2020 बहुला चतुर्थी

date  2020
Ashburn, Virginia, United States

बहुला चतुर्थी
Panchang for बहुला चतुर्थी
Choghadiya Muhurat on बहुला चतुर्थी

बहुला चतुर्थी व्रत कथा और उत्सव का महत्व

बहुला चतुर्थी या बोल चौथ को भारत के सांस्कृतिक त्यौहारों में से एक माना जाता है जहां किसान समुदाय, विशेष रूप से महिलाएं गाय की पूजा करती हैं। बहुला चतुर्थी त्यौहार श्रावण के महीने के दौरान भारत के लगभग सभी क्षेत्रों में मनाया जाता है। यह पवित्र त्यौहार मुख्य रूप से गुजरात में मनाया जाता है। हिन्दू धर्म में बछड़े और गायों दोनों की पूजा की जाती है। बहुला चतुर्थी के दिन गायों की पूजा श्रद्धालुओं को अच्छे भाग्य का आशीर्वाद देती है।

सभी भक्त किसी भी प्रकार के दूध या दूध उत्पाद का उपभोग नहीं करते हैं क्योंकि वे मानते हैं कि केवल बछड़ों को गाय के दूध का अधिकार है। भक्त भगवान कृष्ण की मूर्तियों या चित्रों की पूजा करते हैं जो गायों के साथ उनके सहयोग को दर्शाते हैं जिन्हें सुअभिस के नाम से जाना जाता है। किसान समुदाय के सभी भक्त सुबह जल्दी उठते हैं, छप्पर (गायों के रहने का स्थान) की साफ-सफाई करते हैं और इस मौके पर गायों व बछड़ों को नहलाते हैं। विभिन्न प्रकार के व्यंजन भी तैयार किए जाते हैं जो चावल से बने होते हैं और इन्हे इनको खिलाया जाता है।

क्या कहती है आपकी राशि ! जाने आपका आज का राशिफल हिंदी में

बहुला चतुर्थी कब है?

हिंदू कैलेंडर के अनुसार, बहुला चतुर्थी उत्सव श्रावण के महीने में कृष्ण पक्ष के चौथे दिन मनाया जाता है।

बहुला चतुर्थी के पीछे कहानी क्या है?

बहुला चतुर्थी के उत्सव और बहुला चतुर्थी व्रत को रखने के पीछे एक विशिष्ट कहानी है। बहुला चतुर्थी व्रत कथा गुजरात राज्य में बहुत महत्व रखती है।

बहुला नाम की एक गाय थी जो उसके बछड़े को खिलाने के लिए घर वापस आ रही थी। घर जाने के रास्ते में, उसे शेर का सामना करना पड़ा। बहुला मृत्यु से डर गयी लेकिन पर्याप्त साहस के साथ उसने शेर से कहा कि उसे अपने बछड़े को खाना खिलाना है। बहुला ने शेर से कहा कि वह उसे एक बार जाने दे वह बछड़े को खिलाएगी और उसके बाद वापस आ जाएगी, इसके बाद शेर उसे खा सकता है। शेर ने उसे मुक्त कर दिया और उसकी वापस आने की प्रतीक्षा की ।

बहुला ने अपने बछड़े को खिलाने के बाद वापसी की जिससे शेर हैरान हो गया। वह अपने बच्चे के प्रति गाय की प्रतिबद्धता से काफी चौंक गया और प्रभावित हुआ, इसलिए उसने उसे मुक्त कर दिया और उसे वापस जाने दिया।

यह दर्शाता है कि शेर की शारीरिक शक्ति, क्रोध और जुनून को भी, अपने बछड़े के प्रति गाय की देखभाल और प्यार के सामने झुकना पड़ा। उस विशेष दिन से, भक्त गाय के दूध का त्याग करके इसे केवल बछड़ों के लिए बचाते हैं और बहुला चतुर्थी का उत्सव मनाते हैं। यह पूजा का प्रतीक है जिसे देवताओं से आशीर्वाद पाने के लिए किया जाता है।

जाने बहुला चतुर्थी व्रत और कथा से जुडी समस्त जानकारिया ! बात करे हमारे प्रसिद्ध ज्योतिष से

बहुला चतुर्थी का उत्सव कैसे मनाया जाए?

  • बहुला चतुर्थी के पवित्र दिन पर, भक्त सुबह जल्दी उठते हैं, एक पवित्र स्नान करते हैं और फिर गायों के साथ-साथ बछड़ों को नहलाते हैं और उनके छप्पर (गायों के रहने का स्थान) को साफ करते हैं।
  • भक्त इस दिन बहुला चतुर्थी का उपवास रखते हैं। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, लोगों को चाकू से कटा हुआ या गेहूं से बना कुछ भी खाद्य पदार्थ उपभोग करने की अनुमति नहीं होती है।
  • प्रार्थनाओं के लिए, भक्त भगवान कृष्ण या भगवान विष्णु के मंदिरों में जाते हैं।
  • भक्त भगवान कृष्ण या भगवान विष्णु की मूर्तियों या चित्रों की पूजा करके घर पर प्रार्थनाएं भी कर सकते हैं। धूप, फल, फूल और चंदन का उपयोग देवता की पूजा के लिए किया जाता है।
  • भक्त भगवान विष्णु और भगवान कृष्ण के मंत्रों का उच्चारण करते हैं एवं ध्यान लगाते हैं।
  • संध्या के समय के दौरान, भक्त बछड़ों और गायों की पूजा करते हैं जिसे गोधुली पूजा के नाम से जाना जाता है।
  • अगर भक्तों के पास कोई गाय नहीं है तो वे गाय और बछड़े की तस्वीर की भी पूजा कर सकते हैं और उनकी प्रार्थना कर सकते हैं।

यह भी देखे: हम गणेश चतुर्थी क्यों मनाते हैं?

बहुला चतुर्थी पर कौन से मंत्रों का जप किया जाता है?

  • भगवान कृष्ण की पूजा करने के लिए 'हरे कृष्ण महा मंत्र' का जाप किया जाता है।
  • भगवान विष्णु की पूजा करने के लिए, 'ओम नमो भगवते वासुदेवया' मंत्र का उच्चारण किया जाता है।

hindi
english