Rashifal राशिफल
Raj Yog राज योग
Yearly Horoscope 2020
Janam Kundali कुंडली
Kundali Matching मिलान
Tarot Reading टैरो
Personalized Predictions भविष्यवाणियाँ
Today Choghadiya चौघडिया
Anushthan अनुष्ठान
Rahu Kaal राहु कालम

2020 दही हांड़ी

date  2020
Ashburn, Virginia, United States

दही हांड़ी
Panchang for दही हांड़ी
Choghadiya Muhurat on दही हांड़ी

दही हांडी उत्सव

दही हांडी का वास्तविक अर्थ एक मिट्टी का बर्तन है जो मक्खन या दही से भरा होता है। दही हांडी को गोपाल कला के नाम से जाना जाता है जिसे कृष्ण जन्माष्टमी के अगले दिन मनाया जाता है। गोपाल कला नाम एक विशिष्ट पकवान से निकला है जो मीठे गुड़, कूटे हुए चावल और मलाईदार दही से बनता है। दही हांडी के पवित्र दिन पर, मिट्टी के बर्तन यानी दही हांडी मक्खन या दही से भरी होती है, जिसे भगवान कृष्ण को समर्पित जाता है क्योंकि यह उनका सबसे पसंदीदा पकवान था।

प्रमुख राज्य जहां इस त्योहार को बहुत उत्साह के साथ और एक भव्य उत्सव के रूप में मनाया जाता है, वे गुजरात और महाराष्ट्र हैं। लेकिन वर्तमान समय में, यह त्योहार एक प्रमुख समारोह बन गया है और पूरे भारत में मनाया जाता है। बहुत उत्साह और जोश के साथ, युवा दही हांडी उत्सव में भाग लेते हैं। यह त्योहार हिंदुओं द्वारा दुनिया के विभिन्न हिस्सों में मनाया जाता है।

दही हांडी कब है?

दाही हांडी का त्यौहार भगवान कृष्ण के जन्म के अगले दिन मनाया जाता है। हिंदू मान्यता के अनुसार, भगवान कृष्ण और उनके मित्र मक्खन या दही जो कि वृन्दावन में मिटटी के बर्तन में लटके हुए रहते थे, मानव पिरामिड बनाकर चुराते थे। हिंदू पंचांग के अनुसार, दही हांडी त्यौहार मनाया जाएगा।

हम दही हांडी क्यों मनाते हैं?

दही हांडी त्यौहार भगवान कृष्ण के खुशी और उत्साह से जीवन जीने के तरीके का प्रतीक है। अपने बचपन में भगवान कृष्ण काफी चंचल प्रवर्ति के एवं मक्खन,और दही खाने के बेहद शौकीन थे। समय बीतने के साथ, मक्खन और दही के लिए उनका प्यार और सनक बढ़ती रही और इसलिए भगवान कृष्ण ने इसे मजेदार और रोमांचक तरीके से चुराना शुरू कर दिया।

जाने अपनी दिनचर्या आपके दैनिक राशिफल के साथ

जब भगवान कृष्ण और उनकी सेना ने दही और दूध पाने के लिए पड़ोस के घरों पर नजर डालना शुरू किया, तो पड़ोस कि स्त्रियों ने सावधानी बरतना शुरू कर दिया,और बर्तनों को बचाने की कोशिश में मक्खन और दही से भरे बर्तन ऊंचाई पर लटकाना शुरू कर दिया। इसके पीछे मुख्य विचार, युवा भगवान कृष्ण और उनकी सेना की छोटी ऊंचाई का लाभ उठाने और इन बर्तनों को उनकी पहुंच से दूर रखकर, उनके हाथों से बचाने का था।

इन महिलाओं की सोच को चुनौती देने के लिए, भगवान कृष्ण ने मिट्टी के बर्तनों तक पहुंचने के लिए चढ़ाई और मानव पिरामिड बनाने की योजना तैयार की। उस अवधि के बाद से, दही हांडी भारतीय संस्कृति के बीच एक मजेदार और जीवंत त्यौहार बन गया था। आज भारत के लगभग सभी हिस्सों में, मिट्टी के बर्तन को तोड़ने को शुभ माना जाता है और दही हांडी का उत्सव बहुत भक्ति और उत्साह के साथ मनाया जाता है।

हम दही हांडी का उत्सव कैसे मनाते हैं?

दही हांडी का अनुष्ठान कई युवाओं की एक टीम द्वारा ऊंचाई पर बंधे हुए मिट्टी के बर्तन को तोड़ने का प्रतीक है और इसे एक खेल आयोजन के रूप में माना जाता है। लंबे इतिहास में यह त्यौहार देश के सबसे दिलचस्प और व्यापक रूप से ज्ञात देशी खेलों में से एक के रूप में पहचाना गया है। दही हांडी के पवित्र त्यौहार के दौरान एक बड़ा मिट्टी का बर्तन फल, शहद, मक्खन, दही और दूध से भरा जाता है। फिर, इस बर्तन को लगभग बीस से चालीस फीट की ऊंचाई से लटका दिया जाता है। युवा पुरुष और लड़के आमतौर पर एक दूसरे के कंधे के समर्थन से खड़े होकर मानव पिरामिड बनाते हैं ताकि अंतिम व्यक्ति शीर्ष पर पहुंच सके और मिट्टी के बर्तन को तोड़ सके।

कई पुरस्कार राशि और विभिन्न अन्य पुरस्कार होते हैं जिन्हें विभिन्न पार्टियों द्वारा प्रायोजित किया जाता है। यह पुरस्कार राशि जीतने वाली टीमों को दी जाती है। कम से कम समय में हांडी को तोड़ने वाली टीम को विजेता घोषित किया जाता है और उन्हें बड़ी इनाम राशि दी जाती है। इसलिए, यह भी कई कारणों में से एक है कि क्यों लोग, विशेष रूप से युवा दही हांडी उत्सव के लिए इतने उत्साहित होते हैं।

जीवन में किसी भी समस्या के समाधान के लिए हमारे सुप्रसिद्ध ज्योतिष से संपर्क करे!

hindi
english