2020 भीष्म पंचक शुरू

date  2020
Ashburn, Virginia, United States

भीष्म पंचक शुरू
Panchang for भीष्म पंचक शुरू
Choghadiya Muhurat on भीष्म पंचक शुरू

भीष्म पंचक व्रत

भीष्म पंचक व्रत हिंदू कैलेंडर के कार्तिक माह के दौरान शुक्ल पक्ष की देवोत्थान एकादशी अर्थात ग्यारहवें दिन से शुरू होता है, जिसे देवोत्थान एकादशी भी कहा जाता है। इस व्रत का नाम महाभारत के पात्र भीष्म से पड़ा है। इस व्रत का पालन पांच दिनों तक किया जाता है जो एकादशी व्रत के दिन भीष्मदेव को याद करके शुरू होता है और पूर्णिमा के दिन सम्पूर्ण होता है। भीष्म पंचक व्रत के दौरान, पूरे महीने अनाज खाने से बचना चाहिए और पिछले पांच दिनों में सिर्फ दूध या पानी का सेवन करना चाहिए। भीष्म पंचक को विष्णु पंचक के रूप में भी जाना जाता है।

भीष्म पंचक का महत्व

भीष्म पंचक हिंदू कैलेंडर के अनुसार कार्तिक माह के अंतिम पांच दिनों में मनाया जाता है, जो कि अश्विन पूर्णिमा या शरद पूर्णिमा से शुरू होता है और कार्तिक पूर्णिमा के साथ सम्पूर्ण होता है। हरि प्रबोधिनी एकादशी को भीष्म पंचक के पहले दिन के रूप में मनाया जाता है।

भगवान श्रीकृष्ण ने भीष्म को भीष्म पंचक व्रत का महत्व बताया था, जिन्होंने महाभारत में कुरुक्षेत्र युध के समापन के बाद, स्वर्ग में निवास के लिए अपने भौतिक शरीर को छोड़ने से पहले इन पांच दिनों तक इस व्रत का पालन किया था।

मोक्ष प्राप्ति के लिए और अपने पापों के निवारण के लिए भक्त इन पांच दिनों के दौरान उपवास करते हैं। इस समय के दौरान श्रद्धालु अपने और अपने बच्चों के अच्छे स्वास्थ्य के लिए उपवास भी करते हैं।

भीष्म पंचक व्रत की महानता पद्म पुराण में वर्णित है। यह वर्णित किया गया है कि कार्तिक का यह महीना भगवान श्री हरि को बहुत प्रिय है और इस महीने के दौरान सुबह जल्दी स्नान करने से भक्तों को सभी तीर्थ स्थानों में स्नान करने का लाभ मिलता है।

कृतिका वृत्तिं विप्रं यतोक्तं किं करम
यम दुतह पलयन्ते सिम्हम द्रष्ट्वा यथा गजः
श्रीस्तम विष्णु विप्र तत् तूल्या न सत्यम् मखः
क्रत्वा फ्रतुम उरजे स्वार्ग्यम वैकुंठम कृतिका व्रती

- पद्म पुराण

भीष्म पंचक के अनुष्ठान और इस व्रत के दौरान की जाने वाले प्रार्थनाओं का उल्लेख गरुड़ पुराण में भीष्म पंचक कथा में किया गया है।

भीष्म पंचक को महाभारत भीष्म पंचक या विष्णु पंचक के रूप में भी जाना जाता है। भीष्म पंचक के इन पांच दिनों के दूसरे दिन को तुलसी विवाह के रूप में मनाया जाता है, और पांचवें दिन को कार्तिक पूर्णिमा के रूप में मनाया जाता है।

भीष्म पंचक व्रत विधान

प्राचीन हिंदू धर्मग्रंथ गरुड़ पुराण में बताया गया है कि भीष्म पंचक के दौरान भगवान को विशेष प्रसाद अर्पित करना चाहिए।

पहला दिन, देव उत्थान एकादशी भगवान के चरणों में कमल के फूल अर्पित करें।
दूसरा दिन, तुलसी विवाह भगवान की जांघ पर बिल्व पत्र चढ़ाएं।
तीसरा दिन, विश्वेश्वर व्रत भगवान की नाभि पर सुगंध (इत्र) अर्पित करें।
चैथा दिन, मणिकर्णिका स्नान भगवान के कंधे पर जावा फूल चढ़ाएं।
पांचवां दिन, कार्तिक पूर्णिमा भगवान के सिर पर मालती के फूल चढ़ाएं।

यह भी माना जाता है कि विष्णु पंचक के प्रत्येक दिन गंगा या किसी अन्य पवित्र नदियों में स्नान करना चाहिए, और निम्नलिखित मंत्र का जप करके भीष्मदेव को तर्पण प्रदान करना चाहिए-

  • तर्पण

“ओम वैयाघरा पाद्य गोत्रया
समकृति प्रवरया च
अपुत्रया ददमयेतत
सलिलम भीष्मवर्मन ”

  • अर्घ्य

वसुनामवत्राय
संतनोरतमजया च
अर्घ्यम् ददामि भीष्मया
आजन्म ब्रह्मचारिणी

  • प्रणाम

“ओम भीष्मः संतानव बिरह
सत्यवादी जितेन्द्रियः
अभीर्दभिर्वपतन
पुत्रपौत्रोचितम क्रियाम ”

ऐसा माना जाता है कि इन पांच दिनों में व्रत और पूजा विधी का पालन करने से व्यक्ति मोक्ष का मार्ग पा सकता है।

hindi
english