सिंधारा दूज

date  2019
Ashburn, Virginia, United States X

सिंधारा दूज
Panchang for सिंधारा दूज
Choghadiya Muhurat on सिंधारा दूज

सिंधारा दौज का महत्त्व (चैत्र नवरात्रि का दूसरा दिन)

सिंधारा दूज नवरात्रि के दूसरे दिन उत्तरी भारत के सभी हिस्सों में महिलाओं द्वारा मनाया जाने वाला सबसे शुभ और जीवंत उत्सव है। यह एक ऐसा दिन है जब सभी उत्सव बहूओं को समर्पित होते हैं। कुछ महिलाएं इस दिन उपवास भी करती हैं और अपने पतियों की दीर्घायु के लिए प्रार्थना करती हैं।

उत्तरी भारत के कुछ हिस्सों में सभी महिलाओं द्वारा सिंधारा दूज को बहुत उत्साह और श्रद्धा के साथ मनाया जाता है। कुछ हिस्सों में, महिलाएं एक-दूसरे के साथ उपहारों का आदान-प्रदान करती हैं और पारंपरिक पोशाक भी पहनती हैं। शाम में, देवी को मिठाई और फूल अर्पण कर बेहद श्रद्धा के साथ गौरी पूजा की जाती है। सिंधारा दूज को सौभाग्य दूज, गौरी द्वितिया या स्थान्य वृद्धि के रूप में भी जाना जाता है। इस दिन मां ब्रह्मचारिणी की भी पूजा की जाती है।

सिंधारा दूज तिथि

हिंदू कैलेंडर के अनुसार, सिंधारा दूज चैत्र माह में शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि को मनायी जाती हैं।

सिंधारा दूज - रीति-रिवाज और समारोह

  • सिंधारा दूज के शुभ त्यौहार पर, महिलाओं ने खुद को पारंपरिक पोशाक में सजाती हैं, अपने हाथों और पैरों पर मेहन्दी लगाती हैं और भारी गहने पहनती हैं। चूड़ीयां इस उत्सव का अभिन्न अंग है। वास्तव में, नई चूड़ीयां खरीदना और अन्य महिलाओं को चूड़ीयों का उपहार देना भी इस उत्सव की एक दिलचस्प परंपरा है।
  • मुख्य रूप से यह बहुओं का त्योहार है। इस दिन सास अपनी बहुओं को भव्य उपहार प्रस्तुत करती हैं, जो अपने माता-पिता के घर में इन उपहारों के साथ आते हैं। सिंधारा दूज के दिन, बहूऐं अपने माता-पिता द्वारा दिए गए ‘बाया’ लेकर अपने ससुराल वापस आ जाती हैं। ‘बाया’ में फल, व्यंजन और मिठाई और धन शामिल होता है।
  • शाम को गौर माता या देवी पार्वती की पूजा करने के बाद, वह अपनी सास को यह ‘बाया’ भेंट करती हैं।
  • दक्षिण भारत में, खासकर तमिलनाडु और केरल में, महेश्वरी सप्तमत्रिका पूजा सिंधारा दूज के दिन की जाती है।
  • यह महिलाओं के लिए एक महत्वपूर्ण त्योहार है, क्योंकि वे एक सुखी और आनंदित विवाहित जीवन के लिए गौर माता का आशीर्वाद चाहती हैं।

hindi
english