2020 अनंत चतुर्दशी

date  2020
Ashburn, Virginia, United States

अनंत चतुर्दशी
Panchang for अनंत चतुर्दशी
Choghadiya Muhurat on अनंत चतुर्दशी

अनंत चतुर्दशी - महत्व और अनुष्ठान

अनंत चतुर्दशी का हिंदू धर्म में बहुत महत्व है। इस अवसर को अनंत चौदस के नाम से भी जाना जाता है। यह पवित्र दिन भगवान विष्णु को समर्पित है जिन्हें कई अवतारों के भगवान और ब्रह्मांड के संरक्षक के रूप में जाना जाता है। भगवान अनंत भी भगवान विष्णु के अवतारों में से एक हैं।

हिंदू कैलेंडर के अनुसार अनंत चतुर्दशी का त्यौहार भाद्रपद माह में शुक्ल पक्ष के 14वें दिन मनाया जाता है। यह त्योहार सामान्य भाईचारे की याद दिलाता है और कपास या रेशम के पवित्र धागे के रूप में पवित्रता की भावना के साथ 14 गांठों से भक्तों की कलाई पर बांधा जाता है। यह दिन गणेश विसर्जन की रस्म के लिए भी प्रसिद्ध है।

अनन्त चतुर्दशी की कहानी क्या है?

हिंदू पौराणिक कथाओं और हिंदू शास्त्रों के अनुसार, पांडवों द्वारा कौरवों के साथ खेले गए जुए के खेल में अपना सारा धन और वैभव खो दिया। जिसके परिणामस्वरूप, उन्हें बारह वर्षों के वनवास के लिए जाना पड़ा। राजा युधिष्ठिर ने भगवान कृष्ण से इस कठिन समय से बाहर आने का उपाय पूछा। भगवान कृष्ण ने राजा युधिष्ठिर से कहा कि वे भगवान अनंत की पूजा करें और व्रत का पालन करें क्योंकि इससे ही उनकी खोई हुई संपत्ति, वैभव और राज्य वापस मिलेंगे।

ऋषि कौंडिन्य और सुशीला की एक कहानी भगवान कृष्ण ने राजा के साथ साझा की थी जो इस प्रकार हैः

सुशीला और कौंडिन्य की कथा

प्राचीन काल में, सुमंत नाम का एक ब्राह्मण था। उनकी एक बेटी थी जिसका नाम सुशीला था। सुशीला का विवाह ऋषि कौंडिन्य के साथ हुआ था। जब ऋषि कौंडिन्य सुशीला को अपने घर ले गए, तो शाम ढलने लग गई और ऋषि नदी के किनारे शाम की प्रार्थना करने लगे। इस बीच, सुशीला ने देखा कि बहुत सारी महिलाएँ पूजा-प्रार्थना कर रही थीं। उसने महिलाओं से पूछा कि वे किससे प्रार्थना कर रही हैं। उन्होंने उसे भगवान अनन्त की पूजा करने और इस दिन का व्रत रखने के महत्व के बारे में बताया। व्रत के महत्व के बारे में सुनने के बाद, सुशीला ने भी अनंत चतुर्दशी के व्रत का पालन करने की कामना की और अपनी बांह पर एक पवित्र धागा बांधा जिसमें 14 गांठें थीं।

कौंडिन्य ने सुशीला से उसके हाथ पर बंधे धागे के रहस्य के बारे में पूछा। उसने पूरी कहानी बताई और भगवान अनंत की पूजा का महत्व भी बताया। कौंडिन्य ने यह सब कुछ मानने से मना कर दिया और पवित्र धागे को निकालकर आग में डाल दिया। भगवान अनंत का अपमान करने के परिणामस्वरूप उन्हें अपनी सारी संपत्ति खोनी पड़ी। जल्द ही, ऋषि कौंडिन्य को अपनी गलती का एहसास हुआ और उन्हें अपने किए पर पछतावा हुआ। अपनी गलतियों की माफी पाने और उन्हें सुधारने के लिए, उन्होंने उस समय तक कड़ी तपस्या से गुजरने का फैसला किया जब तक कि भगवान अनंत उसे दर्शन नहीं देते। सभी प्रयासों और भारी कठिनाइयों का सामना करने के बावजूद, कौंडिन्य देवता का दर्शन न पा सके।

