रत्न विवरण पर्ल (मोती)


मोती शुभ रत्न है जिसे कमजोर चंद्रमा वाले व्यक्तियों द्वारा धारण किया जाता है। मोती धोंघे में हुई उत्तेजना के कारण बनता है।

जब तक मोती का निर्माण नहीं होता है, यह समुद्री जीव अटक गई रेत को ढंकता है, सीप की असंख्य गुणज सतहों में उत्तेजना पैदा करता रहता है। यही वजह है कि मोती को पालन और पोषण के रत्न के रूप में माना जाता है क्योंकि उनकी उत्पत्ति स्वयं स्व-पोषण का एक परिणाम हैअटक गई रेत को ढंकता है, नक्र के 'एन लेबर्स ऑफ लेयर लेयर' को जलन बनाते हैं। यही वजह है कि मोती को पोषण और पोषण के रूप में माना जाता है क्योंकि उनकी उत्पत्ति स्वयं स्वयं-पोषण का एक परिणाम है।

मोती में स्फटिक की बेशुमार सूक्ष्म गुण होते हैं। आभूषण के तौर पर मोती को बहुत मूल्यवान माना जाता है। मोती के कई प्रकार हैं जैसे काला मोती, गुलाबी मोती इत्यादि। आभूषण प्रेमियों में काले मोती की माला बहुत लोकप्रिय है।

Vaibhav Gems 8.25 - 8.5 Ratti Pearl GemStone 100% Certified Original Moti Stone


Combo Swasti Retail South Sea Pearl 7.25 Ratti With Lab Certificate


199 Store- 5 Carat+ Natural Pearl, Moti 100 % Original Certified


IndiRiwaaz 6.11 Ratti / 5.5 Carat Fresh Water Pearl Loose Gemstone


Pearl Stone Original Stone 6.40 Carat Moti Stone Original Astro Gemsstone


Rashi Ratan Bhagya Fresh Water Pearl (Moti) Cts 6.52 Loose Gemstones


PEARL 6.56 ct. / 7.29 Ratti PURE & IIGS CERTIFIED PEARL (MOTI) ASTROLOGICAL BIRTHSTONE


PEARL 6.56 ct. / 7.29 Ratti PURE & IIGS CERTIFIED PEARL (MOTI)


Shiva Rudraksha Ratna 9.06 Ct Certified Natural South Sea Pearl (Moti) Loose Gemstones


9.07 ct. Certified Pearl (Moti) Round Cabochon 10 ratti Best Quality Item Loose Gemstone




लाभ

प्रत्येक समाज एवं संस्कृति में आभूषण के रूप में मोती का महत्वपूर्ण स्थान है। स्त्रियाँ इसको हथफूल, माला तथा अंगूठी के रूप में पहनना पसंद करती हैं। मोती की अंगूठी बहुत शुभ मानी जाती है और इसके निम्न लाभ हैं:

  • इसके कारण मस्तिष्क में स्थिरता बढ़ती है और चंद्रमा के कारण आई नकारात्मकता को खत्म कर सकारात्मक दृष्टिकोण में बढ़ोतरी करता है।
  • यह पति-पत्नी के अच्छे संबंधों का कारक और जनक होता है। चमकदार करियर, वित्त तथा संबंधों में विश्वास तथा प्रेम और दायित्व के लिए बहुत असरदार है।
  • चूँकि, मोती स्त्रियों के लिए बहुत मूल्यवान है, इसलिए यह स्त्री ऊर्जा के लिए अपरिहार्य है।
  • जीवन में समृद्धि तथा आत्म-विश्वास बढाने में सहायक है।
  • आपकी शारीरिक शक्ति को बढ़ाती है और बुरी आत्माओं से आपकी रक्षा करते हैं।
  • व्यक्ति की रचनात्मकता तथा कला और संगीत के लिए प्रेम बढाने के साथ व्यक्ति कि स्मरण शक्ति बढ़ाती है।
हानि

मोती धारण करने के कारण होने वाली हानि निम्न है:

  • यदि व्यक्ति विशेष का चंद्रमा बलशाली हो और फिर भी मोती की ऐसी अंगूठी पहनी जाए जो धारक की चमड़ी को छू रही हो तब यह धारक के लिए अशुभ होगी।
  • यदि जातक का चंद्रमा बलशाली है तब मोती के आभूषण उसकी चमड़ी को छूने नहीं चाहिए।
जानें कितने रत्ती (कैरेट) का मोती आपके अनुकूल रहेगा?

