Rashifal राशिफल
Raj Yog राज योग
Yearly Horoscope 2021
Janam Kundali कुंडली
Kundali Matching मिलान
Tarot Reading टैरो
Personalized Predictions भविष्यवाणियाँ
Today Choghadiya चौघडिया
Anushthan अनुष्ठान
Rahu Kaal राहु कालम

Shri Hanuman Aarti

पूजा के लिए हनुमान जी की आरती। आरती कीजै हनुमान लला की दुष्ट दलन रघुनाथ कला की आरती गीत। आरती कीजै हनुमान लला की दुष्ट दलन रघुनाथ कला की आरती गीत हिंदी और अंग्रेजी में - Aarti Kije Hanuman Lala ki Aarti Lyrics in Hindi and English. भगवान बजरंगबली हिंदू धर्म के प्रमुख और सबसे लोकप्रिय देवताओं में से एक हैं। हिंदू शास्त्रों के अनुसार, हनुमान जी की पूजा बाधाओं को समाप्त कर सकती है और भगवान हनुमान जी के आशीर्वाद से हमारे जीवन में सफलता, खुशी और समृद्धि आती है। सुबह और शाम की पूजा में हनुमान जी की आरती गाने से मन प्रसन्न रहता है। हनुमान जी आपकी सभी इच्छाओं को पूरा करते है और दुखों को दूर करते है। “आरती कीजै हनुमान लला की दुष्ट दलन रघुनाथ कला की” आरती हनुमानजी की सबसे लोकप्रिय आरती है जिसे भक्तों द्वारा हनुमान जी का आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए गायी जाता है। आध्यात्मिक ज्ञान वृद्धि और अलौकिक शक्तियो का आह्वान करने के लिए भक्त भगवान बजरंगबली की पूजा और अनुष्ठान में शक्तिशाली हनुमान मंत्रों का जाप करते हैं। ऐसा माना जाता है कि हनुमान जयंती और दीवाली हनुमान पूजा से जुड़े विशेष उत्सवों में आरती कीजै हनुमान लला की दुष्ट दलन रघुनाथ कला की आरती गाने वाले भक्तो से हनुमान जी बहुत प्रसन्न होते है। हनुमान जी की पूजा आरती में हनुमान जी के मंत्रों का जाप करने से आध्यात्मिक शक्ति का आभास होता है। हनुमान जी की प्रसन्न करने के लिए शुभ मुहूर्त में आप हनुमान चालीसा का पाठ और सुन्दरकाण्ड का जाप भी कर सकते है।

आरती कीजै हनुमान लला की दुष्ट दलन रघुनाथ कला की आरती के बोल हिंदी और अंग्रेजी में। हनुमान जयंती, मंगलवार, शनिवार और दीवाली हनुमान पूजा पर हनुमान जी की पूजा करने के लिए इस आरती का विशेष महत्व है।

monthly_panchang

आरती श्री हनुमानजी

आरती कीजै हनुमान लला की। दुष्ट दलन रघुनाथ कला की॥
जाके बल से गिरिवर कांपे। रोग दोष जाके निकट न झांके॥
अंजनि पुत्र महा बलदाई। सन्तन के प्रभु सदा सहाई॥
दे बीरा रघुनाथ पठाए। लंका जारि सिया सुधि लाए॥
लंका सो कोट समुद्र-सी खाई। जात पवनसुत बार न लाई॥
लंका जारि असुर संहारे। सियारामजी के काज सवारे॥
लक्ष्मण मूर्छित पड़े सकारे। आनि संजीवन प्राण उबारे॥
पैठि पाताल तोरि जम-कारे। अहिरावण की भुजा उखारे॥
बाएं भुजा असुरदल मारे। दाहिने भुजा संतजन तारे॥
सुर नर मुनि आरती उतारें। जय जय जय हनुमान उचारें॥
कंचन थार कपूर लौ छाई। आरती करत अंजना माई॥
जो हनुमानजी की आरती गावे। बसि बैकुण्ठ परम पद पावे॥

1

1. हनुमान जी की आरती का जाप करने के क्या फायदे हैं?