जब उन्होंने महसूस किया कि उनके सभी प्रयास व्यर्थ जा रहे हैं, तो उन्होंने अपने प्राण त्यागने का फैसला किया। लेकिन जब वह ऐसा कर रहा था, अचानक एक साधु ने उसे बचा लिया, जो ऋषि को एक गुफा में ले गया। भगवान विष्णु गुफा में कुंडनिया के सामने प्रकट हुए और उन्हें भगवान अनंत की पूजा करने और अनंत चतुर्दशी का व्रत रखने के लिए 14 साल के लंबे व्रत का पालन करने की सलाह दी ताकि वह अपनी खोई हुई संपत्ति वापस पा सकें। कौंडिन्य ने वादा किया और पूर्ण श्रद्धा से लगातार 14 वर्षों तक अनंत चतुर्दशी का व्रत करना शुरू किया। इसलिए, उस दिन के बाद से लोग इस व्रत का पालन करते हैं और अनंत चतुर्दशी के दिन भगवान विष्णु से प्रार्थना करते हैं।

अनंत चतुर्दशी का क्या महत्व है?

भगवान विष्णु अपने एक अन्य नाम अनंत से भी लोकप्रिय हैं जो सनातन का प्रतीक है और चतुर्दशी शब्द का अर्थ है चैदह। अनंत चतुर्दशी की पूर्व संध्या पर, आमतौर पर पुरुष अपने सभी पिछले पापों से छुटकारा पाने के लिए और अपने बच्चों और परिवार की भलाई के लिए अनंत चतुर्दशी का व्रत रखते हैं। भगवान विष्णु का दिव्य आशीर्वाद पाने और अपनी खोई हुई समृद्धि और धन की प्राप्ति के लिए उपवास का लगातार 14 वर्षों तक पालन किया जाता है।

जैन धर्म में अनंत चतुर्दशी का महत्व

अनंत चतुर्दशी जैन धर्म में महत्वपूर्ण महत्व रखती है। हिंदू कैलेंडर के अनुसार, दिगंबर जैन भादो महीने के अंतिम 10 दिनों में पर्युषण पर्व के अनुष्ठानों का पालन करते हैं। अनंत चतुर्दशी की पूर्व संध्या पर पर्यूषण का अंतिम दिन मनाया जाता है। श्रद्धालु इस दिन कठोर उपवास रखते हैं। इस विशेष दिन पर, भगवान वासुपूज्य नाम के जैनों के 12वें तीर्थंकर ने भी निर्वाण प्राप्त किया था। इस प्रकार, अनंत चतुर्दशी का पवित्र दिन जैन लोगों के लिए बहुत महत्वपूर्ण है।

देखें: आज का हिंदी राशिफल

अनंत चतुर्दशी पूजा कैसे करें?

पूर्वी यूपी और बिहार के कुछ हिस्सों में अनंत चतुर्दशी का त्योहार विशेष रूप से भगवान विष्णु और दूध सागर (क्षीरसागर) के अनंत रूप से जुड़ा हुआ है। इस त्योहार से जुड़ी बहुत सी रस्में और रिवाज हैं।

  • सबसे पहले, भक्त एक लकड़ी का तखत लेते हैं, जिस पर वे सिंदूर के साथ चैदह तिलक लगाते हैं।
  • उसके बाद 14 पूए (मीठी गेहूं की रोटी जो कि डीप फ्राई की जाती है) और चैदह पूरियां (गेहूं की ब्रेड जो डीप फ्राई की जाती है) इन तिलकों पर रखी जाती है।
  • इसके बाद भक्त पंचामृत बनाते देते हैं, जो ‘दूध सागर’ (क्षीरसागर) का प्रतीक है।
  • एक पवित्र धागा जिसमें 14 गांठें होती हैं जो भगवान अनंत को ककड़ी पर बांधा जाता है और फिर पांच बार ‘दूध के महासागर’ में घुमाया जाता है।
  • श्रद्धालु एक व्रत का पालन करते हैं और फिर हल्दी और कुमकुम से रंगे हुए पवित्र धागे को अपनी बांह पर (पुरूषों के दाएं हाथ और स्त्रियों के बाएं हाथ में) अनंत सूत्र के रूप में बांधते हैं। 14 दिनों की अवधि के बाद, पवित्र धागा हटा दिया जाता है।

hindi
english