वैदिक ज्योतिष शास्त्र के अनुसार मोती चंद्र ग्रह का प्रतिनिधित्व करता है। चंद्रमा, यदि अनुकूल स्थान पर हैं तो व्यक्ति को मोती धारण करना चाहिए। धारण किये जाने वाले मोती का आकार 6 से 8 कैरेट होना चाहिए तथा इसे चाँदी की अंगूठी में मंडित करवाना चाहिए।

विभिन्न राशियों पर मोती का प्रभाव

ज्योतिषिय दृष्टिकोण के अनुसार मोती चंद्रमा का प्रतिनिधित्व करता है यदि कुंडली में चंद्रमा लाभ की स्थिति में हो तब ही मोती धारण किया जाना चाहिए। दिमाग को शांत और ठंडा रखने में मोती बहुत सहायक होता है। जब धारक मोती पहनता है तब उसका प्रियजनों के साथ आत्मिक संबंध में बढ़ोतरी होती है और आत्म विश्वास में बढ़ोतरी होती है। इसको धारण करने से रक्त-चाप नियंत्रण में रहता है तथा उदर की समस्या नहीं रहती है।

हालाँकि, इसको धारण करने से पूर्व किसी ज्योतिषी से सलाह करना आवश्यक है। यदि चंद्रमा अशुभ स्थिति में है तब इसके कारण धारक को नुक्सान हो सकता है। अशुभ चंद्रमा के कारण धारक को मनोभ्रंश हो सकता है। अत: यह आवश्यक है कि इसे धारण करने से पूर्व चंद्रमा की स्थिति ज्ञात होनी चाहिए।

चंद्रमा का छोटे बच्चों के जीवन पर गहरा प्रभाव होता है क्योंकि नवजात का प्रारंभिक जीवन चंद्रमा के शुभ तथा अशुभ स्थान पर निर्भर करता है।

मोती की तकनीकी संरचना

ऐसा कहा जाता है कि मोती की रासायनिक संरचना में CaCo3 और H2O के रासायनिक सूत्र के साथ 82-86% कैल्शियम कार्बोनेट, 10-14% कोंकोलिन और 2-4% पानी का समावेश होता है। मोती का अपवर्तनांक सूचकांक 1.530-1.685 के बीच होता है। इसके अलावा, मोहस के पैमाने पर रत्न की कठोरता 3.5-4 के बीच होती है और इसका विशिष्ट गुरुत्व 2.65-2.85 के बीच होता है।

मोती रत्न को कैसे धारण करें

पर्ल रत्न छोटी उंगली में रजत की अंगूठी में पहना जा सकता है। अंगूठी को धारण करने से पहले पवित्र जल या कच्चे दूध में डुबाना चाहिए। इसके साथ ही, शिव-पार्वती को फूल, अगरबत्ती और चावल की अर्पित करते हुए चंद्र मंत्र - ओम श्रम श्रीम साहम साह चंद्रमामसे नमः का 108 बार जाप करना है। इससे अंगूठी में ऊर्जा प्रवाहित होगी। अनुष्ठान ठीक से करने के बाद, यह सोमवार या पूर्ण चंद्रमा या हस्त, श्रावण और रोहिणी नक्षत्र के दौरान पहनी जा सकती है।

रत्न की पहचान कैसे करें?

रत्न धारण करने से पहले उसकी प्रामाणिकता की जांच करना बहुत महत्वपूर्ण है। आइये, जानें कि नकली और वास्तविक रत्न के बीच अंतर कैसे कर सकते हैं।

अन्य रत्नों के विपरीत, मोती का पृथ्वी की सतह से उत्खनन नहीं होता है, परन्तु एक जीवित जीव इसे पैदा करता है। माना जाता है कि मोती एक घोंघे के अंदरूनी शरीर में गठित के होता है जिसमें वह 'नैक्र्रे' नामक क्रिस्टलीय पदार्थ उत्पन्न करता है।

माना जाता है कि यह पदार्थ परतों के रूप में आकार लेता है जब तक वास्तविक मोती का गठन नहीं हो जाता है। जैसा कि ज्ञात है कि 20 वीं सदी तक, असली मोती की ख़रीद का एकमात्र तरीका गोताखोरों की सहायता से था जो घोंघे के मोती को हासिल करने के लिए 100 फीट की गहराई में अपने जीवन को जोखिम में डालते थे।

इस गतिविधि को हमेशा मूल्यवान माना जाता है क्योंकि समुद्र में डुबकी लगाने वाले लोगों की सफलता की संभावना कम होती है क्योंकि कई टन घोंघों में से केवल 3-4 गुणवत्ता युक्त मोती निकलते हैं।

hindi
english
flower