2020 कंस वध

date  2020
Ashburn, Virginia, United States

कंस वध
Panchang for कंस वध
Choghadiya Muhurat on कंस वध

कंस वध अनुष्ठान और महत्व

बुराई पर अच्छाई की जीत का जश्न कंस वध के उत्सव को दर्शाता है। इस विशेष दिन, भगवान श्रीकृष्ण ने ‘कंस’ की हत्या करके राजा उग्रसेन को भारत के मुख्य शासक बनाया था। हिंदू कैलेंडर के अनुसार, यह त्यौहार कार्तिक महीने में शुक्ल पक्ष के दसवें दिन (दशमी तिथि) पर मनाया जाता है। अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार, यह त्यौहार नवंबर के महीने में दिवाली के बाद आता है।

कार्तिक महीने का महत्वपूर्ण त्यौहार दिवाली

हिंदू शास्त्रों और पौराणिक कथाओं के अनुसार, मथुरा राज्य में कंस को एक दुष्ट शासक के रूप में पहचाना जाता था। भगवान विष्णु ने अपने आठवें अवतार भगवान श्रीकृष्ण के रूप में कंस का वध किया और अपने माता-पिता और दादा को कंस के शासन और जेल से रिहा करवाया। ‘कंस वध’ का त्यौहार बुराई के अंत और ब्रह्मांड में भलाई के स्थायित्व को दर्शाता है और इसे अधर्म पर धर्म की जीत के रूप में मनाया जाता है। उत्तर प्रदेश के राज्यों और मथुरा में, इस दिन को अत्यधिक जोश और उत्साह के साथ मनाया जाता है।

कंस वध के अनुष्ठान क्या हैं?

कंस वध की पूर्व संध्या पर, भक्त राधारानी और भगवान श्रीकृष्ण की उपासना करते हैं। देवताओं को खुश करने के लिए, कई तरह की मिठाईयां और कई अन्य व्यंजन तैयार किए जाते हैं।
कंस की एक मूर्ति तैयार की जाती है और बाद में भक्त इसे बुराई पर अच्छाई की जीत के प्रतीक के रूप में जलाते हैं। यह त्यौहार ये भी दर्शाता है कि बुराई कम समय के लिए रहती है और अंततः हमेशा सच्चाई और भलाई की जीत होती है।
कंस वध की पूर्व संध्या पर, एक विशाल शोभायात्रा निकाली जाती है, जहां सैकड़ों भक्त पवित्र मंत्र ‘हरे राम हरे कृष्ण’ का उच्चारण करते हैं।

मथुरा में, हर नुक्कड़ और कोने में कई सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं, जैसे नृत्य, संगीत, नाटक इत्यादि। मथुरा में ‘कंस वध लीला’ नामक एक प्रसिद्ध नाटक का चित्रण किया जाता है जिसका सभी नागरिकों द्वारा आनंद लिया जाता है।

कंस वध की कहानी क्या है?

भगवान श्रीकृष्ण के भक्तों के लिए, कंस वध के त्यौहार का धार्मिक और नैतिक महत्व भी है। इस दिन बुराई पर अच्छाई की जीत का जश्न मनाया जाता है। मान्यताओं के अनुसार, कंस ने अपने शासन काल के दौरान कई बुरे कर्म और कई मनुष्यों को मारा था। सबसे ऊपर, जब दुष्ट राजा को पता चला कि वह देवकी के 8वें पुत्र द्वारा मारा जाने वाला है, तो उसने अपनी बहन को उसके पति के साथ कैद कर दिया और साथ ही साथ उनके सभी बच्चों को मार डाला।

जाने श्रीकृष्णा जन्माष्टमी उत्सव के बारे में

लेकिन कंस के सभी बुरे कर्मों और प्रयासों के बावजूद, देवकी के 8वें पुत्र भगवान श्रीकृष्ण बच गए और वृंदावन में यशोदा और नंद ने उनकी परवरिश की। जब कंस को इसके बारे में पता चला, तो उसने भगवान श्रीकृष्ण को मारने के कई प्रयास किए लेकिन सभी व्यर्थ हो गए। फिर, कंस के आखिरी प्रयास के बाद, भगवान श्रीकृष्ण ने उन्हें भगवान विष्णु के अवतार के रूप में मार डाला और अपने दादा और माता-पिता को रिहा करवाया। यह सभी बुरे कर्मों का अंत था और राजा उग्रसेन को मथुरा के राजा के रूप में पुनः सम्मानित किया गया। उस समय से, ‘कंस वध’ का यह दिन दुनिया में सच्चाई व अच्छाई के होने और बुराई को मिटाने के प्रतीक के रूप में मनाया जाता है।

hindi
english