साथ एक सुंदर ‘मंडप’ बनाया जाता है। समारोह की शुरुआत तुलसी के पौधे के साथ-साथ भगवान विष्णु की मूर्ति को स्नान कराने और फूलों या मालाओं के साथ सजा देने के साथ चिह्नित है। समारोह के दौरान, तुलसी को दुल्हन के समान सजाया जाता है जिसमें एक उज्ज्वल लाल साड़ी, गहने और बिंदी होती है। भगवान विष्णु की पीतल की मूर्ति या यहां तक कि एक शालिग्राम पत्थर (भगवान विष्णु का प्रतीक) को पारंपरिक धोती से सजाया जाता है। फिर जोड़ी को समारोह के लिए धागे से बांधा जाता है। विवाह समारोह एक पुजारी और सभी आयु की महिलाओं द्वारा भी किया जा सकता है। समारोह का अंत भक्तों द्वारा युगल पर चावल और सिंदूर की वर्षा करने को चिह्नित करता है। समारोह के बाद, उपस्थिति सभी भक्तों को ‘प्रसाद’ या ‘भोग’ वितरित किया जाता है।

पढ़े: आज का दैनिक राशिफल

यह त्यौहार सौराष्ट्र क्षेत्र के दो राम मंदिरों में बहुत ही भव्यता से मनाया जाता है। उत्सव उस दिन से शुरू होता है जब दुल्हन के मंदिर से दूल्हे के मंदिर में एक निमंत्रण पत्र भेजा जाता है। शादी के दिन, भगवान विष्णु के मंदिर से देवी तुलसी के मंदिर तक बारात या एक भव्य शोभायात्रा निकाली जाती है। बारात का तुलसी पक्ष के ग्राम वासियों द्वारा खुशी से अभिवादन किया जाता है और यह समारोह मंदिरों में पूरी रात भजन गायन के साथ समपूर्ण होता है और भगवान विष्णु अगले दिन तुलसी को घर ले जाते हैं। कुछ स्थानों पर, विवाह समारोह के समापन के बाद तुलसी आरती भी गाई जाती है।

कुछ हिस्सों में एक यह परंपरा भी है कि तुलसी विवाह का खर्च निसंतान जोड़ों या जिन जोड़ों के बेटी नहीं है, के द्वारा किया जाता है। वे इस दिन ‘कन्यादान’ समारोह भी करते हैं। तब विवाह का प्रस्ताव पुजारी को दिया जाता है। यह भी एक आम धारणा है कि जो जोड़े देवी तुलसी का कन्यादान करते हैं उन्हें जल्द ही संतान प्राप्ति का आशीर्वाद मिलता है।

Chat btn