Rashifal देव दिवाली
Rashifal राशिफल
Raj Yog राज योग
Yearly Horoscope 2021
Janam Kundali कुंडली
Kundali Matching मिलान
Tarot Reading टैरो
Personalized Predictions भविष्यवाणियाँ
Today Choghadiya चौघडिया
Anushthan अनुष्ठान
Rahu Kaal राहु कालम

2020 भाद्रपदा पूर्णिमा

date  2020
Kamarhati, West Bengal, India

भाद्रपदा पूर्णिमा
Panchang for भाद्रपदा पूर्णिमा
Choghadiya Muhurat on भाद्रपदा पूर्णिमा

 जन्म कुंडली

मूल्य: $ 49 $ 9

 ज्योतिषी से जानें

मूल्य:  $ 4.99 $3.5

भाद्रपद पूर्णिमा - महत्व और अनुष्ठान

भाद्रपद पूर्णिमा क्या है?

हिंदू कैलेंडर में भाद्रपद माह को सबसे शुभ महीनों में से एक माना जाता है। यह महीना भगवान गणेशजी के त्योहार के रूप में मनाया जाता है। लेकिन, भगवान सत्यनारायण से संबंधित इस दिन के अनुष्ठान के रूप में भाद्रपद पूर्णिमा से संबंधित एक अपवाद है।

मुख्य रूप से, यह त्योहार गुजरात राज्य में बहुत लोकप्रिय है और बहुत श्रद्धा के साथ मनाया जाता है। श्रद्धालु विशेष उपायों के साथ अम्बा देवी की पूजा करते हैं, और वहां एक मेला लगता है जो अंबाजी मंदिर में आयोजित किया जाता है। इस शुभ दिन पर पूरे राज्य से श्रद्धालू उनका आशीर्वाद लेने के लिए अंबाजी मंदिर में आते हैं।

भाद्रपद पूर्णिमा का महत्व

हिंदू पौराणिक कथाओं और कैलेंडर के अनुसार, हर हिंदू चंद्र महीने में एक अमावस्या (बिना चंद्रमा का दिन) और एक पूर्णिमा (सम्पूर्ण चंद्रमा का दिन) का दिन होता है। प्राचीन हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार पूर्णिमा का धार्मिक महत्व बहुत अधिक है। भाद्रपद पूर्णिमा को बहुत महत्व दिया जाता है क्योंकि यह भगवान विष्णु की पूजा से जुड़ी है। भाद्रपद पूर्णिमा के अगले दिन, पितृ पक्ष श्राद्ध शुरू होता है।

इस दिन को गृह प्रवेश के आयोजन के लिए बहुत शुभ माना जाता है और यह दिन भगवान विष्णु के अनुयायियों के लिए बहुत ही विशेष और पवित्र माना जाता है। अपने जीवन को बेहतर बनाने के लिए, भक्त इस दिन भगवान विष्णु का आशीर्वाद लेते हैं।

आज का सबसे शुभ समय (चौघड़िया समय) देखें।

भाद्रपद पूर्णिमा के अनुष्ठान

भाद्रपद पूर्णिमा के त्योहार के साथ कई अनुष्ठान जुड़े हुए हैं।

  • भाद्रपद पूर्णिमा पर भक्त जल्दी उठकर सुबह की रस्में पूरी करते हैं। ऐसा माना जाता है कि गंगा या नर्मदा जैसी पवित्र नदी में स्नान करने से भक्तों को भगवान विष्णु का आशीर्वाद मिलता है।
  • आमतौर पर ज्यादातर घरों में भाद्रपद पूर्णिमा के दिन सत्यनारायण पूजा आयोजित की जाती है। भगवान सत्यनारायण की मूर्ति को पंचामृत (शहद, दही, शक्कर, घी और दूध का मिश्रण) से स्नान कराया जाता है। भक्तों द्वारा भगवान सत्यनारायण को मिठाई और फल भी चढ़ाए जाते हैं।
  • पूजा के बाद, सत्यनारायण कथा का पाठ करना महत्वपूर्ण होता है, जिसे किसी के घर या दूसरे के घर में बहुत शुभ माना जाता है। इस दिन श्रद्धालू भगवान ब्रह्मा, भगवान विष्णु, भगवान शिव और देवी लक्ष्मी की अन्य कहानियों का भी पाठ करते हैं।
  • कई भक्त इस दिन भाद्रपद पूर्णिमा व्रत भी रखते हैं। पूरे दिन उपवास रखा जाता है, और इस दौरान केवल दूध से बने उत्पादों और फलों का सेवन किया जा सकता है। इस दिन व्रत रखने वाले भक्तों के लिए अनाज, दालें, नमक खाना वर्जित होता है।
  • भाद्रपद पूर्णिमा का दिन ‘महा मृत्युंजय हवन’ आयोजित करने के लिए भी उपयुक्त है। माना जाता है कि इस दिन हवन करने से भक्त अपने जीवन से सभी तरह की नकारात्मकता से छुटकारा पा सकते हैं।
  • यह भी माना जाता है कि भाद्रपद पूर्णिमा के दिन अगर जरूरतमंद लोगों को दान, अन्न, वस्त्र आदि दान किया जाए तो यह भी अत्यंत फलदायी हो सकता है।

भाद्रपद पूर्णिमा का जश्न

लोग अंबा देवी मंदिर में देवी अंबा देवी को प्रसन्न करने के लिए लोक नृत्य करते हैं ताकि भक्त अच्छे स्वास्थ्य और समृद्धि का आशीर्वाद प्राप्त कर सकें। भारतीय पौराणिक कथाओं के अनुसार जब भगवान विष्णु ने सती देवी के शरीर को काटा तो उनका दिल जिस जगह पर गिरा, यह वही स्थान है जहाँ यह मंदिर बना है।

पुरे वर्ष भर में पड़ने वाले पूर्णिमा व्रत

हिन्दू कैलेंडर जो की चैत्र माह (मार्च-अप्रैल) से प्रारम्भ होता है के अनुसार वर्षभर में पड़ने वाली पूर्णिमा निम्नानुसार है:-

क्र. सं. हिंदू महीना पूर्णिमा व्रत नाम अन्य नाम या उसी दिन के त्यौहार
1 चैत्र चैत्र पूर्णिमा हनुमान जयंती
2 वैशाख वैशाख पूर्णिमा बुद्ध पूर्णिमा, कूर्म जयंती
3 ज्येष्ठ ज्येष्ठ पूर्णिमा वट पूर्णिमा व्रत
4 आषाढ़ आषाढ़ पूर्णिमा गुरु पूर्णिमा, व्यास पूजा
5 श्रावण श्रावण पूर्णिमा रक्षाबंधन, गायत्री जयंती
6 भाद्रपद भाद्रपद पूर्णिमा पूर्णिमा श्राद्ध, पितृपक्ष आरंभ
7 अश्विन आश्विन पूर्णिमा शरद पूर्णिमा, कोजागरा पूजा
8 कार्तिक कार्तिक पूर्णिमा देव दीपावली
9 मार्गशीर्ष मार्गशीर्ष पूर्णिमा दत्तात्रेय जयंती
10 पौष पौष पूर्णिमा शाकंभरी पूर्णिमा
11 माघ माघ पूर्णिमा गुरु रविदास जयंती
12 फाल्गुन फाल्गुन पूर्णिमा होलिका दहन, वसंत पूर्णिमा

hindi
english