2020 चंद्रघंटा पूजा

date  2020
Ashburn, Virginia, United States

चंद्रघंटा पूजा

माँ चंद्रघंटा पूजा, उत्पत्ति, मान्यताएं और महत्व

नवरात्रि को सबसे महत्वपूर्ण और व्यापक रूप से लोकप्रिय उत्सव के रूप में माना जाता है जो देवी दुर्गा के नौ अलग-अलग रूपों की पूजा करने के लिए समर्पित है। नवरात्रि यानी 9 रातें जोकि 9 दिन तक चलने वाला उत्सव है जिसमें प्रत्येक दिन एक अलग महत्व रखता है। यह देवी दुर्गा और उनके नौ रूपों को समर्पित एक त्योहार है। प्रत्येक दिन माँ दुर्गा के एक रूप के साथ जुड़ा हुआ है।

मां दुर्गा के नौ अलग-अलग अवतारों के नाम शैलपुत्री, ब्रह्मचारिणी, चंद्रघंटा, कुष्मांडा, स्कंद माता, कात्यायनी, कालरात्रि, महागौरी और सिद्धिदात्री हैं।

नवरात्रि उत्सव का तीसरा दिन मां चंद्रघंटा को समर्पित है। माँ चन्द्रघंटा माँ पार्वती का विवाहित रूप है। भगवान शिव से विवाह करने के बाद मां पार्वती ने आधे चंद्रमा (चांद) को अपने माथे पर सजाया। यही कारण है कि देवी पार्वती को देवी चंद्रघंटा के रूप में जाना जाने लगा।

अवश्य पढ़ेंः माँ चंद्रघंटा आरती और कथा

उत्पत्ति

हिंदू मान्यताओं के अनुसार, देवी चंद्रघंटा को देवी दुर्गा का तीसरा अवतार माना जाता है, जिनकी नवरात्रि के तीसरे दिन भक्तों द्वारा पूजा की जाती है। पूर्ण समर्पित भाव से पूजा करने से जीवन में शांति, समृद्धि और खुशियां आती हैं। माना जाता है कि देवी के पास एक आधा चाँद उनके माथे पर घंटी के आकार में सुशोभित है। माना जाता है कि वह एक सुनहरे चमकीले रंग से बहुत ही आकर्षित होती हैं और शेर की सवारी करती है। उनके दस हाथों को भी दर्शाया गया है। अपनी बाईं चार भुजाओं में वह त्रिशूल, गदा, तलवार और कमंडल धारण करती है और पांचवीं बाईं भुजा वरद मुद्रा में होती है। अपनी चार दाहिनी भुजाओं में वह कमल का फूल, तीर, धनुष और जप माला धारण करती है। पाँचवाँ दाहिना हाथ अभय मुद्रा में होता है।

देखें: चैत्र नवरात्रि का कैलेंडर - चैत्र नवरात्रि के बारे में विस्तृत जानकारी

मान्यताएं

हिंदू धर्मग्रंथों के अनुसार माना जाता है कि, देवी चंद्रघंटा अपने भक्तों को शक्ति, वीरता और साहस का सर्वोत्तम आशीर्वाद देती हैं। उनका आशीर्वाद सभी पापों, शारीरिक कष्टों, मानसिक कष्टों और बाधाओं को समाप्त कर सकता है।

देवी चंद्रघंटा की कथा

हिंदू पौराणिक कथाओं और शिव महा पुराण के अनुसार, देवी चंद्रघंटा देवी पार्वती का विवाहित रूप है। भगवान शिव और देवी पार्वती के विवाह के बाद, भगवान महादेव ने देवी को एक चंद्रमा से सजाया था जोकि चंदन के साथ बनाया गया था और इसलिए, वह चंद्रघंटा के रूप में लोकप्रिय हो गईं। देवी पार्वती की पूजा देवी चंद्रघंटा के रूप में की जाती है जो क्षमा और शांति की देवी हैं।

देखें: शरद नवरात्रि का कैलेंडर - शारदीय नवरात्रि के बारे में विस्तृत जानकारी

hindi
english