Rashifal देव दिवाली
Rashifal राशिफल
Raj Yog राज योग
Yearly Horoscope 2021
Janam Kundali कुंडली
Kundali Matching मिलान
Tarot Reading टैरो
Personalized Predictions भविष्यवाणियाँ
Today Choghadiya चौघडिया
Anushthan अनुष्ठान
Rahu Kaal राहु कालम

प्रसिद्ध नव दुर्गा मंदिर - Maa Durga Temple

Famous Maa Navdurga Temple

Updated Date : मंगलवार, 06 अक्तूबर, 2020 11:56 पूर्वाह्न

नवरात्रि शक्तिशाली देवी दुर्गा को समर्पित त्योहार है। यह नौ दिनों तक चलने वाला त्योहार है जब हिंदू भक्त देवी दुर्गा (नवदुर्गा) के नौ रूपों की पूजा करते हैं। नवरात्रि पर्व के दौरान, भक्त नव दुर्गा की पूजा करते हैं और माँ दुर्गा का आशीर्वाद लेने के लिए पूजा, अनुष्ठान करते हैं।

पुराणों के अनुसार, नव दुर्गा का प्रत्येक रूप अद्वितीय और शक्तिशाली है। शक्तिपीठों या दुर्गा मंदिरों में जाकर, भक्त अपने कार्यों को पूरा कर सकते हैं और अपनी सभी इच्छाओं को पूरा कर सकते हैं। भारत में, माँ दुर्गा के विभिन्न मंदिर उपस्थित हैं लेकिन नौ प्रसिद्ध दुर्गा मंदिर हैं जो विशेष रूप से देवी दुर्गा के नौ रूपों को समर्पित हैं। ऐसा माना जाता है कि ये नव दुर्गा मंदिर देवी दुर्गा के विशेष निवास हैं। जो लोग नवरात्रि के दौरान इन दुर्गा मंदिरों में जाते हैं, उन्हें अच्छे स्वास्थ्य, शांति, ज्ञान और सभी जीवन सुख प्राप्त होते हैं।

यहां नव दुर्गा के नौ मंदिरों के बारे में बताया गया है, जहां आप नवरात्रि पर्व के दौरान देवी दुर्गा का आशीर्वाद लेने के लिए जा सकते हैं।

श्री दुर्गा चालीसा नवरात्री पूजा के लिए।

प्रसिद्ध नव दुर्गा मंदिर

1. शैलपुत्री मंदिर, वाराणसी


नवरात्रि का पहला दिन देवी दुर्गा के पहले रूप देवी शैलपुत्री को समर्पित है। देवी शैलपुत्री माँ प्रकृति का पूर्ण स्वरूप हैं। वह हिमालय की बेटी थीं और उन्हें नंदी बैल पर सवार देवी के रूप में दर्शाया गया है। शैलपुत्री का प्रसिद्ध दुर्गा मंदिर या मंदिर मरहिया घाट, वाराणसी में स्थित है। नवरात्रि के पहले दिन, देश भर से श्रद्धालु माँ शैलपुत्री की पूजा करने के लिए यहाँ आते हैं। इस माँ दुर्गा मंदिर में नवरात्रि उत्सव के दौरान एक विशाल आरती का आयोजन किया जाता है।

2. ब्रह्मेश्वर मंदिर, वाराणसी


दूसरा दिन मां ब्रह्मचारिणी को समर्पित है। वह सफेद कपड़े पहनती है और पहाड़ों में तपस्या करती है। वह भयाकुल धार्मिक ज्ञान की देवी हैं। ब्रह्मेश्वर मंदिर माँ ब्रह्मचारिणी को समर्पित है। यह वाराणसी में गंगा घाट के किनारे स्थित है। एक अन्य प्रसिद्ध दुर्गा मंदिर काशी के सप्तसागर में बालाजी घाट पर गंगा नदी के किनारे मां ब्रह्मेश्वर मंदिर है।

3. चंद्रघंटा मंदिर, वाराणसी


मां चंद्रघंटा नव दुर्गा का तीसरा रूप हैं। उन्हें एक योद्धा देवी के रूप में दर्शाया गया है। उसकी तीसरी आंख खुली होती है और वह हाथों में अस्त्र धारण किए हुए हैं। उनकी सवारी एक बाघ की है। साहस और शौर्य की प्राप्ति के लिए मां चंद्रघंटा की पूजा की जाती है। उनका प्रसिद्ध नव दुर्गा मंदिर भी चंद्रघंटा मंदिर के नाम से वाराणसी में स्थित है।