हनुमान जी की आरती

  • हनुमान जी की आरती शक्ति, शक्ति और बुद्धि प्रदान करती है। यह आपकी सभी इच्छाओं को पूरा करता है और आपके प्रयासों में आपकी मदद करता है।
  • हनुमान जी की आरती गाने से आर्थिक समस्याएं दूर होती हैं और समृद्धि और धन आता है।
  • यदि आपने वर्तमान जीवन या पिछले जन्मों में पाप किए हैं, तो भगवान हनुमान आरती गाकर, आप अपने सभी पापों और नकारात्मक ऊर्जाओं से छुटकारा पा सकते हैं।
  • हनुमान आरती गाकर हनुमान की पूजा करने से आपको नौकरी पाने में मदद मिल सकती है। यह परिवार और कैरियर की समस्याओं को हल कर सकता है और आपको सफलता पाने में मदद कर सकता है।
  • श्री हनुमान जी की आरती धन प्राप्ति और आपके व्यवसाय को बेहतर बनाने में लाभदायक है।
  • हनुमान जी की आरती साझा करती है कि जो कोई हनुमान चालीसा गाता है या हनुमान आरती करता है वह भगवान राम का आशीर्वाद प्राप्त करता है। यह आपको सभी बीमारियों और बुरी ऊर्जाओं से मुक्त करता है।
  • श्री हनुमान आरती भक्तों को भगवान महाविष्णु के आकाशीय निवास वैकुंठ तक पहुंचने में मदद कर सकती है।
  • श्री हनुमान जी की आरती सभी खतरों को दूर रखती है और किसी भी प्रकार की बाधाओं को दूर करने में मदद करती है।
  • श्री हनुमान आरती- आरती हनुमान लाला की जोड़ी भक्तों को पीड़ा, दुख, बुरी आदतों और लंबे समय से चली आ रही स्वास्थ्य समस्याओं से उबरने में मदद करती है।
  • यह साहस प्रदान करता है और भक्तों को विश्वास, स्थिरता और सुरक्षा प्रदान करता है।
  • यदि आप अध्ययन और शिक्षा में समस्याओं का सामना कर रहे हैं, तो हनुमान जी की आरती का पाठ करने से मुद्दों को हल किया जा सकता है और अच्छे ग्रेड प्राप्त करने में मदद मिल सकती है।

2. कैसे करें भगवान हनुमान की पूजा और हनुमान मंत्र का जाप

  • हनुमान आरती शुरू करने और जप करने से पहले हमेशा स्नान करें।
  • भगवान की मूर्ति से पहले, एक शेल को उड़ाएं और घी और कपास की गेंद के साथ एक दीया जलाएं। आप आरती के लिए भी कपूर का इस्तेमाल कर सकते हैं।
  • फिर हनुमान जी की आरती करें और आरती गाते हुए ताली बजाएं।

Shri Hanuman Aarti

पूजा के लिए हनुमान जी की आरती। आरती कीजै हनुमान लला की दुष्ट दलन रघुनाथ कला की आरती गीत। आरती कीजै हनुमान लला की दुष्ट दलन रघुनाथ कला की आरती गीत हिंदी और अंग्रेजी में - Aarti Kije Hanuman Lala ki Aarti Lyrics in Hindi and English. भगवान बजरंगबली हिंदू धर्म के प्रमुख और सबसे लोकप्रिय देवताओं में से एक हैं। हिंदू शास्त्रों के अनुसार, हनुमान जी की पूजा बाधाओं को समाप्त कर सकती है और भगवान हनुमान जी के आशीर्वाद से हमारे जीवन में सफलता, खुशी और समृद्धि आती है। सुबह और शाम की पूजा में हनुमान जी की आरती गाने से मन प्रसन्न रहता है। हनुमान जी आपकी सभी इच्छाओं को पूरा करते है और दुखों को दूर करते है। “आरती कीजै हनुमान लला की दुष्ट दलन रघुनाथ कला की” आरती हनुमानजी की सबसे लोकप्रिय आरती है जिसे भक्तों द्वारा हनुमान जी का आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए गायी जाता है। आध्यात्मिक ज्ञान वृद्धि और अलौकिक शक्तियो का आह्वान करने के लिए भक्त भगवान बजरंगबली की पूजा और अनुष्ठान में शक्तिशाली हनुमान मंत्रों का जाप करते हैं। ऐसा माना जाता है कि हनुमान जयंती और दीवाली हनुमान पूजा से जुड़े विशेष उत्सवों में आरती कीजै हनुमान लला की दुष्ट दलन रघुनाथ कला की आरती गाने वाले भक्तो से हनुमान जी बहुत प्रसन्न होते है। हनुमान जी की पूजा आरती में हनुमान जी के मंत्रों का जाप करने से आध्यात्मिक शक्ति का आभास होता है। हनुमान जी की प्रसन्न करने के लिए शुभ मुहूर्त में आप हनुमान चालीसा का पाठ और सुन्दरकाण्ड का जाप भी कर सकते है।

आरती कीजै हनुमान लला की दुष्ट दलन रघुनाथ कला की आरती के बोल हिंदी और अंग्रेजी में। हनुमान जयंती, मंगलवार, शनिवार और दीवाली हनुमान पूजा पर हनुमान जी की पूजा करने के लिए इस आरती का विशेष महत्व है।

आरती श्री हनुमानजी

आरती कीजै हनुमान लला की। दुष्ट दलन रघुनाथ कला की॥
जाके बल से गिरिवर कांपे। रोग दोष जाके निकट न झांके॥
अंजनि पुत्र महा बलदाई। सन्तन के प्रभु सदा सहाई॥
दे बीरा रघुनाथ पठाए। लंका जारि सिया सुधि लाए॥
लंका सो कोट समुद्र-सी खाई। जात पवनसुत बार न लाई॥
लंका जारि असुर संहारे। सियारामजी के काज सवारे॥
लक्ष्मण मूर्छित पड़े सकारे। आनि संजीवन प्राण उबारे॥
पैठि पाताल तोरि जम-कारे। अहिरावण की भुजा उखारे॥
बाएं भुजा असुरदल मारे। दाहिने भुजा संतजन तारे॥
सुर नर मुनि आरती उतारें। जय जय जय हनुमान उचारें॥
कंचन थार कपूर लौ छाई। आरती करत अंजना माई॥
जो हनुमानजी की आरती गावे। बसि बैकुण्ठ परम पद पावे॥

1. हनुमान जी की आरती का जाप करने के क्या फायदे हैं?

हनुमान जी की आरती

  • हनुमान जी की आरती शक्ति, शक्ति और बुद्धि प्रदान करती है। यह आपकी सभी इच्छाओं को पूरा करता है और आपके प्रयासों में आपकी मदद करता है।
  • हनुमान जी की आरती गाने से आर्थिक समस्याएं दूर होती हैं और समृद्धि और धन आता है।
  • यदि आपने वर्तमान जीवन या पिछले जन्मों में पाप किए हैं, तो भगवान हनुमान आरती गाकर, आप अपने सभी पापों और नकारात्मक ऊर्जाओं से छुटकारा पा सकते हैं।
  • हनुमान आरती गाकर हनुमान की पूजा करने से आपको नौकरी पाने में मदद मिल सकती है। यह परिवार और कैरियर की समस्याओं को हल कर सकता है और आपको सफलता पाने में मदद कर सकता है।
  • श्री हनुमान जी की आरती धन प्राप्ति और आपके व्यवसाय को बेहतर बनाने में लाभदायक है।
  • हनुमान जी की आरती साझा करती है कि जो कोई हनुमान चालीसा गाता है या हनुमान आरती करता है वह भगवान राम का आशीर्वाद प्राप्त करता है। यह आपको सभी बीमारियों और बुरी ऊर्जाओं से मुक्त करता है।
  • श्री हनुमान आरती भक्तों को भगवान महाविष्णु के आकाशीय निवास वैकुंठ तक पहुंचने में मदद कर सकती है।
  • श्री हनुमान जी की आरती सभी खतरों को दूर रखती है और किसी भी प्रकार की बाधाओं को दूर करने में मदद करती है।
  • श्री हनुमान आरती- आरती हनुमान लाला की जोड़ी भक्तों को पीड़ा, दुख, बुरी आदतों और लंबे समय से चली आ रही स्वास्थ्य समस्याओं से उबरने में मदद करती है।
  • यह साहस प्रदान करता है और भक्तों को विश्वास, स्थिरता और सुरक्षा प्रदान करता है।
  • यदि आप अध्ययन और शिक्षा में समस्याओं का सामना कर रहे हैं, तो हनुमान जी की आरती का पाठ करने से मुद्दों को हल किया जा सकता है और अच्छे ग्रेड प्राप्त करने में मदद मिल सकती है।

2. कैसे करें भगवान हनुमान की पूजा और हनुमान मंत्र का जाप

  • हनुमान आरती शुरू करने और जप करने से पहले हमेशा स्नान करें।
  • भगवान की मूर्ति से पहले, एक शेल को उड़ाएं और घी और कपास की गेंद के साथ एक दीया जलाएं। आप आरती के लिए भी कपूर का इस्तेमाल कर सकते हैं।
  • फिर हनुमान जी की आरती करें और आरती गाते हुए ताली बजाएं।
hindi
english