4. कुष्मांडा मंदिर, कानपुर


देवी दुर्गा का चैथा रूप कुष्मांडा है। इनका नाम सौहार्द और शक्ति का एक लौकिक स्रोत दर्शाता है। शास्त्रों के अनुसार, इन्होनें अपनी मुस्कान से दुनिया का निर्माण किया। भक्त शक्ति और अच्छा स्वास्थ्य हासिल करने के लिए देवी कुष्मांडा से प्रार्थना करते हैं। प्रसिद्ध कुष्मांडा नव दुर्गा मंदिर कानपुर जिले के घाटमपुर शहर में स्थित है।

5. स्कंदमाता मंदिर, वाराणसी


स्कंदमाता युद्ध के देवता, कार्तिकेय की मां हैं। वह नव दुर्गा का पाँचवाँ रूप है और समृद्धि और ज्ञान की देवी है। उनके हाथ में कमल होता है और वह शेर की सवारी करती हैं। इस नव दुर्गा का प्रसिद्ध दुर्गा मंदिर वाराणसी के जैतपुरा में स्थित है। नवरात्रि पर्व के हर पांचवें दिन, इस मंदिर में विशेष पूजा और यज्ञ आयोजित किए जाते हैं।

6. कात्यायनी मंदिर, कर्नाटक


माँ कात्यायनी देवी दुर्गा का छठा और उग्र रूप हैं। वह कात्यायन के उपदेश से देवताओं के क्रोध से उत्पन्न हुईं थीं। उन्होनें राक्षस राजा महिषासुर का वध करके दुनिया को बचाया। भद्रकाली और महिषासुरमर्दिनी के रूप में जानी जाने वाली, वह अहंकार और नकारात्मकता के विनाश का प्रतीक है। उनका नव दुर्गा मंदिर कात्यायनी बाणेश्वर मंदिर है जो कर्नाटक के अवसेरा में स्थित है।

7. कालरात्रि मंदिर, वाराणसी


नव दुर्गा का सातवां और एक उग्र रूप मां कालरात्रि हैं। वह अज्ञान और अंधकार का नाश करने वाली है। वह गधे की सवारी करती हैं और रख्तबीज के विनाशक के रूप में प्रसिद्ध हैं। कालरात्रि का प्रसिद्ध नव दुर्गा मंदिर वाराणसी में स्थित है। नवरात्रि पर्व के सातवें दिन, माँ दुर्गा मंदिर में माँ कालरात्रि का आह्वान करने के लिए विशेष आरती और पूजा की जाती है।

8. महागौरी मंदिर, लुधियाना


देवी महागौरी, दुर्गा का आठवां स्वरूप हैं। वह अपने तीन हाथों में त्रिशूल, मुद्रा व डमरू रखती है और अपने चैथे हाथ से अपने भक्तों को आशीर्वाद देती है। उन्हें एक सफेद या हरे रंग की साड़ी पहने और एक बैल की सवारी करते हुए दर्शाया गया है। उनकी पूजा करने से मनुष्य की आत्मा शुद्ध होती है और सभी पापों से छुटकारा मिलता है। उनका प्रसिद्ध श्री सिद्ध शक्तिपीठ महागौरी मंदिर पंजाब के लुधियाना जिले में शिमलापुरी में स्थित है।

9. सिद्धिदात्री मंदिर, सागर


नवरात्रि पर्व का अंतिम दिन देवी दुर्गा के नौवें स्वरूप मां सिद्धिदात्री को समर्पित है। वह सभी सिद्धियों या पूर्णता की देवी हैं। यह माना जाता है कि भगवान शिव ने सृष्टि के लिए सभी अठारह सिद्धियों को प्राप्त करने के लिए उनकी पूजा की थी। उनकी पूजा करके और उनके तीर्थ पर जाकर व्यक्ति ज्ञान, बुद्धि और समृद्धि प्राप्त कर सकता है। प्रसिद्ध दुर्गा मंदिर जो देवी सिद्धिदात्री को समर्पित है, सागर, मध्य प्रदेश में स्थित है।

नव दुर्गा की आराधना आपके सभी दुखों का नाश कर सकती है और आपको शक्ति, धन, बुद्धि और समृद्धि प्रदान कर सकती है। नवरात्रि के नौ दिनों में मां दुर्गा का आशीर्वाद लेने के लिए नव दुर्गा पूजा करके उन्हें प्रसन्न करें। आप नव दुर्गा आरती से उनकी पूजा कर सकते हैं और उन्हें प्रसन्न करने के लिए शक्तिशाली नव दुर्गा मंत्र पढ़ सकते हैं। जय माता दी!


Leave a Comment

hindi
english